Why Hashim Amla is the most dangerous batsman at ICC Champions Trophy

South Africa cricket team batsman Hashim Amla flicks and scores a boundary during the first ODI vs England cricket team at last week. England sealed the series, winning the first two matches of the three-ODI competition which acts as a warm-up for both sides for the ICC Champions Trophy 2017(Getty Images)
Hashim Amla always carries himself with a certain amount of calm. The bespectacled South Africa cricket team opener exudes a studious aura. His composed demeanour at the crease gives the impression that his job is to remain glued to the crease for hours. And, because he is so technically correct and always stereotyped as a Test specialist, he is not spoken of in the same breath as players such AB de Villiers or Virat Kohli in the shorter formats.

Despite the fact that Hashim Amla averages in the fifties and has 24 centuries in ODIs, he still goes unnoticed, perhaps due to the ease at which he scores.

Aleem Dar credits Hashim Amla for his new look during ICC Champions Trophy
But his recent exploits in the Indian Premier League (IPL), where Amla not only smashed two centuries but also kept his strike rate over 145, aggregating 420 runs in 10 innings for Kings XI Punjab, busted notions regarding his limited-over abilities.

Amla seems to have used the IPL and the ongoing series against England cricket team (where he scored 73 & 24 in the first two matches) to get himself into peak form for the ICC Champions Trophy 2017.

Amla’s transformation into a limited-overs force can be attributed to a few tweaks in his batting technique and change in approach — looking to unleash his attacking instinct. Now, Amla has emerged as a tricky equation to crack for the bowlers.

A year or so back, Amla struggled in the T20s. The absence of fancy strokes and over reliance on copy-book technique seemed to be the hindrance. Amla’s talent and potential was unquestionable — he just had to make that transformation — and with the kind of technique he possessed, it was just a matter of making a mental switch.

Throughout the IPL, Amla scored big and scored fast but never forsake his technique. He stood true to his technique and style, just like how Virat Kohli and Kane Williamson did, and still found huge success in T20.

“Kane Williamson and Virat have the quality to clear the ropes when needed but by and large through good cricketing shots,” Amla told HT during the IPL.

Deep in the Crease

Amla stuck to his “good shots” too, while making a slight tweak in the technique — a matter of using the 1.22m popping crease.

Richard Levi, South Africa batsman, hospitalised after head injury
In the IPL matches against Mumbai Indians and Gujarat Lions — where he scored centuries — Amla’s shots troubled the bowlers and looked pleasing to the eye as well. While Amla does go really back and across before the ball is delivered, he extended his trigger movement to a few inches deep into the crease. The front foot made sure it stayed on the leg side. And Amla kept a slightly open stance and for a reason too.

The wickets were so flat that swing was out of the equation. So, he didn’t have to worry about getting squared up. The second reason was that he knew he would have to tackle serious pace and only standing deep in the crease would give him the extra time to play his shots. Against Lasith Malinga, Amla hit him for a huge six over long on as Malinga’s perfect length gave him time to free his arms. Cementing his front foot on leg gave Amla the room and the time to swing.

Even if any ball was bowled in the corridor, Amla would further clear his leg and play the ball on the up on the off side. Similarly, if the bowler drifted onto the legs, Amla already used to be in a semi-open position and would only open his hip further following the line of the ball.

India out ‘to enjoy’ ICC Champions Trophy after money row
Against spinners, his approach was equally effective. Planting his foot on leg meant that he could play an inside-out drive anytime the bowler pitched on middle. Anything outside off was a free hit. While Amla said that it was his skipper Glenn Maxwell’s backing that helped him express freely in the middle, he added that he also wanted to stick to the tried and tested.

“I think batting in the top 3 does allow the opportunity to play normal cricket shots and still get value as the field is up,” elaborated Amla. “Some of the grounds in India are small and field is quick. It allows you to set it up for the guys at the end who may not be as technically correct.”

Setting it right

Setting a foundation for the big hitters to go for it at the end is what Amla has been doing over the years for South Africa.

In ODIs, 22 of his 24 centuries have come in a winning cause. He averages over 65 in the 95 games in which SA have won. In the remaining 51 games, he averages under 29.

A few years ago, Amla had an average of 53 and at one point it was better than that of Virat Kohli. The India skipper too averages over 65 in winning causes and has scored 24 tons. From the numbers, it is evident that Amla’s contribution at the top has played a vital role in SA’s success.

Kohli’s role over the years has been of an anchor. He is usually busy setting up the game for India. Amla also plays a similar role. He averages 56 when batting first and 41 during chases.

AB De Villiers angry at fresh ‘ball-tampering’ row in ODI vs England

Junaid Khan takes dig at Virat Kohli ahead of ICC Champions Trophy clash

ICC Champions Trophy: Ben Stokes set for scan on troublesome knee

Australian government ready to mediate in pay dispute between CA, players
Come Champions Trophy, Amla would still be busy doing the anchoring role but this time things would be a tad different. He is armed with a a deadly ability to hit boundaries at will.

And Amla’s last two knocks against England show how it took him no time to adapt to the English conditions. As opposed to IPL, he made sure that he played close to the body, waited for the slightly spongy bounce and stayed side-on to tackle swing. In the later part of his innings, he used the long handle against Chris Woakes and Mark Wood during the matches.

Amla seems primed to make that kill and play a big role in helping South Africa win an ICC tournament and remove that chokers tag.

While AB de Villiers is the face of SA’s famous wins, going by recent form Amla’s would be the most sought after wicket for the opposition bowlers during the Champions Trophy. If Amla gives a solid start to South Africa, it sets up things for the power hitters in the squad — the likes of De Villiers, Faf du Plesis and David Miller.

So when India play South Africa in their group match at the ICC Champions Trophy, Kohli & Co would be ready with plans on how to crack the Amla code.

Aleem Dar credits Hashim Amla for his new look during ICC Champions Trophy

Experienced umpire Aleem Dar surprised a lot of spectators during the ICC Champions Trophy warm-up match between India and New Zealand with his new look. The 48-year old, who is usually always clean shaven, is now sporting a full-grown beard and he revealed that it was South Africa cricketer Hashim Amla who asked him to grow his beard in the Islamic way.

 

Talking to PTV after the match, Dar said that he was thinking about growing a beard and Hashim Amla’s advice helped him to make up his mind. Amla himself sports a long beard and is well known for his composure both on and off the cricket field.

Aleem Dar is one of the most consistent and experienced umpires in the world right now. He has officiated in 111 Tests, 183 ODIs and 41 T20Is. He has won the Umpire of the Year Award in 2009, 2010 and 2011 and in January this year, Dar surpassed South African Rudi Koertzen’s record of officiating in the highest number of international games to become cricket’s most experienced umpire.

 

The match between India and New Zealand was interrupted by rain and the men in blue clinched the game by 45 runs (D/L method). They will play their second warm-up match against Bangladesh on May 30.

‘Isn’t this our country?’ Why Muslims in Uttar Pradesh feel shaken, ‘harassed’

Anam Nisha is a first-year student in the department of chemical engineering at the Rohilkhand University in Bareilly. The daughter of a mechanic, her parents battled hostile relatives, uncomfortable with sending a girl to college, and decided to educate her— she will become the first engineer in her family.

Nisha has made friends with her classmates, a majority of Hindus. But something changed during the 2017 elections in UP.

“I did not feel this earlier. But in this election, among our friends, this feeling of being Hindu and Muslim sharpened. In discussions, our friends made us feel we were different.” She says the BJP had created this ‘division’.

Mohammed Tanweer, a final year student from Gorakhpur, nods. “When the PM came and said kabristan and shamshanghat, we felt uncomfortable. Look at issues being raised everyday. It makes us sometimes ask — do we have the wrong name?”

No generalisation about a community as large and diverse as Indian Muslims can be entirely accurate. Yet, in the course of meeting dozens of young Muslims, from west UP to the eastern most edge of Bihar, it became clear that Nisha and Tanweer are not exceptions. Muslims are shaken, disturbed, and worried.

Living as ‘anti-nationals’

Firoze Ahmad is an assistant professor in the Aligarh Muslim University’s campus in Kishanganj, in Bihar’s Seemanchal. “Muslims have begun avoiding public gatherings because anything you say can be misconstrued. On social media, as soon as you say something, you are immediately branded anti-national, terrorist, and of course Pakistani,” he says.

Read more

Mob lynches Muslim man in UP’s Bulandshahr, son blames Hindu Yuva Vahini

Bulandshahr on the edge: Police trace couple whose elopement led to lynching
A survey conducted by the well-regarded Centre for the Study of Developing Societies in four states — Gujarat, Haryana, Odisha and Karnataka — gives a clue into the mindset that leads to these labels. Only 13% of Hindus saw Muslims as ‘highly patriotic’, even though 77% Muslims saw themselves as ‘highly patriotic’.

When asked what, specifically, was bothering him, Firoze Ahmad says, “Look at the hate campaigns. When they say love jehad, raise triple talaq, talk of gau raksha, want ghar wapsi, who are they targeting? There is a common pattern. They want to ignite new debates with Muslims as the target group.”

He then clarifies. “It is not the PM. He is for Sabka saath, sabka vikaas. It is those acting in his name. They need to be punished.”

Shadab Khan is pursuing an MBA in the campus.

“This nationalism discourse has created a gulf. If I say I love Barcelona, I am a nationalist. But if I say I love Pakistani player Shahid Afridi, I become an anti-national. This has percolated down to every college, every street, every social media conversation.”

Across age groups and regions, most Muslims blamed BJP and the Sangh parivar, but they were as critical of the media.

Back in Bareilly, Heeba Roshan, a second year student of chemical engineering, noted, with a laugh, “There would have been far more peace, and so much less insecurity, if we all stopped TV news.”

Muslim women vote in Varanasi in the final phase of UP election 2017. (PTI File Photo)
Media penetration had increased, every household was watching news, this was shaping mindsets, and the content usually reinforced the views that Hindus held of the community, and alienated Muslims, pointed Ahmad.

Sense of discrimination

All of this points to a degree of psychological alienation. But is this merely perceptional or is it rooted in facts?

In Kishanganj, Raashid Nehaal is the director of the AMU campus — which operates out of two temporary buildings, one of which also doubles up as both the academic block and the girls hostel. There are only two courses being offered; he has not been able to appoint faculty, expand courses, or even build boundary walls. Work on a new campus building is halted.

Read more

Muslim man tied to tree, beaten to death for being in love with Hindu woman

Muslim meat traders plan legal action over Centre’s new rules on cattle trade
Why?

“Since the BJP government has come to power, they have not released a single paisa to us. The approved funds for this campus — meant to serve the backward region — is ₹136 crore; all we have got so far is ₹10 crore, which was released before the BJP won.”

Nehaal does not mince words. “What should we understand from this? They have become prejudiced.” He pins it on politics, and the difference in nature of regimes is palpable here. The ‘secular government’ of Nitish Kumar — which relied on Muslim votes — has extended all support to the campus, but the Union government, Nehaal claims, has been hostile.

At the other end of the Hindi heartland lies the small town of Deoband, famous for its influential Islamic seminary.

At a cloth shop in the bazaar, a group of young men look back at 2017 polls. Shah Alam tells his friends, “We were unnecessarily living with a myth that at 18%, Muslims can decide elections. The majority decides elections. And BJP has shown they don’t need us at all.”

What has been the impact of this?

“Secular parties treated us as just a vote-bank, but we at least had leaders to go to. There is no one here to listen to us. Sunwai khatam ho gayi,” replies Alam.

Adnan owns the cloth shop, and says, “Under the Mudra scheme, I applied for a loan of ₹5 lakh. I have gone to the bank repeatedly. But my application got rejected.”

But maybe his loan got rejected because it did not meet the criteria? Would it be correct to pin it to religion? He replies, “It is the mindset. The bank official told me — you will not get it. Don’t waste your time.”

Read more

Testing times for Yogi govt as saffron outfits run riot in UP

India’s polity has shifted from hope to fear, and PM Modi knows it | Opinion
Whether it is indeed, factually, their religious identity which is leading to Adnan’s loan being rejected, Alam’s voice not being heard, Ahmad or Khan being called anti-national, Nisha and Tanweer feeling a sense of distance from their friends, Roshan getting uncomfortable watching television, or Nehaal struggling to get funds for his campus is one part of the story, open to debate. The more important part is that all of them feel that this is discrimination that stems from their religious identity.

And all of this is leading to a question that Khan — the Kishanganj student — asks bluntly, “I have always felt Indian. But today, I am being forced to ask myself — is this my country?”

Gandhi’s death: Plea in SC hints at second assassin

Outfit inspired by Savarkar questions his conviction.

Was there a second assassin involved in the death of Mahatma Gandhi?

Though the police went by the theory that three bullets were fired upon him, was there a fourth bullet also which was fired by someone apart from Nathuram Godse?

These questions are among several which have been raised in a petition before the Supreme Court with a plea that there is a compelling need to uncover the larger conspiracy behind the murder of the Mahatma by constituting a new Commission of Inquiry.

The petition also raises questions about the investigation into Gandhi’s murder, suggesting it was one of the biggest cover-ups in history and also questioning whether there was any basis to blame Vinayak Damodar Savarkar for it.

The petition by Dr Pankaj Phadnis, a researcher and a trustee of Abhinav Bharat, Mumbai, has claimed that the Justice J.L. Kapur Commission of Inquiry set up in 1966 had not been able to unearth the entire conspiracy that culminated in the killing of the Father of the Nation. Phadnis has also questioned the three bullet theory relied upon by various courts of law to uphold the conviction of accused, including Nathuram Godse and Narayan Apte, who were hanged to death on November 15, 1949, while Savarkar was given the benefit of doubt due to lack of evidence.

Inspired by Savarkar, Abinav Bharat, Mumbai, was set up in 2001 and it claims to work for the socially and economically weaker sections with a focus on bridging the digital divide.

Mr. Phadnis said his research and media reports of those days suggested that four bullets were pumped into Gandhi and the difference between three and four shots was material as the pistol by which Godse shot Mahatma on January 30, 1948 had a seven-bullet chamber.

Modi in Berlin today, says ‘new chapter’ in ties

PM’s six-day tour to Germany, Spain, Russia and France assumes added significance as all are members of the Nuclear Suppliers Group

Prime Minister Narendra Modi will arrive in Berlin on Monday beginning a six-day, four-nation tour of Europe.

He will meet German Chancellor Angela Merkel for talks to tackle issues such as the impasse in the India-EU free trade agreement, as well as developing a common strategy to counter China’s moves on connectivity and preserving the international “rules-based” system.

“Our strategic partnership is based on democratic values and commitment to an open, inclusive and rules-based global order,” Mr. Modi said in a series of messages on his website, describing the visit to Germany as a “new chapter” in the bilateral strategic partnership.

From Germany, the Prime Minister will travel to Spain (May 29-30), Russia (May 31-June 1) and France (June 2-3). His meetings at each of these countries will also be significant given that all four are members of the Nuclear Suppliers Group that will meet in June to once again consider India’s membership application.

Mr. Modi is to meet all the leaders once again in July at the G-20 summit in Hamburg (Spain is not a G-20 country, but is a permanent invitee).

Free trade pact

Mr. Modi will land in the German capital and leave directly for Schloss Meseberg, a castle outside Berlin that serves as the official retreat for Chancellor Merkel and has been the backdrop for several high level summits. The Prime Minister he is expected to dine alone with the Chancellor.

On Tuesday morning, the leaders will meet for the fourth bi-annual Inter-Governmental Consultations (IGC) in Berlin, and are expected to sign a number of MoUs on trade and investment, security and counter-terrorism, innovation and science & technology, skill development, urban infrastructure, railways, civil aviation, clean energy, development cooperation, health and alternative medicine, according to officials.

Germany is India’s largest trading partner in the EU, and Ms. Merkel will make a push for a resumption of the EU-India Bilateral Trade and Investment Agreement (BTIA), that has been suspended for four years.

Germany wants a commitment from India on either resuming talks with the EU or at least renewing the bilateral investment treaty that lapsed in March 2017.

Officials have warned that in the absence of any mechanism to protect German companies considering investments in India, their plans may be shelved.

Tackling Beijing

In a candid statement last week, German Ambassador Martin Ney had also said the “common questions” both countries share about China’s Belt and Road Initiative will be discussed, even as Germany and India explore joint projects for connectivity and development in Africa and the Indian Ocean Region (IOR).

Mr. Modi will travel next to Spain for talks with Prime Minister Mariano Rajoy, expected to yield an agreement on counter-terrorism cooperation, which Mr. Modi referred to as a “common concern”.

“We seek [the] active participation of [the] Spanish industry in various Indian projects including infrastructure, smart cities, digital economy, renewable energy, defence and tourism,” he added in his statement on Sunday.

Mr Modi’s visit to St. Petersburg will mark the first time the Annual India-Russia summit is held outside of Moscow.

The Prime Minister will meet President Vladimir Putin for a “one-on-one” dinner on the sidelines of the St. Petersburg International Economic Forum.

India and Austria are the guest countries this year at the SPIEF, an investor’s conference called the “Russian Davos”. Mr. Modi and Mr. Putin are expected to announce a “series of agreements”, officials said, while an MoU to construct the Kudankulam Nuclear Power Project’s (KKNPP) reactors 5 & 6 is in its “final stages” before being signed.

Meet with Macron

The Prime Minister’s final stop in France will see his first meeting with newly elected President Emmanuel Macron. The two leaders are expected to review bilateral relations including cooperation on nuclear and renewable energy, and defence cooperation.

No report yet on Kanpur derailment

Six months after accident that killed over 150, agencies yet to ascertain the cause

Six months after the derailment of the Indore-Rajendranagar Express near Kanpur claimed over 150 lives, investigating agencies are yet to ascertain the cause of the accident. The Commission of Railway Safety (CRS) hasn’t submitted its preliminary report.

“It is informed that the preliminary report of the said accident is not available in the office,” Rajiv Kumar, Deputy Commissioner of Railway Safety, said in response to a query under the Right to Information (RTI) Act posed by The Hindu, on May 15. On November 20 last year, 14 coaches of the Patna-bound train derailed between Pokhrayan and Malasa stations in Uttar Pradesh, killing at least 152 passengers and injuring 183.

According to the rules, the CRS has to submit its preliminary report to the Chief Commissioner of Railway Safety and the Indian Railway Board Secretary within one month of the inquiry, and it has to make the report public as well. The CRS, under the Civil Aviation Ministry, then submits a detailed report within six months of the inquiry to the Chief Commissioner. Commissioner of Railway Safety (Eastern Circle) P.K. Acharya, who is inquiring into the matter, declined to comment.

Civil Aviation Secretary R.N. Choubey didn’t respond to an e-mail questionnaire.

The accident became a high-profile case after Railway Minister Suresh Prabhu, suspecting sabotage, had written to Home Minister Rajnath Singh demanding a high-level investigation.

The Home Ministry then forwarded the case to the National Investigation Agency (NIA) to probe the sabotage angle.

“This matter is being monitored at the Prime Minister’s Office (PMO) level. We are awaiting an inquiry report from the NIA which had taken up the investigation soon after the accident,” said a senior CRS official, on condition of anonymity. However, NIA officials said they were yet to get a report from the Commission and a team of Indian Institute of Technology (IIT) experts to finalise their investigations.

Even Prime Minister Narendra Modi in a speech during one of his election rallies had termed the accident a cross-border “conspiracy.”

The initial inquiry of the CRS which was held up for submission to authorities after the National Investigation Agency started a probe into the case had identified ‘carriage and wagon defects’ as the prime reason for the accident.

N.Korea fires short-range ballistic missile off western Japan

The North’s nuclear and missile programs are perhaps the biggest foreign policy challenges to the new leaders in Washington and Seoul.

North Korea fired a short-range ballistic missile that landed in Japan’s maritime economic zone on Monday, officials said, in the latest in a string of test launches as the North seeks to build nuclear-tipped ICBMs that can reach the U.S. mainland.

The suspected Scud-type missile launched from the coastal town of Wonsan flew about 450 km, the South’s Joint Chiefs of Staff said in a statement. It landed in Japan’s exclusive maritime economic zone, which is set about 200 nautical miles off the Japanese coast, Japanese Chief Cabinet Secretary Yoshihide Suga said. He said there was no report of damage to planes or vessels in the area.

North Korea is still thought to be several years from its goal of being able to target U.S. mainland cities with a nuclear intercontinental ballistic missile. It has a strong arsenal of short-and medium-range missiles that could hit Japan and South Korea as well as U.S. forces in the region, and it is working to perfect its longer-range missiles.

North Korea’s state-controlled media had no immediate comment. But a day earlier, the North said leader Kim Jong Un had watched a successful test of a new type of anti-aircraft guided weapon system. It wasn’t clear from the state media report when the test happened.

Mr. Kim found that the weapon system’s ability to detect and track targets had “remarkably” improved and was more accurate, according to the official Korean Central News Agency. KCNA cited Mr. Kim as ordering officials to mass-produce and deploy the system all over the country so as to “completely spoil the enemy’s wild dream to command the air.”

The North’s nuclear and missile programs are perhaps the biggest foreign policy challenges to the new leaders in Washington and Seoul.

President Donald Trump has alternated between bellicosity and flattery in his public statements about North Korea, but his administration is still working to solidify a policy to handle its nuclear ambitions.

Monday’s launch was the third ballistic missile launch by North Korea since South Korea’s President Moon Jae-in was inaugurated on May 10. He has signaled an interest in expanding civilian exchange with North Korea, but many analysts say he won’t likely push for any major rapprochement because North Korea has gone too far in developing its nuclear program.

Mr. Moon called a National Security Council meeting Monday morning to discuss the North’s launch. In a separate statement, South Korea’s Joint Chiefs of Staff warned North Korea’s repeated provocation would further deepen its international isolation.

Japanese Prime Minister Shinzo Abe, who just returned from a G7 meeting in Italy, told reporters that “North Korea’s provocation by ignoring repeated warnings from the international society is absolutely unacceptable.”

The U.S. Pacific Command said in a statement that it tracked a short-range missile for six minutes until it landed in the Sea of Japan.

Mr. Suga, the Japanese Cabinet Secretary, told reporters that the missile fell about 300 km north of the Oki islands in southwestern Japan and 500 km west of Sado island in central Japan.

Mr. Suga said Japanese officials will discuss North Korea with a senior foreign policy adviser to Chinese President Xi Jinping, Yang Jiechi, who is scheduled to visit Japan later Monday. He said China has been increasingly stepping up and using its influence over North Korea and that the two sides will thoroughly discuss the situation.

Besides its regular ballistic missile test-launches, the North carried out two nuclear tests last year — in January and September. Outside analysts believe North Korea may be able to arm some of its shorter—range missiles with nuclear warheads, though the exact state of the North’s secretive weapons program is unknown.

Despite the missile launches, South Korea under Moon has made tentative steps toward engaging the North by restarting stalled civilian aid and exchange programs. It said last week it would allow a civic group to contact North Korea about potentially offering help in treating malaria, the first government approval on cross-border civilian exchanges since January 2016.

तेजस्वी यादव ने साधा सुशील मोदी पर निशाना, अब क्यों नहीं PM नरेंद्र मोदी को खत लिखते, पूछे 7 सवाल

नई दिल्ली: बिहार की राजनीति में इन दिनों आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है. बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने पिछले दिनों लालू प्रसाद यादव पर कई घोटालों का आरोप लगाया. उन्होंने इससे जुड़े दस्तावेज भी मीडिया में जारी किए थे. अब सुशील मोदी भी तेजस्वी यादव के निशाने पर आ गए हैं. फेसबुक पर तेजस्वी ने लिखा है सुशील मोदी पर राजद ने जितने भी आरोप लगाए हैं उस वह कुंभकर्णी नींद सोए हुए हैं. खुद साधु होने का ढोंग रचकर नैतिकता और ईमानदारी का ढोल पीटते हैं, पर अपने घर में ही व्याप्त भ्रष्टाचार पर एक शब्द नहीं बोलते हैं और ना ही कोई स्पष्टीकरण देते है. तेजस्वी यादव ने सुशील मोदी से 7 सवाल पूछे हैं.

1- सुशील मोदी यह बताएं कि आर.के.मोदी उनके सगे भाई हैं कि नहीं? सुशील मोदी ज़रा बिहार की जनता को यह तो स्पष्ट करें कि कैसे इतने कम समय में सुशील मोदी परिवार ने हज़ारों-हज़ार करोड़ की सम्पत्ति अर्जित कर ली?

2- ललित छाछवरिया जैसे मनी लॉन्ड्रिंग के बेताज बादशाहों का उनके भाई की कम्पनी से क्या लेना देना है? आरके मोदी के ललित छाछवरिया से व्यावसायिक सम्बन्ध हैं कि नहीं?

3.इनके भाई की कम्पनी में जिस तरह 400-400 करोड़ की बेनामी एंट्री घुमाई गईं हैं, मनी लॉन्ड्रिंग की गई है, मनी लेयरिंग की गईं हैं. क्यों नहीं सुशील मोदी प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहते हैं कि मैं तो ईमानदारी का देवता हूं, पर मेरे ही परिवार की अनेकों रियल इस्टेट कंपनियों और तो और मेरे ही सगे भाई की कम्पनियां मसलन आशियाना होम्स प्रा० लि०, आशियाना लैंड्सक्राफ़्ट प्रा० लि० समेत अनेकों कंपनियों में की गई अब तक की कारगुज़ारियों के ख़िलाफ़ हूं. मेरे भाई की कंपनियों के बेमानी लेनदेन की भी जांच हो, भले ही मैं आपकी ही पार्टी का ही क्यों ना होऊं?

4.क्यों नहीं सुशील मोदी ED और अन्य एजेंसियों को लिखते कि उनके भाई की सभी कम्पनियों में धन के अर्जन, आवाजाही और स्रोतों तथा आर्थिक अनियमितताओं की पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता से जांच की जाए?

5- जिस प्रकार राजद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए वीडियो में साफ-साफ दिखाया कि सुशील मोदी के भाई आरके मोदी की कम्पनी के प्रोजेक्ट आशियाना मलबेरी, गुड़गांव के सेल्स मैनेजर अंकित मोदी ने स्पष्ट रूप से उक्त कंपनी को सुशील मोदी से जुड़ा बताया. क्यों नहीं सुशील मोदी अपने भाई पर मानहानि का केस दर्ज कराते?

6- जिस प्रकार उनके भाई की कंपनी का सेल्स मैनेजर अंकित मोदी साफ साफ ग्राहक को विश्वास दिलाने के लिए सुशील मोदी का नाम लेकर सत्ता का दंभ भर रहा है. क्या यह सच नहीं है कि गुडगांव और बाकि जगह के सारे फ्लैट सुशील मोदी के नाम पर ही बेचे जा रहे हैं? क्या सुशील मोदी ने अब तक इस बात का खंडन किया? क्या खंडन नहीं करने का स्पष्ट मतलब नहीं है कि इनके भाई की कंपनी में बेमानी निवेश किया गया है?

7- दूसरों के पंजीकरण किए हुए, कानूनी, वैध, हर प्रक्रिया की कसौटी पर कसे, जन सामान्य के लिए उपलब्ध सम्पत्ति की जानकारी को घोटाला बनाकर पेश करने वाले सनसनी के स्वामी सुशील मोदी हमारे आरोपों पर स्पष्टीकरण देने की हिम्मत क्यों नहीं जुटाते? अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने के वक़्त उनकी ज़ुबान बंद क्यों हो जाती है?

मेट्रो स्टेशन के बाहर पेशाब करने से रोका, ई-रिक्शा ड्राइवर को बेरहमी से पीटकर मार डाला

नई दिल्ली: सार्वजनिक स्थान पर पेशाब करने से रोकना एक ई-रिक्शा ड्राइवर को भारी पड़ गया और जिंदगी गंवानी पड़ी.  उत्तर पश्चिमी दिल्ली के मेट्रो स्टेशन जीटीबी नगर के बाहर कुछ बदमाशों ने एक रिक्शा ड्राइवर को सिर्फ इस बात पर पीट-पीटकर मार डाला कि उसने वहां खुले में पेशाब करने से रोका था. घटना शनिवार रात की बताई जा रही है. ड्राइवर का नाम रविंद्र कुमार बताया गया है. रविंद्र के भाई विजेंदर कुमार का कहना है कि उसने कुछ लड़कों को स्टेशन की दीवार पर कथित तौर पर पेशाब करने से रोका था.

पुलिस ने बताया कि कल शाम मृतक रवींद्र ने दो लोगों को मेट्रो स्टेशन के बाहर पेशाब करते हुए देखा और इस पर आपत्ति जताई. तब वे वहां से रविंद्र को बाद में सबक सिखाने की धमकी देकर चले गए. दोनों रात करीब आठ बजे दस और लोगों के साथ वापस आए और उसे बुरी तरह से पीटा. एक दूसरे ई-रिक्शा चालक ने बीचबचाव करने की कोशिश की लेकिन आरोपियों ने उसे भी पीटा. रवींद्र को अस्पताल ले जाया गया जहां उसने दम तोड़ दिया. पुलिस सूत्रों ने कहा कि दोनों व्यक्तियों की तस्वीरें वहां लगे सीसीटीवी में कैद हैं.

ऐसा संदेह है कि आरोपी एक प्रतियोगी परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली आए थे और हरियाणा के रहने वाले हैं.  रवींद्र मेट्रो स्टेशन के पास एक झुग्गी बस्ती में रहता था. उसकी पिछले साल शादी हुई थी और उसकी पत्नी सात महीने की गर्भवती है.  उधर, स्थानीय पुलिस अधिकारी सुरिंदर कुमार का कहना है कि जांच जारी है. आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस टीम का गठन किया गया है.

रामपुर में लड़कियों से छेड़छाड़ की घटना के बाद आजम खान ने महिलाओं को दे डाली सलाह

आजम खान ने कहा कि रेप और छेड़छाड़ से बचने के लिए महिलाओं को घरों में ही रहना चाहिए. लड़कियों को ऐसी जगहों पर नहीं जाना चाहिए, जहां बेशर्मी का नंगा नाच हो रहा हो.

रामपुर: उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में दो लड़कियों के साथ 14 लोगों द्वारा सरेआम छेड़छाड़ करने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने महिलाओं के लिए एक अजीबोगरीब सलाह दी है. उन्होंने कहा कि रेप और छेड़छाड़ से बचने के लिए महिलाओं को घरों में ही रहना चाहिए. लड़कियों को ऐसी जगहों पर नहीं जाना चाहिए, जहां बेशर्मी का नंगा नाच हो रहा हो.

आजम खान ने कहा, ‘पिछले दिनों लगातार महिलाओं के साथ छेड़छाड़ एवं अभद्रता, लूट, डकैती और हत्या की घटना हुई है. विधानसभा चुनावों से पहले मैंने लोगों से आग्रह किया था कि सपा की कानून-व्यवस्था की स्थिति को दिमाग में रखें। मैंने कहा था कि यदि भाजपा को मौका दिया गया तो कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब हो जाएगी.’ उन्होंने आरोप लगाया कि जबसे भाजपा सत्ता में आई है तबसे उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं रह गई हैं.

गौरतलब है कि रामपुर जिले में वहशीपन का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां दो लड़कियों के साथ सरेआम 14 लोगों ने छेड़खानी की. ये लड़के काफ़ी देर तक इन लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार करते रहे, उनके कपड़े खींचते रहे. यहां तक कि एक आरोपी ने तो एक लड़की को उठाकर ले जाने की भी कोशिश की. लड़कियां इन दरिंदों के सामने हाथ जोड़ती रही लेकिन उनका दिल नहीं पसीजा. लड़के छेड़छाड़ करते समय हंस रहे थे. इन लड़कों में से ही कुछ ने फोन पर घटना का वीडियो बना लिया और व्हाट्स ऐप पर भी शेयर कर दिया. छेड़छाड़ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

इस घटना से साफ है कि यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार की ओर से बनाए गए एंटी रोमियो स्क्वॉड का असर सूबे के मनचलों पर नहीं दिख रहा है. हालांकि पुलिस ने इस मामले में 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर इनमें से कुछ को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है.

इस घटना को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सवाल किया कि क्या यह वही कानून और व्यवस्था है, जिसका वायदा भाजपा ने सत्ता में आने से पहले किया था.

‘अमरीका की नज़र में सऊदी अरब है दुधारू गाय’

ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतुल्लाह अली ख़ामेनेई ने सऊदी अरब के ख़िलाफ़ कड़ा बयान दिया है और कहा है कि सऊदी अरब सरकार कुरान का पालन नहीं कर रही.

शनिवार को इस्लामी महीने रमज़ान की शुरुआत के मौके पर एक समारोह में ख़ामेनेई ने कहा “सऊदी सरकार अयोग्य है और कुरान की शिक्षाओं के ख़िलाफ़ काम कर रही है”.

उन्होंने कहा कि अमरीका सऊदी अरब का इस्तेमाल “दूध देने वाली गाय” की तरह कर रहा है.

सऊदी अरब पर बोले आयतुल्लाह

हज यात्रा पर ख़मेनेई ने सऊदी को आड़े हाथों लिया

अमरीका की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा, “ये बेवकूफ़ समझते हैं कि पैसा खर्च कर के वो इस्लाम के दुश्मनों से दोस्ती कर लेंगे- लेकिन इनके बीच ऐसी कोई दोस्ती नहीं है. सऊदी अरब दुधारू गाय की तरह हैं. जब उनसे सारा दूध दुह लिया जाएगा तो उन्हें कत्ल कर दिया जाएगा. आज की इस्लामी दुनिया की यही स्थिति है.”

उन्होंने कहा, “देखिए उन्होंने यमन और बहरीन के लोगों के साथ कैसा अधर्मी व्यवहार किया. वो ज़रूर ख़त्म हो जाएंगे.”

डोनल्ड ट्रंप का सऊदी अरब दौरा

हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब का दौरा किया था. इस दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच हथियारों का सौदा हुआ, जिसके तहत सऊदी अरब अमरीका से 350 अरब डॉलर के हथियार खरीदेगा.

बीते साल ख़ामेनेई ने अमरीका पर आरोप लगाया था कि “वह पश्चिम में ईरान के साथ परमाणु समझौते पर वादा ख़िलाफ़ी कर रहा है और अमरीका पर भरोसा करना उसकी ग़लती थी.”

मध्यपूर्व में ईरान की बढ़ता प्रभाव रोकने के लिए अमरीका सऊदी अरब को अपने ख़ास सहयोगी के रूप में देखता है.

ईरान और सऊदी अरब के बीच गंभीर तनाव है और क्षेत्रीय स्तर पर दोनों एक दूसरे के ख़िलाफ़ कई मोर्चों पर शामिल हैं जिनमें सीरिया और यमन शामिल हैं.

कश्मीर की अनदेखी, अनसुनी कहानियां

साल 2016 की गर्मियों में हुए हिंसक प्रदर्शनों और कई लोगों की मौत के बाद अब एक और गर्मी आई है.

आशंका है कि भावनाएं फिर ना भड़कें, भारत से ‘आज़ादी’ के नारे फिर ना बुलंद हों.

12 साल का मृत बच्चा बना कश्मीर समस्या का चेहरा …

कश्मीर की ये ‘पत्थरबाज़ लड़कियां’

ऐसे में भारत और पाकिस्तान के बीच बंटी हुई कश्मीर वादी में लोगों को आखिर क्या जोड़ता है?

बच्चे और युवा अपने आने वाले कल के लिए क्या ख़्वाब देख रहे हैं?

वहां की बच्चियों का जीवन, वादी के बाहर रह रही बच्चियों की ज़िंदगी से कितना अलग है?

कश्मीर की लड़कियां

ऐसे ही सवालों के जवाब जानने बीबीसी संवाददाताओं की टीमें भारत प्रशासित और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर गईं.

आने वाले दिनों में हम आप तक लाएंगे वादी में रह रही एक बच्ची की दिल्ली में रह रही एक लड़की से चिट्ठियों के ज़रिए बातचीत.

कश्मीर का इलाका जहां कोई वोट देने नहीं आया

16 साल के ज़ेयान का फ़ेसबुक की तर्ज़ पर काशबुक!

दो हिस्सों में बँटे कश्मीर से जब लड़कियाँ शादी करके ‘दूसरी तरफ़’ यानी भारत और पाकिस्तान गईं तो उन पर क्या गुज़री, ये भी हम आप तक पहुँचाएँगे.

साल 2012 में हिंसक प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतरे पत्थरबाज़ों के बदलते जीवन का ब्योरा भी होगा.

कश्मीर में सुरक्षा बल

तस्वीर का दूसरा पहलू भी होगा, वादी में तैनात सुरक्षा बलों की चुनौतियां और नज़रिया भी होगा. परिवार से दूर और पत्थरबाज़ों के सामने खड़े सिपाही की बात होगी.

वादी छोड़ भारत में नौकरी और काम के लिए बस गए कश्मीरी लोगों से मुलाकात होगी.

कश्मीर पर अब सवाल नरेंद्र मोदी से पूछा जाएगा

अपने ही समाज में आज कहां खड़ी हैं कश्मीरी औरतें?

साथ ही वादी में गूंजते संगीत की भी झलक होगी.

जिसमें वानवुन की धुनों से लेकर हिंसा के ख़िलाफ़ आवाज़ के तौर पर उभरे संगीत की गूंज होगी.

तीन गोलियाँ जिन्होंने भारत को हिला कर रख दिया

27 अप्रैल, 1959 का दिन था. बंबई पुलिस के उप कमिश्नर जॉन लोबो मुंबई की चिपचिपाती गर्मी से बचने के लिए नीलगिरि के पहाड़ों में जाने की योजना बना रहे थे.

लेकिन तभी शाम पांच बजे उनके फ़ोन की घंटी बजी. नौसेना के कमांडर सैमुअल लाइन पर थे. ‘कमांडर नानावती आप से मिलने आ रहे हैं. अभी वो मेरे पास ही थे.’

लोबो ने पूछा, ‘हुआ क्या है?’ सैमुअल का जवाब आया, ‘उनका एक आदमी से झगड़ा हुआ था, जिसे उन्होंने गोली मार दी है.’

कुछ देर बाद लोबो को अपने कमरे के बाहर एक आवाज़ सुनाई दी, ‘लोबो साहब का कमरा कहाँ है?’

नौसेना की सफ़ेद वर्दी पहने हुए एक लंबा शख़्स उनके कमरे में दाखिल हुआ. उसने अपना परिचय कमांडर नानावती कह कर कराया.

नानावती ने बिना कोई वक्त ज़ाया करते हुए कहा, ‘मैंने एक शख़्स को गोली मार दी है.’

नानावटी केस पर आधारित पत्रकार बची करकरिया की किताब ‘इन हॉट ब्लड’ पर रेहान फ़ज़ल की विवेचना

नानावटी को झटका

लोबो ने जवाब दिया, ‘वो मर चुका है. अभी-अभी गामदेवी पुलिस स्टेशन से मेरे पास एक संदेश आया है.’

ये सुनते ही नानावती का मुंह पीला पड़ गया. कुछ सेकेंड तक कोई कुछ नहीं बोला.

लोबो ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा, ‘आप एक प्याला चाय पीना पसंद करेंगे?’ ‘नहीं मुझे सिर्फ़ एक ग्लास पानी चाहिए,’ पसीने से तर नानावती ने जवाब दिया.

किस्सा कुछ यूँ था कि उस दिन आईएनएस मैसूर के सेकेंड-इन-कमान लेफ़्टिनेंट कमांडर नानावती कुछ दिन बाहर रहने के बाद जब वापस अपने घर लौटे तो उन्होंने अपनी अंग्रेज़ पत्नी सिल्विया का हाथ अपने हाथों में लेना चाहा, तो उन्होंने उसे झटक दिया.

आहत नानावती ने जब सिल्विया से पूछा, ‘क्या अब तुम मुझे प्यार नहीं करतीं?’, सिल्विया ने कोई जवाब नहीं दिया.

नानावती ने फिर ज़ोर दे कर पूछा, ‘क्या हमारे बीच कोई दूसरा शख़्स आ गया है?’ इसका जो जवाब सिल्विया ने दिया, उसको न सुनने के लिए नानावती पूरी दुनिया क़ुर्बान कर सकते थे.

बची करकरिया की किताबइमेज कॉपीरइटJUGGERNAUT
Image captionबची करकरिया की किताब ‘इन हॉट ब्लड द नानवती केस दैट शुक इंडिया’

बची करकरिया की किताब

लेकिन कवास नानावती ने अपनी पत्नी से एक शब्द भी नहीं कहा. इसके बाद वो दोनों अपने कुत्ते को दिखाने डॉक्टर के पास ले कर गए.

लौट कर उन्होंने शोरबेदार कटलेट्स और प्रॉन करी और चावल का भोजन किया और पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार नानावती ने सिल्विया और बच्चों को अंग्रेज़ी फ़िल्म ‘टॉम थंब’ का मैटिनी शो दिखाने के लिए मेट्रो सिनेमा पर छोड़ दिया.

इसके बाद नानावती अपने पोत पर गए जहाँ से उन्होंने .38 स्मिथ एंड बेसन रिवॉल्वर निकाली और अपनी पत्नी के प्रेमी प्रेम आहूजा को उनके घर जा कर गोली से उड़ा दिया.

उस समय आहूजा, नहाने के बाद कमर पर तौलिया लपेटे, आईने के सामने अपने बालों में कंधी कर रहे थे.

‘इन हॉट ब्लड द नानवती केस दैट शुक इंडिया’ की लेखिका बची करकरिया बताती हैं, ”मुझे इस केस में सबसे ख़ास बात ये लगी कि ये मामूली हत्या का केस इतनी ऊँचाई तक पहुंच गया कि प्रधानमंत्री नेहरू तक को इसके बारे में प्रेस को जवाब देना पड़ा. जब हाईकोर्ट ने नानावती को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई तो चार घंटे के भीतर बंबई के राज्यपाल ने आदेश दे दिया कि इस फ़ैसले को तब तक स्थगित रखा जाए जब तक नानावती की अपील पर फ़ैसला नहीं आ जाता. इसकी समीक्षा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ को बैठना पड़ा. एक अडल्ट्री के केस में ऐसा पहली बार हुआ था. इस केस में रक्षा मंत्री से ले कर प्रधानमंत्री तक को बीच में पड़ना पड़ा. ये एक अजीब-सा केस था जिसमें प्रेम था, दग़ाबाज़ी थी, ऊँचे समाज का अपराध था. यही वजह है कि इस घटना को हुए 58 साल बीत चुके हैं, लेकिन लोगों की दिलचस्पी अभी तक इस केस में बनी हुई है.”

राम जेठमलानीइमेज कॉपीरइटJUGGERNAUT
Image captionराम जेठमलानी को नानावती केस ने राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित कर दिया

नामचीन वकील

उस समय भारत के चोटी के वकीलों ने दोनों पक्षों की ओर से अपनी अपनी दलीलें रखीं. नानावती ने मशहूर क्रिमिनल वकील कार्ल खंडालवाला की सेवाएं लीं.

खंडालवाला ने ये कहते हुए अपने तर्कों का अंत किया कि वो अपने मुवक्किल के लिए सहानुभूति या दया की मांग नहीं करेंगे क्योंकि उनकी नज़रों में उन्होंने कोई अपराध किया ही नहीं है.

बाद में रजनी पटेल, वाई वी चंद्रचूड़, ननी पालखीवाला, एम सी सीतलवाड, सी के दफ़्तरी और गोपाल स्वरूप पाठक ने एक न एक पक्ष की ओर से बहस में हिस्सा लिया.

उस ज़माने में अपना करियर शुरू कर रहे राम जेठमलानी को तो इस केस ने राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित कर दिया.

करकरिया बताती हैं, ”उस समय राम जेठमलानी काफ़ी जूनियर वकील थे और पब्लिक प्रॉसीक्यूटर नहीं थे. प्रेम आहूजा की बहन मैमी ने एक पर्यवेक्षक की तरह उनकी सेवाएं ली थीं. जेठमलानी उस समय भी बहुत होशियार वकील थे. उनका तर्क था कि अगर खंडालवाला की इस दलील को सही माना जाए कि गोलियाँ हाथापाई के बाद चलीं, तो प्रेम भाटिया का तौलिया गोलियाँ लगने के बाद भी उनकी कमर से चिपका क्यों रह गया? उनकी दलीलों की वजह से ही डिफ़ेस की इतनी बड़ी कहानी धराशाई हो गई.”

नानावती, सिल्वियाइमेज कॉपीरइटJUGGERNAUT
Image captionनानावती और सिल्विया

नौसेना के बड़े अधिकारी

प्रेम आहूजा की तरफ़ से बहस कर रहे सी एम त्रिवेदी ने कार्ल खंडालवाला की उस दलील की काट पेश की कि ये गोलियाँ दुर्घटनावश चली थीं और नानावती का इरादा प्रेम अहूजा को मौत के घाट उतारने का नहीं था.

अदालत में बोलते हुए त्रिवेदी ने कहा, ”मेरे प्रतिद्वंदी की बातें ठोस तथ्यों और दलीलों की जगह नहीं ले सकतीं. मुझे तो बहुत शक है कि वो अदालत में बोल रहे हैं या किसी नाटक के मंच पर. मैं जूरी को आगाह करना चाहता हूँ कि इस शख़्स के दिखावे और बड़े तमग़ों की कतारों से प्रभावित न हों. वो इस बात से भी प्रभावित न हों कि नौसेना के बड़े से बड़े अधिकारी इस शख़्स के चरित्र को सही ठहराने के लिए इस अदालत में आ कर गवाही दे रहे हैं. मुझे तो ऐसा लग रहा है कि पूरी नौसेना, नागरिक प्रशासन से लड़ाई पर उतर गई है. सच मानिए, ये पूरा मामला एक प्रेम त्रिकोण का है और ये आदम और हव्वा के ज़माने से होता आ रहा है.”

ललिता रामदास पूर्व नौसेनाध्यक्ष ऐडमिरल रामदास की पत्नी हैं. जिस समय ये घटना हुई थी, वो कॉलेज में पढ़ रही थीं. उस समय के नौसेनाध्यक्ष ऐडमिरल रामदास कटारी उनके पिता थे. चूंकि नानावती उनके पिता के प्रिय अफ़सर थे, ललिता उन्हें अंकल कह कर बुलाती थी.

नानावती, सिल्वियाइमेज कॉपीरइटJUGGERNAUT

आर्थर रोड जेल

ललिता रामदास याद करती हैं, ‘जब मैं पहली बार नानावती से मिली तो वो लेफ़्टिनेंट हुआ करते थे. ये सब हमारे घर पर आते थे, खाना खाते थे और गप्पें लगाते थे. मेरे पिता ऐडमिरल रामदास आज़ादी के बाद पहले भारतीय नौसेनाध्यक्ष बनाए गए थे. मेरी नज़र में नानावती बहुत ही पेशेवर नौसैनिक अधिकारी थे. मुझे याद है जब इन दोनों की शादी हुई थी. सिल्विया बहुत सुंदर थीं. नानावती बहुत डैशिंग थे और लोग हम उनको हीरो वरशिप किया करते थे. गज़ब के कपल थे वो दोनों.’

दिलचस्प बात ये थी कि कमांडर नानावती को उनकी गिरफ़्तारी के बाद आर्थर रोड जेल में न रख कर नौसेना की जेल में रखा गया था.

कहा तो यहाँ तक जाता था कि उनके कुत्ते तक को उनसे मिलवाने नौसेना की उस जेल में ले जाया जाता था.

जब भी नानावती अदालत में सुनवाई के लिए आते, वो नौसेना की सफ़ेद बुर्राक वर्दी पहने हुए होते और उनको मिले तमग़े उन पर चमक रहे होते. मैंने बची करकरिया से पूछा, ”क्या उन्होंने ऐसा अपने वकीलों की सलाह पर किया था?”

ब्लिट्ज़ अख़बार की सुर्खीइमेज कॉपीरइटJUGGERNAUT

‘ब्लिट्ज़’ का समर्थन

बची का जवाब था, ”ऐसा लगता है कि ऐसा उन्होंने जानबूझ कर किया था. एक तो वो लंबे-चौड़े थे… छह फ़ीट से ऊँचा उनका कद था. अदालत में ये चीज़ बारबार कही गई कि नानावती की गिनती भारतीय नौसेना के सबसे काबिल अफ़सरों में होती है. ऐसा लग रहा था कि प्रेम ने उनकी बीबी को अपने प्रेम जाल में फंसा कर ग़ैर देशभक्तिपूर्ण काम किया था.”

इस पूरे मामले में बंबई से छपने वाला अंग्रेज़ी टैबलॉएड ‘ब्लिट्ज़’ खुल कर नानावती के समर्थन में उतर आया.

आजकल आमतौर से अपराधी का मीडिया ट्रायल किया जाता है, लेकिन तब ‘ब्लिट्ज़’ ने पीड़ित का मीडिया ट्रायल कर एक नई मिसाल कायम की थी.

सबीना गडियोक जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के एके किदवई मीडिया रिसर्च सेंटर में प्रोफ़ेसर हैं जिन्होंने इस हत्याकांड के उस समय के मीडिया कवरेज पर एक लेख लिखा है.

सबीना बताती हैं, ”टेलीविज़न युग से पहले नानावती केस एक तरह का मीडिया इवेंट था. प्रेम आहूजा के नाम पर तौलिए बिकने लगे और हॉकर आवाज़ें लगाने लगे, आहूजा का तौलिया… मारेगा तो भी नहीं गिरेगा.”

सबीना गडियोक, रेहान फ़ज़ल

राष्ट्रीय महत्व

जब नानावती कोर्ट में जाते थे तो लड़कियाँ खड़े हो कर उन पर फूल फेंकती थीं. ब्लिट्ज़ ने सुनिश्चित किया कि हर क़ानूनी लड़ाई हारने के बावजूद नानावती दिमाग़ और दिल की लड़ाई जीतें.

शायद इसी वजह से उन्हें माफ़ी भी मिली, लेकिन उन्हें अपने ऊँचे उठते करियर से हाथ धोना पड़ा. इस तरह से एक स्कैंडल को राष्ट्रीय महत्व मिल गया.

ये एक ऐसा समय नहीं था जिसे राजनीतिक रूप से ठंडा कहा जा सके. पाकिस्तान के साथ भारत का तनाव बढ़ रहा था. चीन के साथ भी भारत के मतभेद शुरू हो चुके थे.

नए राज्यों का गठन हो रहा था. केरल में पहली कम्युनिस्ट सरकार का गठन हो चुका था. लेकिन इसके बावजूद हर जगह नानावती केस की चर्चा हो रही थी. दिल्ली के अख़बारों में भी इसका काफ़ी ज़िक्र था.’

मीडिया कवरेज का ही असर था कि अपराध करने के बावजूद पूरे देश की सहानुभूति नानावती के साथ थी. यहाँ तक कि कुछ हलकों में इस मुक़दमे की तुलना महात्मा गांधी की हत्या के मुक़दमे से की गई थी.

नेहरू और कृष्ण मेनन

गांडी हत्याकांड से तुलना

सबीना बताती हैं, ‘इंडियन एक्सप्रेस ने न सिर्फ़ इसकी गांधी हत्याकांड बल्कि बंगाल के भुवाल संन्यासी मुकदमे, मेरठ कॉन्सपिरेसी केस और यहाँ तक कि भगत सिंह के मुकदमे से भी इसकी तुलना की.’

ब्लिट्ज़ इस हद तक गया कि उसने ये तर्क भी दे डाला कि कमांडर नानावती को सिर्फ़ इसलिए छोड़ दिया जाए कि चीन के साथ युद्ध में उनके विशाल अनुभव का फ़ायदा उठाया जा सके.

ये पहला मौका था जब नौसेनाध्यक्ष ऐडमिरल कटारी ख़ुद अपने कैनबरा विमान से उड़ कर नानावती के पक्ष में गवाही देने बंबई पहुंचे थे. पूरी नौसेना और यहाँ तक कि रक्षा मंत्री वी के कृष्ण मेनन भी खुल कर नानावती के समर्थन में आ गए थे.

बची करकरिया बताती हैं, ”रक्षा मंत्री ने कई कदम आगे बढ़ कर नानावती का समर्थन किया. नानावती लंदन में भारतीय उच्चायोग में नैवेल अटाशी के पद पर काम कर चुके थे. शायद उस समय से मेनन उनको जानते थे. नेहरू तक ने सफाई दी कि नानावती के किसी परिवार वाले ने उनकी सिफ़ारिश उनसे नहीं की थी. लेकिन नौसेनाध्यक्ष ने ज़रूर कहा था कि नानावती बहुत काबिल अफ़सर हैं, इसलिए उनके साथ इतनी सख़्ती से पेश नहीं आया जाए.’

ये रास्ते हैं प्यार के

नानावती पर फ़िल्में

लेकिन तमाम जन समर्थन के बावजूद कवास नानावती सारी कानूनी लड़ाइयाँ हार गए और सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई.

पर नानावती को बहुत अधिक समय तक जेल में नहीं रहना पड़ा. महाराष्ट्र की तत्कालीन राज्यपाल विजयलक्ष्मी पंडित ने उनकी सज़ा समाप्त करते हुए उन्हें क्षमादान दे दिया.

नानावती और सिल्विया की इस कहानी को भारत ही नहीं दूसरे देशों में भी काफ़ी कवरेज मिली. टाइम और न्यूयॉर्कर ने इस पर कहानियाँ की.

इस विषय पर कम से कम तीन हिंदी फ़िल्में बनाई गईं.

नानावती, सिल्विया

नानावती का निधन

प्रोफ़ेसर सबीना गडियोक बताती हैं, “एक फ़िल्म बनी ‘ये रास्ते हैं प्यार के’, फिर एक फ़िल्म बनी ‘अचानक’ और हाल में एक और फ़िल्म बनी ‘रुस्तम’ जिसमें इस कहानी को आधार बनाया गया. सलमान रुश्दी की ‘मिडनाइट चिल्ड्रेन’ में भी इसकी झलक दिखाई दी. साल 2002 में इंदिरा सिन्हा ने इस पर एक उपन्यास लिखा, ‘द डेथ ऑफ़ मिस्टर लव.’ रोहिंटन मिस्त्री की किताब ‘सच ए लॉन्ग जर्नी’ में भी इसका ज़िक्र किया गया. दो साल पहले आई फ़िल्म ‘बॉम्बे वेलवेट’ में भी इस प्रकरण को याद करते हुए एक गाना फ़िल्माया गया, ‘ये तूने क्या किया, सिल्विया.”

17 मार्च, 1964 को नानावती को लोनावला के एक बंगले, ‘सनडाउन’ से रिहा कर दिया गया. यहाँ वो एक-एक महीने के परोल पर पिछले छह महीनों से रह रहे थे.

नानावती ने तीन साल से भी कम समय जेल में बिताया. जेल से छूटते ही नानावती अपनी पत्नी सिल्विया के साथ कनाडा जा कर वहीं बस गए.

वहाँ सन 2003 में उनका देहांत हो गया. उनकी पत्नी सिल्विया अभी भी जीवित हैं, लेकिन इस मुदे पर किसी से बात नहीं करना चाहतीं.