Bikini-clad Selena Gomez reveals leg scar from complications during her kidney transplant… as she soaks up the sun in Sydney Harbour before playfully MOUNTING her female pal on a boat

Singer, 25, has a scar high up on her inner right thigh from a ruptured artery she had following the kidney transplant that saved her life in September 2017

She was rushed back into surgery to have a vein removed from her right inner thigh to build a new artery and keep the kidney transplant in place

She’s just touched down in Sydney ahead of the Hillsong Church’s Colour Conference – a festival her former beau Justin Bieber attends annually.

But newly-single Selena Gomez was surrounded pals on Monday, as she showed her affections for one female friend in particular on the top deck of a luxury boat in Sydney’s Harbour, playfully mounting her and giggling as they shared an cuddle.

The 25-year-old Texan native showed off her figure in a two-piece bikini, revealing a prominent scar on her inner her right thigh, obtained during a second emergency procedure that followed her 2017 kidney transplant.

Pairing a bright orange bikini top with plain black bottoms, the singing sensation was accompanied by friends on the cruise.

Her former flame Justin Bieber was nowhere to be seen as she laughed and joked with gal pals on the day out.

At one time, Selena was seen crawling over to her friend, and then lying on top of her with arms open, ready for an embrace.

The mischievous brunette then let out a gleeful smile as her friend, who was resting on her back in a black bikini, returned the enthusiastic squeeze.
Though she was clearly besotted with her mate, it was not the same altruistic friend who became Selena’s organ donor in summer 2017.

Actress Francia Raisa gave Selena one of her kidneys in summer 2017, following the singer’s battle with lupus.

Selena, who underwent a kidney transplant in September last year, first showcased her sizable surgery scar while holidaying in Mexico in December.

However Selena was now displaying the mark that the surgery left behind last September.

यहां पर आया गजब का कानून! 2 पत्नियां रखने पर सरकार देगी मकान भत्ता

संयुक्त अरब अमीरात ने एक अजीब कानून शुरु किया है जिसके तहत दो पत्नियां रखने पर सरकार कई तरह की सुविधाएं दे रही है। यहां की सरकार ने दो पत्नियां रखने वाले लोगों के लिए अतिरिक्त मकान भत्ता देने की घोषणा की है।

इस देश में अविवाहित लड़कियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सरकार ने लोगों को दूसरी शादी करने को प्रोत्साहित करने के लिए यह स्कीम जारी की है। UAE के बुनियादी ढांचा विकास मंत्री डॉ. अब्दुल्ला बेलहैफ अल नुईमी ने फेडरल नेशनल कौंसिंल (FNC) के सत्र के दौरान यह घोषणा की है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने यह निर्णय लिया है कि दो पत्नियां रखने वाले सभी लोगों को शेख जायद हाउसिंग कार्यक्रम के तहत मकान भत्ता दिया जाएगा।

उनके मुताबिक असल में यह दूसरी पत्नी के लिए मकान भत्ता होगा। यह एक पत्नी वाले परिवार को पहले से मिल रहे मकान भत्ते के अतिरिक्त होगा। मंत्री ने कहा कि दूसरी पत्नी के लिए भी उसी तरह के रहन-सहन की व्यवस्था होनी चाहिए, जैसा कि पहली बीवी के लिए होता है।

मंत्री ने कहा कि मकान भत्ता देने से लोग दूसरी शादी करने को प्रोत्साहित होंगे और UAE में अविवाहित महिलाओं की संख्या घटेगी। मंत्रालय यह चाहता है कि दूसरी बीवी को भी पहले बीवी की तरह ही मकान मिले।

गजब है इस चायवाले की इनकम! चाय बेचकर एक महीने में कमाता है 12 लाख

अभी तक आपने चाय वालों के बहुत ही चर्चे सुने होंगे जो आश्चर्य में डाल देने वाले होते हैं। ऐसा ही एक और वाकया सामने आया है जिसके बारे में सुनकर हर कोई हैरान है। यह चाय वाला चाय बेचकर इतनी कमाई कर रहा है जितनी बड़े—बड़े बिजनेसमैन भी नहीं करते है। इतना ही बल्कि यह चायवाला कोई आम चायवाला नहीं बल्कि महाराष्ट्र का सबसे अमीर चायवालाहै। यह चायवाला एक महीने में 12 लाख रुपए कमाता है। आपको बता दें कि यह शख्स पुणे के नवनाथ येवले हैं जिनकी येवले टी स्टॉल नाम से बहुत फेमस टी स्टाल है। इस टी स्टाल पर एक दिन में हजारों कप चाय बिकती है।

उफ! ये गर्मी: भारत में ज्यादातर तीन टंगड़ी वाले पंखे ही क्यों चलते हैं? वजह बेहद दिलचस्प है

गर्मी ने दस्तक दे दी है। पंखे, कूलर और एसी धीरे-धीरे रफ्तार पकडऩे लगे हैं। लेकिन यहां हम बात करेंगे सेलिंग फैन की, जिसका घर-घर प्रशंसक(फैन) है। जी हां, चाहे घर में कूलर चले या एसी, कमरों के ऊपर बेचारे तीन टंगड़ी वाले फैन की सांसें बराबर चलती रहती हैं। इसे सुकून या इसके कलेजे में ठंडक तभी पहुंचती है, जब बिजली (गुल) मेहरबान होती है। आजकल सेलिंग फैन में भी काफी एक्सपेरिमेंट देखने को मिल रहे हैं। इनकी पंखियों को बेहद स्टाइलिश लुक देने में लगी हुई हैं कंपनियां। खैर, पंखियों को चाहे कितना भी स्टाइलिश बना दो, उनका काम  तो सिर्फ ठंडक देना ही है।

फिर बात चाहे देसी पंखे की हो और विदेशी पंखे की…।तक बैंड होती हैं, जो हवा देने का काम करती हैं। अब जरो सोचिए कि सबसे ज्यादा हवा कौन-सा पंखा देगा, तीन पत्ती वाला या चार पत्ती वाला। बता दें कि तीन पत्ती वाली देसी फैन है, जबकि चार पत्ती वाला विदेशी फैन। यहां सवाल यह भी उठता है कि भारत मेंं 99 प्रतिशत तीन पत्ती वाले पंखे ही क्यों चलते हैं और विदेशों में चार पत्ती वाले पंखे?

वैसे आपने इस बारे में कभी सोचा भी नहीं होगा कि पंखे में तीन और चार पत्ती वाले क्यों होते हैं? बेशक, आपने पंखें की पत्तियों की संख्या पर गौर किया न हो, लेकिन इनकी कम या ज्यादा पत्तियां होने के पीछे ठोस वजह है।के सप्लीमेंट के रूप में इस्तेमाल किए जाते हैं, जिनका मकसद एसी की हवा को पूरे कमरे में फैलाना होता है। चूंकि 4 पत्ती वाले पंखे 3 पत्ती वाले पंखे की तुलना में धीमे चलते हैं, इसलिए इनकी वजह से यह काम आसान हो जाता है।

ऐसे में यदि भारत में चार पत्ती वाले पंखे इस्तेमाल होने लगे, तो यहां गर्मी में लोगों का जीना मुहाल हो जाएगा। वैसे भी भारत में पंखा का मतलब ज्यादा से ज्यादा हवा दे। तीन पत्ती वाला फैन हल्का होता है और चलने में इसकी रफ्तार तेज होती है और इससे हवा भी तेज मिलती है। वैसे अब भारत में भी पंखे को एसी के सप्लीमेंट के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा है…। ऐसे में आप अपने एसी वाले कमरे में ४ पत्ती वाला फैल लगवा सकते हैं…यह धीमा चलेगा और इससे बिजली भी ज्यादा खपत नहीं होती।

13 की उम्र में हुआ था सलमान की इस Ex-गर्लफ्रेंड का रेप, अब कर रही ये काम

मुंबई.पॉप सिंगर दलेर मेहंदी को 14 साल पुराने में ह्यूमन ट्रैफिकिंग के मामले में 2 साल कैद की सजा सुनाई गई। हालांकि, उन्हें इसके बाद जमानत भी मिल गई। वैसे, बॉलीवुड की एक एक्ट्रेस ऐसी भी हुई है, जिसने ह्यूमन ट्रैफिकिंग जैसे क्राइम का शिकार हुए लोगों के लिए ‘नो मोर टियर’ नाम की संस्था शुरू की। यह एक्ट्रेस कोई और नहीं, बल्कि सलमान खान की गर्लफ्रेंड रह चुकीं सोमी अली हैं।5 की उम्र में सेक्शुअली अब्यूज तो 13 की उम्र में हुई थीं रेप की शिकार…

– पाकिस्तानी मूल की एक्ट्रेस सोमी अली ने एक इंटरव्यू के दौरान खुलासा किया था, “मैं कई तरह के डोमेस्टिक वायलेंस सहते-सहते बड़ी हुई हूं। जब मैं पांच साल की थी, तब मुझे सेक्शुअली अब्यूज किया गया। 12 साल की उम्र में मैं यूएस शिफ्ट हो गई और 13 की उम्र में मेरा रेप किया गया।”
– “मैं हमेशा ऐसे अब्यूज का सामना किया और गवाह भी बनी। हमेशा से इस तरह के क्राइम से पीड़ित महिला, पुरुष और बच्चों के लिए कुछ करना चाहती थी।”
– बता दें कि 2007 में सोमी ने संस्था ‘नो मोर टियर’ शुरू की। वे कहती हैं कि संस्था की शुरुआत उन्होंने डोमेस्टिक वायलेंस के शिकार लोगों की मदद के लिए की थी।
– बकौल सोमी, “यह संस्था मियामी बेस्ड है और यह ह्यूमन ट्रैफिकिंग के मामले में देश (अमेरिका) का सबसे घटिया शहर है। इसी शहर की वजह से मैंने अपनी संस्था के तहत मैंने सेक्स ट्रैफिकिंग और इसी के जैसे दूसरे क्राइम के शिकार लोगों के लिए भी काम करना शुरू किया।”
– सोमी कहती है कि कई महिलाओं को मिडिल ईस्ट, साउथ एशिया और दुनिया के दूसरे हिस्सों से खरीदकर यूएस लाया जाता है, जो बाद में सेक्शुअल और फिजिकल वायलेंस की शिकार होती हैं।
– सोमी के मुताबिक, पिछले 10 सालों में उनकी संस्था ने हजारों महिलाओं,पुरुषों और बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने का कम किया है। इनमें से कई शादीशुदा महिलाएं, जिन्हें उनके पति ने सेक्स के लिए यूज कर बेच दिया तो कई ऐसे लड़के-लडकियां शामिल हैं, जो अपने ही घर में सेक्शुअली अब्यूज हुए और घर से भागने के बाद दलाओं के हत्थे चढ़ गए। इनमें से ज्यादातर इंडिया,पाकिस्तान और मिडिल ईस्ट के विक्टिम्स शामिल हैं।

एक्ट्रेस का पहला प्यार थे सलमान खान

– एक पुराने इंटरव्यू में सोमी ने सलमान के साथ अपने रिश्ते पर खुलकर बात की थी। सोमी ने इस इंटरव्यू में कहा था कि सलमान उनके पहले ब्वॉयफ्रेंड थे। लेकिन ऐश्वर्या राय बीच में आईं और उनका रिश्ता टूट गया।
– बकौल सोमी, “सलमान पर मेरा क्रश उस वक्त हो गया था, जब मैं टीनेजर थी। यही क्रश मुझे फ्लोरिडा से इंडिया ले आया। मैंने फिल्मों को सिर्फ इसलिए ज्वाइन किया, ताकि सलमान से मेरी शादी हो सके। 15 साल की उम्र में आपके पास कुछ भी इडियटिक करने का लाइसेंस होता है। हालांकि, मुझे अपने पहले प्यार का पीछा करने का कोई भी अफ़सोस नहीं है।”

8 साल तक रहा सलमान से रिलेशनशिप

– जब सोमी महज 15 साल की थीं, तब उन्होंने सलमान की फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ देखी और उन्हें दिल दे बैठीं।
– सलमान से शादी की चाहत लिए वे मुंबई आईं और काम की तलाश करने लगीं। इसी दौरान एक स्टूडियो में उनकी मुलाकात सलमान से हुई।
– करीब 8 साल तक सोमी सलमान के साथ रिलेशनशिप में रहीं।
– 1997 में सलमान की नजदीकियां ‘हम दिल दे चुके सनम’ के सेट पर ऐश्वर्या राय से बढीं और सोमी के साथ उनका ब्रेकअप हो गया।
– दोनों ने फिल्म ‘बुलंद’ (1992) में साथ काम किया है, जो आजतक रिलीज नहीं हो सकी। फिल्म 80 प्रतिशत शूट हो चुकी थी। लेकिन किन्हीं कारणों से यह अटक गई। – 2016 में आई ऋतिक रोशन स्टारर ‘काबिल’ को मीडिया रिपोर्ट्स ने ‘बुलंद’ की कॉपी बताया था।

रिश्ता टूटने का नहीं है कोई अफ़सोस

– सोमी ने इंटरव्यू में बताया है, “मुझे इस बात का कोई अफ़सोस नहीं है कि सलमान के साथ मेरा रिश्ता आगे नहीं बढ़ पाया। सलमान और उनकी फैमिली से बहुत कुछ सीखा है।”
– मुझे सीख मिली है कि यह मायने नहीं रखता कि किसी का धर्म क्या है, कल्चर क्या है, वह कहां का रहने वाला है। किसी भी इंसान की पहचान उसके काम से होती है। सलमान आगे बढ़ने के लिए अच्छे रोल मॉडल हैं।”

हसीन जहां ने FB पर साधा निशाना, कहा- बिना मंजूरी ब्लॉक हुआ अकाउंट

कोलकाता। पत्नी हसीन जहां की शिकायत के बाद मोहम्मद शमी के खिलाफ गंभीर धाराओं में मामला दर्ज हुआ है। ऐसे में उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इस बीच पत्नी हसीन ने कहा है कि उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर मोहम्मद शमी से जुड़ी जो तस्वीरें डाली हैं। वो डिलीट हो गई हैं।

मोहम्मद शमी के खिलाफ पत्नी ने पुलिस में शिकायत करने से पहले अपने फेसबुक अकाउंट पर शमी से जुड़ी तस्वीरें पोस्ट की थीं। ताकि वो बतौर सबूत इसका इस्तेमाल कर सकें। जब से पत्नी ने सोशल मीडिया पर शमी के खिलाफ आरोप लगाना शुरू किए हैं। तब से ही ये खबर मीडिया की सुर्खियां बनी हुई हैं। इस घटना से बतौर क्रिकेटर उनकी छवि को काफी नुकसान पहुंचा है।

हसीन जहां ने कुछ दिन पहले अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पति शमी की कुछ तस्वीरें पोस्ट करते हुए उन पर विवाहेत्तर संबंधों के आरोप लगाए। हसीन जहां ने कई लड़कियों के साथ शमी की तस्वीरें और व्हाट्सऐप चैट फेसबुक पर पोस्ट की थी। जिसके बाद बवाल मच गया। इसके बाद हसीन जहां ने मीडिया में खुलकर पति शमी पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि मैंने कई लोगों से मदद मांगी, मगर मदद नहीं मिलने की वजह से मुझे मजबूरी में सोशल मीडिया का सहारा लेना पड़ा। मगर अचानक फेसबुक ने मेरा अकाउंट ब्लॉक कर दिया और बिना मुझसे पूछे उन तस्वीरें को भी डिलीट कर दिया गया।

ये खबर सामने आने के बाद शमी की केवल छवि को नुकसान नहीं पहुंचा है, बल्कि बीसीसीआई ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से शमी को बाहर कर दिया।

गैर जमानती धाराओं में दर्ज हुआ मामला-

हसीन जहां की शिकायत के आधार पर शमी व उनके परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ जादवपुर थाने में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 498ए (दहेज से संबंधित घरेलू हिंसा), 323 (मारपीट), 307 (हत्या की कोशिश), 376 (दुष्कर्म), 506 (जान से मारने की धमकी), 328 (जहर देना) और 34 (आपराधिक साजिश के तहत सामूहिक अत्याचार) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

शमी के अलावा उनके परिवार के चार अन्य लोग कौन हैं, इस बारे में पुलिस की ओर से अभी साफ नहीं किया गया है। कानूनी जानकारों के मुताबिक इनमें से धारा 307, 328 और 376 गैरजमानती हैं। ऐसे में शमी व उनके परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी लगभग तय है, बशर्ते उन्हें हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट से अग्रिम जमानत न मिले।

अयोध्या केसः सुप्रीम कोर्ट ने कहा- समझौते का निर्देश हम नहीं दे सकते

नई दिल्ली। अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक बार फिर से कहा कि वो किसी को समझौते के लिए नहीं कह सकते। कोर्ट ने इस मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि हम किसी को नहीं कह सकते कि समझौता करो और किसी को समझौता करने से इन्कार भी नहीं कर सकते।

बेंच ने आगे कहा कि अगर दोनों पक्षों के वकील खुद आकर कहें कि हमने समझौता कर लिया है तो हम मुद्दे को रिकॉर्ड कर लेंगे। लेकिन समझौते के लिए हम ना तो किसी को कह सकते हैं और ना नियुक्त कर सकते हैं। हम इस तरह के केस में ऐसा कैसे कर सकते हैं। अब इस मामले में अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी।

इससे पहले सुनवाई शुरू होते ही सर्वोच्च न्यायालय ने इस केस में हस्तक्षेप करने वाली तीसरे पक्ष की कुल 32 याचिकाएं खारिज कर दीं। इनमें अपर्णा सेन, श्याम बेनेगल और तीस्ता सीतलवाड़ की याचिका भी शामिल थी।

सभी कागजी कार्रवाई और अनुवाद का काम पूरा हो गया है। आठ मार्च को सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्रार के समक्ष हुई बैठक में सभी पक्षों ने यह जानकारी दी।

हाई कोर्ट आदेश के खिलाफ सबसे पहले सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, लिहाजा पहले बहस करने का मौका उन्हें मिल सकता है।

इस मामले से जुड़े 9,000 पन्नों के दस्तावेज और 90,000 पन्नों में दर्ज गवाहियां पाली, फारसी, संस्कृत, अरबी सहित विभिन्न भाषाओं में हैं, जिस पर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कोर्ट से इन दस्तावेजों को अनुवाद कराने की मांग की थी।

रिटायर्ड फौजी विशेष कार्ड से देश के किसी भी अस्पताल में करा सकेंगे इलाज

बिलासपुर। रक्षा मंत्रालय के निर्देश पर सेवानिवृत फौजियों के लिए विशेष प्रकार का चिप लगा पहचान पत्र बनाया जा रहा है। इस कार्ड के बनने के बाद फौजी देश के किसी भी कोने में संचालित अस्पताल में अपना इलाज करा सकेंगे। खास बात ये कि इलाज के लिए केंद्र सरकार ने कोई लिमिट तय नहीं की है। फौजियों के इलाज में खर्च होने वाली राशि का केंद्र सरकार वहन करेगी।

रिटायर्ड सैनिकों के बुरे वक्त में केंद्र सरकार ने साथ देने की योजना बनाई है। मंत्रालय के निर्देश पर रिटायर्ड फौजियों के लिए चिप लगा विशेष प्रकार का कार्ड बनाया जा रहा है। इस कार्ड को उनके आधार नंबर से लिंक किया जाएगा । विशेष प्रकार के चिप लगे कार्ड में फौजी की पूरी बायोग्रॉफी सहित पत्नी,बेटा,बहू व बेटी अगर अविवाहित है तो उनका भी कार्ड में उल्लेख रहेगा। विशेष प्रकार के कार्ड को स्वेप करते ही रिटायर्ड फौजी की पूरी जानकारी कंप्यूटर के स्क्रीन पर सामने आ जाएगी । चिप युक्त कार्ड से फौजी देश के किसी भी कोने में बेहतर इलाज करा सकेंगे । रिटायर्ड फौजी व परिजनों के इलाज में जितनी राशि खर्च होगी सब केंद्र सरकार वहन करेगी।

बेटी अविवाहित तो चिकित्सा सुविधा की पूरी जिम्मेदारी सरकार की

रिटायर्ड फौजी बेटी अगर अविवाहित है और उसकी उम्र ज्यादा हो गई है तो भी इलाज में खर्च होने वाली राशि का भुगतान केंद्र सरकार करेगी । जबकि 25 वर्ष के बाद बेटे की इलाज की जिम्मेदारी पिता या फिर स्वयं बेटे की होगी ।

इनका कहना है

केंद्र सरकार के निर्देश पर रिटायर्ड सैनिकों के लिए विशेष चिप से देश के किसी भी कोने में इलाज कराने की सुविधा मिलना प्रारंभ हो जाएगा इसकी राशि केंद्र सरकार वहन करेगी – शिवेंद्र पांडेय-कल्याण संयोजक,जिला कल्याण सैनिक बोर्ड बिलासपुर

‘मैं हिन्दू हूं ईद नहीं मनाता…’, ये हैं योगी के 10 सबसे विवादित बयान

लोकल डेस्क. 19 मार्च यानी सोमवार को योगी सरकार के एक साल पूरे हो रहे हैैं। बता दें कि राजनीति में सीएम योगी आदित्यनाथएक कट्टर इमेज वाले हिंदू लीडर के रूप में जाने जाते हैं। अक्सर वे अपने तीखे और विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। जिसका विपक्ष ने जमकर विरोध किया। आपको योगी के अब तक के दिए विवादित बयानों से रूबरू कराने जा रहा है। लोकभवन में होगा जश्न…

सोमवार को योगी सरकार के एक साल पूरे होने पर लोकभवन में जश्न मनाया जाएगा।
– जानकारी के मुताबिक, इस मौके पर सरकार के कामकाज पर बनी फिल्म भी दिखाई जाएगी।
– फिल्म में यूपी सरकार के साल भर में किए गए तमाम कामों का ब्योरा होगा।

इन वेबसाइट पर ‘रेड’ मूवी हुई ऑनलाइन Leak, लोग कर रहे फ्री में डाउनलोड

यूटिलिटी डेस्क। अजय देवगन स्टारर मूवी ‘रेड’ ऑनलाइन लीक हो गई है। ये फिल्म 16 मार्च, शुक्रवार को रिलीज हुई थी, लेकिन रिलीज होने के अगले दिन ही ये लीक हो गई। लीक होने वाली मूवी की लेंथ 120 मिनट की है। हालांकि, इस मूवी का रनिंग टाइम 128 मिनट है। वहीं, फिल्म का डाउनलोड साइज 671.14 MB है। इसे हजारों लोग ऑनलाइन डाउनलोड कर चुके हैं। फिल्म ऑनलाइन डाउनलोड करना पायरेसी लॉ की तहत गैरकानूनी होता है। ऐसे में आप इन वेबसाइट पर जाकर मूवी डाउनलोड करते हैं तब आप मुसीबत में फंस सकते हैं। इस तरह की वेबसाइट पर जाकर मूवी डाउनलोड करने से पायरेसी को बढ़ावा मिलता है।

# 3 साल की सजा

पायरेसी लॉ की तहत अगर कोई ऑनलाइन ऐसी मूवी देखता है जो पायरेसी कंटेंट में आती है। तब उसे इसके लॉ के तहत 3 साल तक की सजा भी हो सकती है। ठीक इस तरह यदि कोई मूवी डाउनलोड करता है तब उसके लिए भी सजा का प्रावधान है। ऐसे में पायरेसी को बढ़ावा देने से बचना चाहिए।

# इन वेबसाइट से हो रही फ्री डाउनलोड

इस फिल्म को इंडिया में कई वेबसाइट से डाउनलोड किया जा रहा है। इसमें rdxhd, moviespur, bigdaddymovies, aeonsource समेत कई अन्य वेबसाइट भी शामिल हैं। इन वेबसाइट पर ये मूवी फ्री डाउनलोड हो रही है। यानी इसके लिए कोई पेमेंट नहीं करना है, सिर्फ डाउनलोडिंग के लिए डाटा खर्च करना पड़ रहा है। इतना ही नहीं, मूवी को ऑनलाइन भी देखा सकता है। ‘रेड’ मूवी ऑनलाइन लीक होने से फिल्म के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन पर असर हो सकता है।

सामने आया हसीन जहां के धोखेबाजी का ये प्रूफ, उधर शमी के गांव पहुंची पुलिस

अमरोहा.टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और हसीन जहां का एक मैरिज सर्टिफिकेट सामने आया है। इसके मुताबिक, शमी के साथ शादी के वक्त जहां ने खुद के तलाकशुदा और दो बेटियां होने की बात छिपाई थी। सर्टिफिकेट में जहां ने अपने मैरिटल स्टेटस में बैचलर पर निशान लगाया है। खुद शमी ने इसे रीट्वीट किया है। बता दें कि 7 अप्रैल, 2014 को शमी और जहां की शादी हुई थी। इस बीच, कोलकाता पुलिस भी यूपी के अमरोहा में शमी के घर परिजनों से पूछताछ करने पहुंची। मुकदमें की तैयारी में शमी…

– क्रिकेटर शमी ने कहा- ‘हसीन ने मुझसे झूठ बोलकर शादी की थी। उसने मुझे धोखा दिया। जिंदगी का सबसे बड़ा राज छिपाया।’
– इसके साथ ही दोनों के बीच सुलह की सारी उम्मीदें भी खत्म हो गई हैं।
– हालांकि, तब तक हसीन जहां पहले पति शेख सैफुद्दीन को डायवोर्स दे चुकीं थीं।
– बता दें कि शमी ने मामले को लेकर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर ली है।
– शमी ने कहा, ‘पत्नी के साथ विवाद को सुलझाने की खूब कोशिश की, लेकिन अब कानूनी लड़ाई लड़ूंगा।’
– ‘मैं और मेरी फैमिली पुलिस को जांच में पूरा सहयोग कर रही है।’

शमी के घर पहुंची कोलकाता पुलिस
– बता दें कि हसीन जहां, शमी और उनके परिजनों पर दहेज उत्पीड़न, जानलेवा हमले और दुष्कर्म जैसे संगीन आरोप लगाते हुए पहले ही कोलकाता में एफआईआर दर्ज करा चुकी हैं।
– इसी सिलसिले में रविवार को कोलकाता पुलिस यूपी के अमरोहा स्थित शमी के घर उससे पूछताछ के लिए पहुंची।
– जहां कोलकाता पुलिस को घर पर परिजनों में से कोई नहीं मिला। तब केवल रिश्तेदार मौजूद थे। पुलिस उनसे ही सवाल-जवाब कर लौट गई।
– रिश्तेदार मुजीब ने के मुताबिक, पुलिस केवल दोनों के बीच हुए झगड़े के बारे में पूछताछ कर चली गई।
– कोलकोता क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर चेतन्य ने बताया कि अभी गांववालों और रिश्तेदारों से साधारण बातचीत हुई है।
– उन्होंने कहा, मामले की जांच चल रही है। इसकी डिटेल अमरोहा एसपी को भी दी गई है।

बुर्का पहने चार महिलाएं मस्जिद के प्रांगण में खेल रही थीं बोर्ड गेम, फोटो वायरल, विवाद

‘हमने तुरंत महिला अधिकारियों को मौके पर भेजा और उन्होंने महिलाओं से ऐसी चीजें जगह की शुचिता को ध्यान में रखते हुए न करने के लिए कहा. महिलाओं ने बात मानते हुए तुरंत इस एरिया को खाली कर दिया था.’

रियाद: मक्का की पवित्र मस्जिद के प्रांगण में बुर्का पहने चार महिलाओं की एक तस्वीर सऊदी अरब में विवादों के घेरे में आ गई है. यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. दरअसल बुर्का पहने ये महिलाएं मस्जिद के प्रांगण में कोई ‘बोर्ड गेम’ खेलती नजर आ रही हैं.

इस तस्वीर के वायरल होने के कुछ ही समय बाद सऊदी अरब अथॉरिटी ने एक स्टेटमेंट जारी कर दिया. स्टेपफीड नामक वेबसाइट के हवाले में न्यूज एजेंसी एएनआई ने बताया कि पवित्र मस्जिद की गवर्निंग अथॉरिटी के एक प्रवक्ता के मुताबिक, सुबह 11 बजे पिछले शुक्रवार कुछ सिक्यॉरिटी अफसरों ने चार महिलाओं को सीक्वेंस नामक बोर्ड गेम खेलते देखा. स्टेटमेंट में कहा गया है- हमने तुरंत महिला अधिकारियों को मौके पर भेजा और उन्होंने महिलाओं से ऐसी चीजें जगह की शुचिता को ध्यान में रखते हुए न करने के लिए कहा. महिलाओं ने बात मानते हुए तुरंत इस एरिया को खाली कर दिया था.

स्टेपफीड एक अंग्रेजी वेबसाइट है जिसका कहना है कि यह मामला ‘अरब जगत में ट्रेंड कर रहा है’. हालांकि इंटरनेट पर लोग इसे अलग अलग तरह से ले रहे हैं. किसी ने महिलाओं के यूं बोर्ड गेम खेलने की निंदा की जबकि किसी ने उनका विरोध करने का वालों से असहमति जताई. इसी बीच बता दें कि साल 2015 में मदीना के मस्जिद-ए-नवाबी में कुछ युवा कार्ड्स खेलते हुए पाए गए थे. रिपोर्ट्स थीं कि सुरक्षागार्डों ने उन्हें अरेस्ट कर लिया था

‘Ready for Summer’: Busty Holly Hagan flaunts her ample cleavage and tiny waist in a bright blue bikini… amid claims she’s returning to Geordie Shore

She’s allegedly set to make a comeback to Geordie Shore.

And keeping her fans guessing, Holly Hagan teased her followers with a sexy bikini snap on Sunday, showing off her incredible figure in her sizzling two-piece.

The reality star flaunted her ample cleavage in the electric blue swimwear, highlighting her enviable figure.

The tiny bikini drew attention to her slender waistline and flat stomach as she posed up a storm.

‘Ready for Summer’, she captioned the snap, tagging the ensemble as Miss Pap.

Holly has been dazzling her fans with an array of Kim Kardashian inspired posts of late, favouring the same long silver wig and faded filter loved by the American star.

This comes amid claims Holly will reportedly return to screens on Geordie Shore for the 17th series, which is set to star show regulars Sophie Kasaei and Chloe Ferry.

Raj Thackeray calls for ‘Modi-mukt Bharat’

Mumbai [Maharashtra] [India], Mar 19 (ANI): Maharashtra Navnirman Sena (MNS) chief Raj Thackeray on Sunday called for a ‘Modi-mukt Bharat.’

Addressing a rally on the occasion of Gudi Padwa in Mumbai‘s Shivaji Park, Thackeray said, ‘Today, we have to gear up for the third independence. All the political parties must unite to make Modi-mukt Bharat a reality.’

In an hour-long speech, the MNS chief also warned about attempts by certain elements to spark nation-wide riots in future.

Voices of a “united opposition” gained even more momentum after the Bharatiya Janata Party‘s (BJP) lost two crucial seats in the Uttar Pradesh by-polls.

According to the experts, joining forces is the only way to dethrone the Modi-led government in 2019 Lok Sabha elections. (ANI)

दलेर से मीका तक, मारपीट-रेप जैसे मामलों में जेल जा चुके ये 10 फेमस सिंगर

मुंबई. हाल ही में पटियाला कोर्ट ने पंजाबी सिंगर दलेर मेहंदी को 2003 के मानव तस्करी के एक मामले में दोषी करार देते हुए सजा सुनाई थी। मामले में उन्हें दो साल की जेल हुई लेकिन वे जेल गए और करीब 20 मिनट के अंदर ही उनको जमानत भी मिल गई। वैसे ये कोई पहला मामला नहीं है जब कोई सिंगर जेल गया है इससे पहले भी कई सिंगर्स जेल जा चुके हैं। आज इस पैकेज में हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही 10 सिंगर्स के बारे में जो कभी मारपीट, शराब पीकर गाड़ी चलाने तो कभी रेप के आरोप में जेल का चुके हैं।

1. मीका सिंह
कई कॉन्ट्रोवर्सी में फंस चुके मीका एक बार तो गिरफ्तार भी हो चुके हैं। ये वाकया उस दौरान का है जब उन्होंने अपना आपा खोकर दिल्ली में एक फैन को थप्पड़ जड़ दिया था।
2. प्राजक्ता शुक्रे
‘इंडियन आइडल’ की एक्स कंटेस्टेंट और बॉलीवुड सिंगर प्राजक्ता को शराब पीकर कार चलाने और दो लोगों को कार से चोटिल करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। बता दें, उस वक्त उनके साथ कार में सिंगर अभिजीत सावंत भी मौजूद थे।

यहां एक ही किचन में बनता है 65 परिवारों का फ्री खाना, 7 साल से चल रही है ये प्रथा

नाथद्वारा(उदयपुर). शहर में बोहरा समाज के 65 घरों में सुबह का भोजन एक साथ बनता है और फिर हर घर टिफिन भेजते हैं। सिलसिला सात साल से चल रहा है। अपने धर्मगुरु की नसीहत पर देश के कई शहरों में बोहरा समाज के लोग इसी प्रकार सामूहिक भोजन बनाकर घर-घर टिफिन पहुंचाने की मिसाल पेश कर रहे हैं। इस व्यवस्था में एक ही मीनू का टिफिन हर घर पहुंचाने के पीछे ऊंच-नीच का भेदभाव खत्म करने की सोच भी है।

– शहर में बोहरा समाज के 65 परिवारों में करीब 350 लोग हैं। अधिकांश परिवार व्यापारी वर्ग से हैं।
– 7 साल पहले इस व्यवस्था की शुरुआत वर्ष 2010 में हुई थी।
– भोजन समाज के भवन में तैयार होता है। किसी के घर मेहमान हो तो कमेटी को सदस्यों के अनुसार मात्रा बढ़ाने की सूचना दे दी जाती है।
– सामूहिक भोजन बनाने के लिए फैज उल मवाईद बुरहानिया कमेटी बना रखी है, जो भोजन की गुणवत्ता, वितरण की व्यवस्था देखती है।
– दाना कमेटी रसोई का राशन खरीदने की जिम्मेदारी निभाती है। इस कमेटी में 10 सदस्य हैं।

मेन्युकैलेंडर के अनुसार

– सामूहिक भोजन के लिए कैलेंडर तय कर धर्मगुरु के स्तर पर बनाई कमेटी स्थानीय कमेटी को भेज देती है।
– मेन्यु कैलेंडर के अनुसार ही तय होता है। सप्ताह में एक दिन मिठाई तथा पर्व-त्योहार पर मिठाई सहित हर दिन के लिए दाल, सब्जी का मीनू निर्धारित है।

एक-दूसरे की खुशी में शामिल होता है हर परिवार

– खुशी के मौकों पर समाज के लोग अपनी तरफ से रसोई घर में कमेटी को सूचना देकर मिठाई बनवाते हैं और इसे हर घर बंटवाते हैं।
– इससे समाज के लोगों का हर परिवार की खुशी में शामिल होने में जुड़ाव होता है।
– टिफिन दोपहर एक बजे तक घर-घर पहुंचाने की जिम्मेदारी वितरण कमेटी की होती है।
– रसोई सुबह 9 बजे शुरू होती है। कोई सफर पर जा रहा है तो बस स्टैंड, बीमारी में अस्पताल तक भी भोजन पहुंचाया जाता है।
– पर्व, त्योहार, जन्मदिन, सालगिरह सहित अन्य मौकों पर कमेटी के पास अतिरिक्त टिफिन की सूचना पहले ही आ जाती है।

सामर्थ्य के अनुसार देते हैं आर्थिक सहयोग

– इस व्यवस्था के बदले समाज के लोग सामर्थ्य के अनुसार आर्थिक सहयोग देते हैं।
– टिफिन पहुंचाने के बदले कोई शुल्क निर्धारित नहीं है। समाज की कमेटी अपने स्तर पर इसका खर्च वहन करती है।

योगी सरकार का एक साल: 5 बड़े चुनावी वादों में से ज्यादातर अधूरे, कुछ पर काम ही शुरू नहीं हुआ

लखनऊ.भाजपा ने 28 जनवरी, 2017 को उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव-2017 के लिए घोषणा पत्र जारी किया था। इसमें यूपी में अपराध और भ्रष्टाचार को खत्म कर, विकास और गरीबों की बेहतरी के लिए काम करने के दावे किए थे। भाजपा बहुमत के साथ जीती और 19 मार्च, 2017 को योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनकी सरकार का एक साल पूरा होने पर DainikBhaskar.com ने उनके 5 वादों की जमीनी हकीकत जानी।

1) किसानों की कर्जमाफी

वादा: किसानों का पूरा कर्ज माफ होगा। बिना ब्याज कर्ज दिया जाएगा।
सरकार ने क्या किया: योगी ने पहली कैबिनेट मीटिंग में 36 हजार 359 करोड़ रुपए की कर्ज माफी का एलान किया। 78 लाख किसानों को कर्जमाफी का लाभ मिलना था।
हकीकत:अभी तक 17.30 लाख किसानों का कर्ज माफ हुआ। यह कुल टारगेट का सिर्फ 22% है। देवरिया, वाराणसी, गोरखपुर और कुशीनगर को छोड़कर किसी भी जिले में दूसरे चरण की कर्जमाफी के प्रमाण पत्र बांटने का काम शुरू नहीं हुआ है।
दलील:कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही किसानों को कर्जमाफी का लाभ मिला है। दूसरे चरण के प्रमाणपत्र भी जल्द बांटे जाएंगे।
आरोप:नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि कर्जमाफी की आड़ में सरकार ने खेती का बजट 70.13% कम कर दिया। किसानों को छला गया है।

2) शिक्षा और रोजगार
वादा:
 पहली से 8वीं तक के बच्चों को स्वेटर, मौजे और जूते मुफ्त दिए जाएंगे। ग्रेजुएट तक लड़कियों और 12वीं तक लड़कों को लैपटॉप मुफ्त दिया जाएगा।
सरकार ने क्या किया: सरकार ने दो बार टेंडर निकाल, लेकिन दिसंबर 2017 तक प्रॉसेस पूरी नहीं हो पाई। बाद में कलेक्टर को अपने स्तर पर टेंडर कराने को कहा गया। फ्री लैपटॉप वितरण योजना- 2017 शुरू की।
हकीकत:1.5 करोड़ बच्चों में से सर्दी खत्म होने तक सिर्फ 45% बच्चों को स्वेटर बांटे गए। 22 से 23 लाख स्टूडेंट्स में से अभी किसी को भी फ्री लैपटॉप नहीं मिला।
दलील: विभाग की मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कलेक्टर को निर्देश दिए थे सभी बच्चों को स्वेटर बांट दिए गए हैं।
आरोप: सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि स्वेटर बांटने में सबसे बड़ा भ्रष्टाचार हुआ। ठंड खत्म होने के बाद दिखावे के लिए स्वेटर बांटे गए।

3) बिजली की समस्या
वादा:
 2019 तक हर घर में बिजली। 5 साल में 24 घंटे बिजली मिलने लगेगी।
सरकार ने क्या किया:राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश वर्मा के मुताबिक, सपा सरकार में 14 घंटे बिजली मिल रही थी, अब 16 से 18 घंटे मिल रही है। हालांकि, लोड बढ़ने से किसानों को ज्यादा राहत नहीं मिली।
हकीकत: बिजली का निजीकरण किया गया। रेट 50 से 150 फीसदी तक बढ़े। गर्मी शुरू होते ही शहरों में भी बिजली कटौती शुरू हो गई है।
दलील: ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का दावा है कि सपा सरकार ने पांच साल में जितने ट्रांसफार्मर बदले उतने हमने 1 साल में बदल दिए। करीब 37 हजार ट्रांसफार्मर खराब हो गए थे।
आरोप: सपा नेता रामगोविंद चौधरी ने कहा कि केंद्र के सहारे यूपी में बिजली की सप्लाई की जा रही है। बिजली का रेट बढ़ाकर अवैध वसूली की जा रही है।

4) सेहत का ख्याल
वादा:
 राज्य में 25 सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल और 6 एम्स बनाएंगे।
सरकार ने क्या किया: बजट में सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल और एम्स के लिए पहले चरण में 4323.89 करोड़ रुपए रखे गए हैं।
हकीकत:अभी तक किसी भी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल या एम्स के लिए जमीन तक तय नहीं हुई है। गोरखपुर एम्स का शिलान्यास अखिलेश सरकार में किया गया था। डेढ़ साल बीत गया, लेकिन इसका भी निर्माण शुरू नहीं हो पाया है।
दलील: स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का कहना है कि यूपी में स्वास्थ्य की समस्या बहुत ही जटिल थी। पिछली सरकारों ने स्वास्थ्य के बजट में घोटाले किए। एक साल में हमने बेहतर इंतजाम किए।
आरोप: सपा के सीनियर लीडर और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन ने कहा कि सरकार काम करने की बजाए अस्पतालों का भगवाकरण करवा रही है। बीआरडी कॉलेज की घटना सरकार की सबसे बड़ी नाकामी है।

5) गड्ढा मुक्त सड़कें
वादा:
प्रदेश में सभी सड़कें 15 जून 2017 तक गड्ढा मुक्त होंगी।
सरकार ने क्या किया: सरकार ने अलग-अलग विभागों को जिम्मेदारी सौंपी। कुल 1 लाख 21 हजार 816 किलोमीटर सड़क गड्ढा मुक्त की जानी थी।
हकीकत:सिर्फ 61 हजार 433 किलोमीटर यानी सिर्फ 50% सड़कें ही गड्ढा मुक्त हो पाई। टारगेट पूरा करने के लिए सिर्फ तीन महीने से भी कम वक्त बचा है।
दलील: डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का कहना है कि सड़कों को गड्डा मुक्त करने के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं। विभाग के पास उचित बजट नहीं था फिर भी हमने अन्य विभागों के सहयोग से लक्ष्य को पूरा किया है।
आरोप: कांग्रेस प्रवक्ता सुरेन्द्र राजपूत का कहना है कि, गड्डे मुक्त सड़क का दावा कुछ ही जिलों में सफल हुआ है। जिन सड़कों को गड्डा मुक्त किया गया है वो फिर से उसी तरह हो गई हैं।