ISRO experimenting with potential structures for lunar habitation

In its second mission, Chandrayaan-2 will be made to land on the moon’s yet-unexplored south pole.

The Indian Space Research Organisation is experimenting with potential structures for lunar habitation, the government today told the Lok Sabha.

In a written response to a question in the Lok Sabha, Jitendra Singh, minister of state in the Prime Minister’s Office that looks after the Department of Space, said, “The ISRO, along with academic institutions, is doing experimentation on potential structures for lunar habitation.”

The minister was responding to a question on whether the ISRO has started working on building igloo-like habitats on the lunar surface for potential future missions.

An igloo is a shelter, a place for people to stay warm and dry made from blocks of snow placed on top of each other.

“Various options are being studied about the requirements and complexities of habitats. The study is more towards futuristic developments,” Singh said.

ISRO had first launched its Moon mission Chandrayaan-1 in 2008. In its second mission — the Chandrayaan-2— a rover will be made to land on the moon’s yet-unexplored south pole. The rover will send high-quality pictures that will help in better understanding the moon.

India joins Europe’s satellite data sharing pool

India has joined Europe’s mega global arrangement of sharing data from Earth observation satellites, called Copernicus.

Data from a band of Indian remote sensing satellites will be available to the European Copernicus programme while designated Indian institutional users will in return get to access free data from Europe’s six Sentinel satellites and those of other space agencies that are part of the programme, at their cost.

The space-based information will be used for forecasting disasters, providing emergency response and rescue of people during disasters; to glean land, ocean data; and for issues of security, agriculture, climate change and atmosphere, according to a statement issued by the European Commission here.

The agreement was signed in Bengaluru on Monday by Philippe Brunet, Director for Space Policy, Copernicus and Defence, on behalf of the EC and by P.G. Diwakar, Scientific Secretary, Indian Space Research Organisation.

The multi-billion-euro Copernicus is Europe’s system for monitoring the Earth using satellite data. It is coordinated and managed by the EC.

Wide range

The free and open data policy is said to have a wide range of applications that can attract users in Europe and outside. The Copernicus emergency response mapping system was activated on at least two Indian occasions — during the 2014 floods in Andhra Pradesh in October 2014 and after the 2013 storm in Odisha.

“Under this arrangement, the European Commission intends to provide India with free, full and open access to the data from the Copernicus Sentinel family of satellites using high bandwidth connections. Reciprocally the Department of Space will provide the Copernicus programme and its participating states with a free, full and open access to the data from ISRO’s land, ocean and atmospheric series of civilian satellites (Oceansat-2, Megha-Tropiques, Scatsat-1, SARAL, INSAT-3D, INSAT-3DR) with the exception of commercial high-resolution satellites data,” EC said.

The arrangement includes technical assistance for setting up high bandwidth connections with ISRO sites, mirror servers, data storage and archival facilities.

Husband, wife are not co-owners by default: I-T tribunal

‘Not equal in claiming tax exemptions’

A husband and wife may well be equal partners, sharing the joys and sorrows equally, but they are certainly not equal in claiming tax exemptions. Such exemptions, if any, are only based on relevant documents and not on anything else, according to income tax authorities.

This fact came to the fore recently when a Bengaluru-based couple came knocking at the Income Tax Appellate Tribunal after their joint claim for long-term capital gains (LTCG) exemption on gains arising from the sale of a property was rejected by a tax officer.

While the couple claimed that they jointly invested in the construction of the property and even declared the rent income and sale proceeds equally in their tax returns, the authorities said that since the earlier agreement and the subsequent sale deed were solely in the name of the husband, no such joint claim can be accepted.

The matter dates back to 1986, when the man purchased a land and then constructed a residential property in which he claimed that he and his wife contributed equally.

Thereafter, the property was let out and the rent was again shared equally between the husband and the wife, with both declaring the same in their annual returns as well.

Subsequently, when the property was sold, the gains were shared equally in their filings for tax purposes.

Tax authorities, however, denied the claim of the wife and taxed the entire gains in the hands of the husband. The tax officer’s contention was that the wife’s name was not on the earlier agreement of purchase and also the subsequent sale deed.

According to a note by PwC, which is one of the ‘Big Four’ consultancy firms, the husband stated that the residential property was jointly held, but could not produce any proof to support his claim that his wife contributed towards the purchase.

Malaysian citizen

Further, while the wife was a Malaysian citizen when the property was purchased, she did not have any documents to prove that she sought permission from the Reserve Bank of India (RBI) before purchasing the property.

While hearing the matter, the Bangalore Bench of the Tribunal upheld the tax officer’s stand while noting that the purchase deed and the subsequent sale deed did not mention the wife’s name as either owner or co-owner.

“This ruling of the Tribunal highlights that co-ownership in a property can only be considered from the recitals of the relevant documents and not from any stated intention or claim made, which is legally unsustainable,” tax advisory firm PwC said in the note.

Five militants killed in Kupwara

Two policemen and three jawans also lost their lives in the encounter.

Five militants have been killed and five security personnel lost their lives in an ongoing gunfight in north Kashmir’s Kupwara district on Wednesday.

“Earlier [in the day], three bodies of the militants were recovered. The fourth body of a militant was also spotted at the encounter site in Kupwara. The firing continued [till late Wednesday evening],” said Director General of Police S.P. Vaid.

Late in the evening, a Srinagar-based spokesman confirmed that a fifth militant was “neutralised” at the encounter site. All slain militants, according to the police, were “foreigners and part of a recently infiltrated group”.

“Owing to the thick vegetation and low visibility, the mopping operation is heading slowly in the area and with due caution,” said the police spokesman. “Incriminating documents have also been seized from the slain militants,” he added.

The bodies recovered were strapped with weapons and ammunition, including live grenades, said the police.

A fresh gunfight started on Wednesday morning after an intermittent exchange of fire during the night in Kupwara’s dense forest area of Check Fatehkhan in Halmatpora range.

Officials said the group of militants, which attacked on Army’s domination domination patrol on Tuesday afternoon, “resumed target fire during the day and were holed up in natural caves offered by the mountain range in the area.” The militants fanned out in different directions and “positioned at multiple points”, they said.

According to the spokesmen of the Army and the police, two policeman and three army jawans were also killed in the fierce exchange of fire.

The deceased personnel were identified as Mohammad Ashraf Rather and Naik Ranjeet Singh of 160 battalion of the Territorial Army, and Special Police Officer Mohammad Yousuf Cheche and policeman Deepak Thesoo. The identity of third deceased Army jawan could not be ascertained.

One policeman of the Special Operation Group (SOG) was also injured and “is stated to be stable”.

The Army’s elite force, Para Commandos, have also been brought in to wrap up the encounter. Kupwara is over 110 km north of Srinagar and is a frontier district, close to the Line of Control.

Meanwhile, Chief Minister Mehbooba Mufti expressed solidarity with the bereaved families of the deceased personnel.

Early general election possible in 2018, says Nomura

Political events may stall reform push’

A series of political developments over the last few weeks has placed the Bharatiya Janata Party (BJP) on the back foot and an early general election in the fourth quarter of 2018 cannot be ruled out, according to global financial major Nomura.

In its latest ‘Asia Insights’ report, the Tokya-based financial services firm says that while the Centre may not breach its 2018-19 fiscal deficit target of 3.3% of gross domestic product, greater capital requirements for bank recapitalisation and State-level farm loan waivers could lead to increased debt burden and a higher general government (Centre and States combined) fiscal deficit.

‘Populist overtone’

“From an economic perspective, this suggests that big-ticket reforms are less likely and a populist overtone is more likely as the government raises its pro-farmer, pro-common man profile via higher minimum support prices (MSPs) and fiscal transfers that ensure that MSPs are effective, increasing both inflation and fiscal risks,” Nomura said.

“We were leaning towards the view that concerns over the current account deficit, fiscal slippage and rising inflation were beginning to be priced in, but the risks around politics have turned less favourable for markets after the by-election losses in Uttar Pradesh,” it added.

Interestingly, Nomura is of the view that there is a 25% probability of an early general election, clubbed with State elections scheduled in the fourth quarter of 2018 and the first half of 2019. Rajasthan, Chhattisgarh and Madhya Pradesh will go to the polls in that period.

The financial major opines that the political developments are proving to be irritants for the BJP-led central government due to which big-ticket reforms would be difficult. The focus was instead likely to turn towards implementation along with restrained populism, Nomura added.

आप कभी अमीर बनेंगे या नहीं, इस तरीके से तुरंत हो सकता है मालूम

यूटिलिटी डेस्क. ज्योतिष की मान्यता है कि कुंडली में कुछ विशेष योग होते हैं, जिनके प्रभाव से कोई व्यक्ति धनवान बनता है। यहां जानिए ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार भृगु संहिता में बताए गए कुंडली में कुछ ऐसे योग जो व्यक्ति को धनवान बना सकते हैं…

ये हैं धनवान बनाने वाले कुंडली के योग

– जन्म कुंडली का दूसरा घर या भाव धन को दर्शाता है। कुंडली का दूसरा भाव धन, खजाना, सोना, मोती, चांदी, हीरे आदि से संबंधित है। साथ ही, व्यक्ति के पास कितनी स्थाई संपत्ति जैसे घर, भवन-भूमि होगी, दूसरे भाव से इस बात पर विचार किया जाता है।

– जिस व्यक्ति की कुंडली में द्वितीय भाव में कोई शुभ ग्रह हो या शुभ ग्रहों की दृष्टि हो, उसे धन प्राप्त होता है।

– अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध द्वितीय भाव में हो और उस पर चंद्र की दृष्टि हो तो व्यक्ति कड़ी मेहनत के बाद भी आसानी से अमीर नहीं बन पाता है।

– अगर किसी व्यक्ति की कुंडली के द्वितीय भाव में चंद्रमा हो तो वह धनवान बनता है।

– यदि द्वितीय भाव के चंद्र पर नीच के बुध की दृष्टि पड़ जाए तो उस व्यक्ति के परिवार का धन नष्ट हो जाता है।

– यदि चंद्रमा अकेला हो और कोई भी ग्रह उससे द्वितीय या द्वादश न हो तो व्यक्ति आजीवन गरीब ही रहता है। ऐसे व्यक्ति को आजीवन अत्यधिक परिश्रम करना होता है, लेकिन वह अधिक पैसा नहीं प्राप्त कर पाता।

– यदि द्वितीय भाव में किसी पाप ग्रह की दृष्टि हो तो व्यक्ति धनहीन होता है।

इस AC को कितना भी करें यूज, नहीं आएगा बिजली बिल, हर महीने बचेंगे हजारों रुपए

यूटिलिटी डेस्क। सोलर प्रोडक्ट मैन्युफैक्चर कंपनी बेलिफल इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड ने सोलर से चलने वाला एयर कंडीशन (AC) बनाया है। ये AC इलेक्ट्रिसिटी के बिना ही चलता है। यानी इसे यूज करने पर किसी तरह का बिजली बिल नहीं आएगा। कंपनी ने 1 टन और 1.5 टन कैपेसिटी वाले 2 अलग-अलग AC निकाले हैं। यानी कमरे के साइज और जरूरत को देखते हुए इन AC का यूज किया जा सकता है।

# इतने रुपए की होगी सेविंग

इंडिया में बिजली से चलने वाले AC की बड़ी रेंज मौजूद है। इनमें 2 स्टार से लेकर 5 स्टार रेटिंग वाले AC शामिल हैं। 2 स्टार का बिजली बिल ज्यादा आता है, तो वहीं 5 स्टार का कम। यदि AC 2 स्टार है तब वो सिर्फ एक रात में 8 से 10 यूनिट की खपत करता है। यानी महीने में 250 से 300 यूनिट एक्स्ट्रा हो सकती हैं। दूसरी तरफ, 5 स्टार AC से ये यूनिट 200 के अंदर ही रहती हैं।

भोपाल (MP) में 1 यूनिट की कीमत करीब 7 रुपए है। ऐसे में यदि मंथली यूनिट 100 से ज्यादा होती हैं तब उसका चार्ज भी बढ़ जाता है। जैसे, यहां 378 यूनिट पर 2770 रुपए का बिजली बिल आया। यानी एक यूनिट का औसत खर्च 7.33 रुपए है। ऐसे में यदि AC से 300 यूनिट की खपत होती है तब कम से कम 2,199 रुपए का एक्स्ट्रा बिल आएगा।

# इतनी है कीमत

Belifal के 1 टन वाले सोलर AC की कीमत 1.99 लाख रुपए है। वहीं, 1.5 टन वाले सोलर AC की प्राइस 2.49 लाख रुपए है। ये AC पूरी तरह सोलर सिस्टम पर काम करते हैं। यानी इसकी इंडोर और आउटडोर यूनिट DC पर काम करती हैं।

ये AC पूरी तरह से DC वोल्ट पर काम करता है। इसकी दोनों यूनिट DC को सपोर्ट करती हैं। इसके इनवर्टर में लोवर पावर कंजप्शन टेक्नोलॉजी का यूज किया गया है। ये 48VDC के सोलर सिस्टम पर काम करता है। कंपनी इसके साथ 1500वाट्स का सोलर पैनल और 12V 100Ah बैटरी (6 प्लेट्स) दे रही है। सोलर पैनल इतना पावरफुल है कि ये बैटरी को तेजी से चार्ज करता है।

बेड पर आपकी फेवरेट पॉजिशन क्या है? शाहिद कपूर की पत्नी ने दिया ये जवाब

शाहिद कपूर पत्नी मीरा राजपूत के साथ नेहा धूपिया के चैट शो ‘वोग न्यू बीएफएफ’ पर पहुंचे।

मुंबई.शाहिद कपूर पत्नी मीरा राजपूत के साथ नेहा धूपिया के चैट शो ‘वोग न्यू बीएफएफ’ पर पहुंचे। इस दौरान दोनों ने अपनी लाइफ से जुड़ी कई रोचक बातें शेयर की। नेहा धूपिया ने जब दोनों से उनकी सेक्स लाइफ पर सवाल किया तो शाहिद ने शर्माते हुए इसे नजरअंदाज करने की कोशिश की। उन्होंने मीरा को भी चुप रहने का इशारा किया। वे जवाब दिए बगैर नहीं रह सकीं। क्या था नेहा का सवाल और क्या दिया मीरा ने जवाब…

 

– नेहा ने शाहिद और मीरा से सवाल किया था कि बेड पर उनकी फेवरेट पॉजिशन कौन सी होती है? जाहिर सी बात है ऐसे पर्सनल सवालों का जवाब देने में सबको आसानी नहीं होती। इस वजह से शाहिद ने इसे इग्नोर कर दिया और मीरा को इशारा किया कि वे भी सवाल को अवॉयड कर दें।
– लेकिन मीरा ने जवाब दिया। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि वे शाहिद कंट्रोल फ्रीक हैं। वे हमेशा मुझसे कहते हैं कि क्या करना है।”

शाहिद बोले- ‘एक महिला ने मुझे चीट किया’

– शो के दौरान नेहा ने शाहिद से पूछा कि क्या कभी किसी महिला ने उन्हें चीट किया? इस दौरान मीरा ने नेहा से सवाल में कुछ बदलाव करने को कहा।
– तब नेहा ने शाहिद से पूछा कि उन्हें कितनी महिलाओं ने धोखा दिया। जवाब में शाहिद ने कहा, “एक के बारे में मैं निश्चित हूं और दूसरी को लेकर मुझे डाउट है।”
– शाहिद ने नाम नहीं लिया। लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि उनका इशारा करीना कपूर की ओर था, जो जब सैफ अली खान के नजदीक आईं, तब शाहिद को डेट कर रही थीं।

ऐसी है मीरा और 13 साल बड़े शाहिद की लव स्टोरी

– शाहिद कपूर और उनके पिता धार्मिक संगठन राधा स्वामी सत्संग व्यास पीठ के फॉलोअर हैं। दोनों सत्संग में हिस्सा लेने दिल्ली जाया करते थे। मीरा और उनकी फैमिली भी इस व्यास पीठ की अनुयायी है। लिहाजा सत्संग के दौरान के दौरान हुईं दोनों की मुलाकातें प्यार में तब्दील गई।
-मीरा राजपूत ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्री राम कॉलेज से इंग्लिश ऑनर्स की पढ़ाई की है। वह शाहिद से 13 साल छोटी हैं। दोनों ने जुलाई, 2015 में शादी की थी।वैसे, एक वक्त था जब मीरा इस शादी के लिए तैयार नहीं थीं। इसका कारण उनकी और शाहिद की उम्र में बड़ा अंतर ही था।

मीरा ने शादी के लिए रखी थी यह शर्त

– एक इंटरव्यू में शाहिद ने खुलासा किया था कि मीरा ने उनसे शादी के पहले एक शर्त रखी थी, जिसमें कहा कि उन्हें अपने बाल पहले की तरह रखने होंगे तभी वह उनसे शादी करेंगी।
– दरअसल दोनों की पहली मुलाकात फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ की शूटिंग के दौरान हुई थी और इसमें शाहिद के बाल काफी बढ़े हुए थे। इसके अलावा मीरा ने शाहिद से प्रॉमिस लिया कि जब उनकी शादी होगी तो शाहिद के बालों का कलर नार्मल होगा।

शाहिद को शादू कहती हैं मीरा

– खबरों की मानें तो मीरा ने शाहिद कपूर को डायरेक्ट नाम से नहीं बुलातीं। वे उन्हें ‘शादू’ कहकर बुलाती हैं।
– मीरा को म्यूजिक सुनना पसंद है और वे बॉलीवुड सिंगर्स के अलावा अवरिल लाविंगे, ब्योंस और डेमी लोवाटो सहित कई विदेशी सिंगर्स की फैन हैं।

तो पोर्न स्टार बन जाती राष्ट्रपति ट्रंप के बच्चे की मां, पोलीग्राफ टेस्ट में सामने आया चौंकाने वाला सच

पोर्न स्टार स्टॉर्मी डेनियल्स (असली नाम स्टेफनी क्लिफोर्ड) द्वारा डोनाल्ड ट्रंपर संबंध बनाने के आरोप सच हुए है। हाल ही में इस पोर्न स्टार का लाई डिटेक्टर टेस्ट (पोलीग्राफ टेस्ट) हुआ जिसमें बेहद चौंकाने वाली बाते सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लाई डिटेक्टर टेस्ट में जब पोर्न स्टार से पूछा गया कि क्या उन्होंने डोनाल्ड ट्रंप के साथ सेक्स क्या है तो उनके हां कहते ही पोलीग्राफ ने उन्हें सच साबित कर दिया। पूछे गए ऐसे-ऐसे सवाल…

पोर्न स्टार के वकील ने सीएनन को बताया कि डॉक्टर्स की टीम ने स्टॉर्मी से तीन प्रमुख सवाल पूछे। पहला, कि क्या जुलाई 2006 में आपने डोनाल्ड ट्रंप के साथ सेक्स किया था? दूसरा, कि क्या आपने जुलाई 2006 में डोनाल्ड ट्रंप से असुरक्षित संबंध बनाए थे? तीसरा, कि क्या डोनाल्ड ट्रंप ने आपको अप्रेंटिस में कास्ट करने की बात कही थी?। इन तीनों सवालों के जवाब में पोर्न स्टार ने हां कहा, जो कि सच पाए गए। टेस्ट में उनके झूठ बोलने की संभावना 1 प्रतिशत बताई गई। माना जा रहा है कि इस पोलीग्राफ टेस्ट से अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टेस्ट रिजल्ट के आने के बाद ट्रंप के समर्थक हैरान हैं, वहीं उनके विरोधियों का कहना है कि पोर्न स्टार ट्रंप के बच्चे की मां भी बन सकती थी।

क्या है पूरा मामला

-असल में इसके पीछे की वजह है एक बड़ा खुलासा जो खुद इस पोर्न स्टार ने किया था। आपको बता दें कि स्टेफनी क्लिफोर्ड ने खुलासा किया था कि उनके अमेरिकी प्रेसीडेंट डोनाल्ड ट्रंप से संबंध थे। इतना ही नहीं ट्रंप ने मुंह बंद रखने के लिए पोर्न स्टार 130,000 डॉलर (करीब 90 लाख रु) दिए थे। उनका ये अफेयर तब शुरू हुआ जब ट्रंप की वाइफ मेलानिया बेटे को जन्म दिया था। पोर्न स्टार ने कहा कि ट्रंप के बेटे के जन्म के चार महीने बाद दोनों के संबंध बने थे।

होटल में बने थे ट्रंप से संबंध
– क्लिफोर्ड ने बताया था कि उन्होंने 2006 में ट्रंप के साथ एनवी होटल में ट्रंप के साथ शारीरिक संबंध बनाए थे। साथ ही ट्रंप ने उनसे वादा किया था कि वो उन्हें The Apprentice रिऐलिटी शो में भी कास्ट करेंगे। क्लिफोर्ड ने बताया कि ट्रंप ने एक बार मुझे ये भी कहा था कि मैं उनकी बेटी की ही तरह स्मार्ट और खूबसूरत हूं।

बिल ने तीन दिन पहले ही ये कह दिया था कि उनकी बेटी स्टॉर्मी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से जरूरी संबंध बनाए होंगे और अब बार-बार ट्रंप का नाम उछालकर वो अपनी जान खतरे में डाल रही है।

बिल ने बताया कि स्ट्रॉमी एक बेहतरीन स्टूडेंट थी लेकिन पैसे और फेम के चक्कर में उसने ये गंदा काम शुरू कर दिया। बिल ने आगे बताया कि 15 साल पहले स्टॉर्मी ने घर से नाता तोड़ लिया था और वो अपनी बच्ची से भी किसी को नहीं मिलने देती।