Today’s Doodle Is Dedicated to Cornelia Sorabji’s,India’s first woman advocate

Cornelia was born in Nashik in the erstwhile Bombay Presidency of colonial India on this day in 1866. Her parents Reverend Sorabji Karsedji and Francina Ford were advocates of women’s education and established several girls’ schools in Pune. They encouraged Cornelia to take higher studies, and she went on to become the first woman to be graduated from Bombay University.

Cornelia took up law at the famous Oxford University and it was no easy task. It was a time when universities were reluctant to accept female students. The National Indian Association came to Cornelia’s help. Her English friends petitioned on her behalf to allow her to sit for Civil Laws exam at Somerville College, Oxford. In 1894, she completed her course, but the University didn’t award her a degree. Oxford University started awarding degrees to women only since 1922.

Even after completion of her education, Cornelia was not allowed to plead in courts both in England as well as India. She returned to her homeland and became a legal advisor. She took the cause of purdahnashins, the veiled women who were forbidden to interact with men outside their families. She helped widowed purdahnashins get their rightful share of the property, helped them pursue education and secure employment. She succeeded in pursuing the government to appoint Lady Assistants to the courts to help women litigants.

Cornelia again appeared for LLB examination in Bombay University to obtain a law degree, becoming the first woman graduate from the institution. She cleared the pleader examination in Allahabad High Court in 1899 but she was not acknowledged as a barrister.

Only in 1923 colonial courts opened their doors to women advocates. The next year Cornelia began practicing in Kolkata. In addition to pleading for her clients, she had to fight bias and male domination in courts. Six years later she retired and moved to London. She died on July 6, 1954.

She has published two autobiographies India Calling: The Memories of Cornelia Sorabji, and India Recalled, a biography of her parents, and numerous articles on Purdahnashins.

Opening for Front End Developer at Iskpro Pvt Ltd, Noida

Iskpro Pvt Ltd. is looking for Front End Developer for its Noida based office.

Experience Required:  4-8 Years

Working Days:  Mon-Fri

Must Have Skills:

Great experience in Angular

Job Description:

  • Proficiency with JavaScript and HTML5

  • Professional, precise communication skills

  • Deep Experience of AngularJS practices and commonly used modules based on extensive work experience

  • Highly Stack development Experience

  • Extensive knowledge of CSS and JS methods for providing performant visual effects

  • Thorough understanding of the responsibilities of the platform, database, API, caching layer, proxies, and other web services used in the system

  • Experience with building the infrastructure for serving the front-end app and assets

  • Architecting and automating the build process for production

About The Company:

ISKPRO is a digital agency, specializing in design and development of interactive web and mobile solutions; and promoting them through tailor-made digital marketing strategies.

Founded in Rochester, New York, in the year 2004, ISKPRO set out on a journey of discovering, learning and creating best in class solutions that would touch lives globally. Within a short span of time, we grew from a two-person endeavor to a 120-person business facility. In an era when businesses were fumbling to comprehend the dynamics of digital marketing, we instituted our presence through our bespoke digital marketing solutions such as SEO and paid (PPC) marketing services.

Read More: http://www.iskpro.com

Interested candidates may send their resume to recruitment@iskpro.com

Contact Number: 0120-4307678

More: Requirement of Android Lead Developer at Iskpro Pvt Ltd Noida

Requirement For iOS Lead Developer at Iskpro Pvt Ltd, Noida.

Opening For WordPress Manager in Iskpro Pvt Ltd, Noida

Iskpro Pvt Ltd. is looking for WordPress Manager for its Noida based office.

Experience Required:  4-8 Years

Working Days:  Mon-Fri

Must Have Skills:

Should have great experience in managing team + handling website launch / Servers

Job Description:

  • Strong understanding of theme development and plugin development must.

  • Good understanding of front-end technologies, including HTML5, CSS3, JavaScript, jQuery, Angular 2

  • Strong knowledge of how to interact with RESTful APIs and formats (JSON, XML)

  • Strong understanding of code versioning tools {{such as Git, Bitbucket}}

  • Good understanding of PHP back-end development.

  • Strong understanding and Knowledge of Mysql DB query.

  • Good understanding and Knowledge of anyone frameworks like CodeIgniter, Laravel etc.

  • Strong listening and questioning skills to ensure connection and the ability to act on clients’ needs.

About The Company:

ISKPRO is a digital agency, specializing in design and development of interactive web and mobile solutions; and promoting them through tailor-made digital marketing strategies.

Founded in Rochester, New York, in the year 2004, ISKPRO set out on a journey of discovering, learning and creating best in class solutions that would touch lives globally. Within a short span of time, we grew from a two-person endeavor to a 120-person business facility. In an era when businesses were fumbling to comprehend the dynamics of digital marketing, we instituted our presence through our bespoke digital marketing solutions such as SEO and paid (PPC) marketing services.

Read More: http://www.iskpro.com

Interested candidates may send their resume to recruitment@iskpro.com

Contact Number: 0120-4307678

More Requirement of Android Lead Developer at Iskpro Pvt Ltd Noida

 

Requirement of Android Lead Developer at Iskpro Pvt Ltd Noida

Iskpro Pvt Ltd. is looking for Android Lead Developer for its Noida based office.

Experience Required:  4-8 Years

Working Days:  Mon-Fri

Role Description:

Design, build and configure applications to meet business process and application requirements.

Must Have Skills:

Android Application Development with Machine learning / Artificial Intelligence.

Job Description:

  • 4-8 Years of total industry experience.
  • Knowledge of Kotlin
  • Extensive experience (2-3 Years) in developing enterprise/business/ smart apps on the native Android platform.
  • Proven experience of at least 1 year of developing enterprise-grade apps.
  • Expert level hands-on knowledge of Android architectural principles, Human Interface Guidelines, Testing Frameworks and automation, Code Coverage tools, Profilers for Memory, CPU and File Systems.
  • Hands-on experience in designing and integrating web-services interfaces (SOAP/ RESTful- JSON/ XML based) with native apps.
  • Hands-on experience of working on DBMS, particularly SQLite.
  • Experience working with backend technologies (e.g., Java, .NET, Python, Ruby, Node.js) a plus.

About The Company:

ISKPRO is a digital agency, specializing in design and development of interactive web and mobile solutions; and promoting them through tailor-made digital marketing strategies.

Founded in Rochester, New York, in the year 2004, ISKPRO set out on a journey of discovering, learning and creating best in class solutions that would touch lives globally. Within a short span of time, we grew from a two-person endeavor to a 120-person business facility. In an era when businesses were fumbling to comprehend the dynamics of digital marketing, we instituted our presence through our bespoke digital marketing solutions such as SEO and paid (PPC) marketing services.

Read More: http://www.iskpro.com

 

 

Interested candidates may send their resume to recruitment@iskpro.com

Contact Number: 0120-4307678

 

 

 

 

Requirement For iOS Lead Developer at Iskpro Pvt Ltd, Noida.

Iskpro Pvt Ltd. is looking for iOS Lead Developer for its Noida based office.

Experience Required:  4-8 Years

Working Days:  Mon-Fri

Role Description:

Design, build and configure applications to meet business process and application requirements.

Must Have Skills:

iOS Application Development with Machine learning / Artificial Intelligence.

Job Description:

  • 4-8 Years of total industry experience.
  • Experience with iOS 6+ SDK.
  • Knowledge of Swift (must).
  • Extensive experience (2-3 Years) in developing enterprise/business/ smart apps on the native Android platform.
  • Proven experience of at least 1 year of developing enterprise-grade apps.
  • Hands-on experience in designing and integrating web-services interfaces (SOAP/ RESTful- JSON/ XML based) with native apps.
  • Hands-on experience of working on DBMS, particularly SQLite.
  • Experience working with backend technologies (e.g., Java, .NET, Python, Ruby, Node.js) a plus.
  • Experience with AR/VR.

About The Company:

ISKPRO is a digital agency, specializing in design and development of interactive web and mobile solutions; and promoting them through tailor-made digital marketing strategies.

Founded in Rochester, New York, in the year 2004, ISKPRO set out on a journey of discovering, learning and creating best in class solutions that would touch lives globally. Within a short span of time, we grew from a two-person endeavor to a 120-person business facility. In an era when businesses were fumbling to comprehend the dynamics of digital marketing, we instituted our presence through our bespoke digital marketing solutions such as SEO and paid (PPC) marketing services.

Read More: http://www.iskpro.com

 

 

Interested candidates may send their resume to recruitment@iskpro.com

Contact Number: 0120-4307678

 

 

 

 

Hijab-wearing Barbie doll-Doll Modeled After Ibtihaj Muhammad

The maker of Barbie has announced it will sell a doll modeled after Ibtihaj Muhammad, an American fencer who competed in last year’s Olympics while wearing a hijab.

The doll is part of the Barbie “Shero” line that honors women who break boundaries. Past dolls have included gymnast Gabby Douglas and “Selma” director Ava DuVernay.

Muhammad, the first American to compete at the Olympics while wearing a hijab, won a bronze medal in fencing at the 2016 Rio Game.

Today’s Google Doodle is Dedicated to the 131st Anniversary of Hole Punture

Today’s Google Doodle is Dedicated to the 131st Anniversary of Hole Punture.

The origins of the hole punch date back to Germany via Matthias Theel, where two early patents for a device designed to “punch holes in paper” have since[when?] been discovered.[4] Friedrich Soennecken filed his patent on 14 November 1886, for his Papierlocher für Sammelmappen.

hole punch (also known as a hole puncher) is a common office tool that is used to create holes in sheets of paper, often for the purpose of collecting the sheets in a binder or folder. A leather punch, of different construction from one designed for paper, is used for leather goods, cloth, or thin plastic sheeting. Hole punch tools are also made for use on sheet metal, such as aluminum siding or metal air ducts.A typical hole punch, whether a single or multiple hole punch,

One lakh Indians book ticket for Mars

Around 1,38,899, people from India are Mars-bound. They have ‘booked’ a flight to the Red Planet via Nasa’s InSight (Interior Exploration using Seismic Investigations, Geodesy and Heat Transport) mission slated for launch on May 5, 2018. Nasa states that those who submitted their names were provided online ‘boarding passes’ for the mission.

The names are being etched on a silicon wafer microchip using an electron beam to form letters with lines one one-thousandth the diameter of of a human hair. This chip will then be attached to the top hull of the lander.

Several Indians responded to Nasa’s call for names for the Mars mission. The total number of names received by Nasa from all over the world is 2,429,807.

According to Nasa on Wednesday, India ranks third in the global list with regard to the number of names submitted for the Mars mission.

The first is the US with 6,76,773 names followed by China with 2,62,752 names. India stands at number three.

Space experts point out that US leading the list is not surprising since it is, after all, a NASA mission. However, they do say that the fact that India is next to China is a matter of significance. They attribute India being ranked among the first three nations to two factors: the excitement and interest in Mars flights triggered by India’s ground-breaking Mangalyaan mission, and the overall strengthening of India-US space ties.

Slated for landing near the Mars equator on November 26, 2018, it is a 720-day mission, which will gather data on the Martian interior by monitoring Marsquakes.

B.E. MBA MCA graduates appeared for “Sweeper Exam” held in HC, Chennai

On Last Sunday, the Written exam for the Sweepers happened in High Court, Chennai. More than 3000 people participated in this examination & shockingly 2500 cleared it successfully but the more shocking thing is yet to come. When the Lawyers and evaluation panel of High Court tried to find the reason behind it that how 2500 candidates out of 3000 cleared the examination then they came to know that all the selected candidates were B.E., MBA, MCA graduates. Yes, you heard it right. B.E., MBA, MCA graduates applied for the position for which 8th Standard candidates were required.

Now, the question arises whether it’s joblessness or the greed of Government Job because if the same vacancy arises in the Private Sector, none of them will apply.

Please write your views in the comment.

 

 

Published By

Arafat Akhtar

Indian 4G speed lowest in 77 nations

India has 84.03% 4G availability, making it one of the top countries in terms of 4G availability, according to a report by OpenSignal. However, in terms of 4G speed, India lies at the very bottom among 77 countries with 6.13 Mbps being the average speed.

The report highlighted that there is no country that has yet cracked 50 Mbps average 4G download speed even though some of the operators may have broken this barrier but there is no country that has consistently been able to provide LTE connections greater than 50 Mbps. South Korea and Singapore cut the closest with average 45.9 Mbps and 46.6 Mbps 4G speeds respectively.

Microsoft’s Satya Nadella to visit India next week

Satya Nadella, the India-born CEO of tech giant Microsoft, will be in India next week on a two- day visit to promote his book ‘Hit Refresh’.

Nadella, who will be in India on November 6-7, will visit Hyderabad and Delhi and engage with government officials, industry leaders, students and academia among other stakeholders, a Microsoft spokesperson told.

“The two-day trip is focused on the book. His (Nadella) engagements include meetings with customers and industry leaders across sectors, union government and employees,” the spokesperson added.”

This Japan Company Gives Non-Smokers 6 Extra Paid Leaves

One Japanese marketing firm has reportedly offered its non-smoking workers an extra six days of paid leave a year after they kicked up a stink about their smoking colleagues taking too much time during cigarette breaks.

According to a report from the UK’s ‘The Telegraph’, Piala Inc. introduced the system as a way to appease disgruntled employees who believed it took far too long for smoking workers to travel between the company’s 29th-floor head office and the basement smoking area in their Tokyo-based building

“One of our non-smoking staff put a message in the company suggestion box earlier in the year saying that smoking breaks were causing problems,” a Piala spokesperson told ‘The Telegraph’.

“Our CEO saw the comment and agreed, so we are giving non-smokers some extra time off to compensate.”

At least 22 people dead in Power Plant Explosion

At least 22 people have been killed and as many as 100 injured in a blast at a coal-fired power plant in north India’s Uttar Pradesh state, officials say.

About 80 people have been rushed to the company hospital, the government-owned plant operator National Thermal Power Corporation (NTPC) Limited said.

A further 10 people with serious injuries were sent to other facilities.

NTPC said there had been a “sudden abnormal sound” and an escape of gases and steam before the explosion.

The firm has launched an investigation into the blast at the plant, based near the town of Unchahar.

A state police chief, Anand Kumar, said in a video statement, that preliminary findings suggested ash had collected in the furnace below the boiler, which meant “pressure built up inside and led to the blast”.

Singapore bans additional cars-there’s no more room for them

Singapore, one of the world’s most expensive places to own a vehicle, will not allow any growth in its car population from February, citing the small city-state’s land scarcity and billions of dollars in planned public transport investments.

The Land Transport Authority (LTA) said it was cutting the permissible vehicle growth rate in the city-state to 0 percent from the current 0.25 percent per annum for cars and motorcycles. The rate will be reviewed in 2020.

Singapore tightly controls its vehicle population by setting an annual growth rate and through a system of bidding for the right to own and use a vehicle for a limited number of years. It is one of the most densely populated nations on the planet and already has an extensive public transport system.

Currently, 12 percent of Singapore’s total land area is taken up by roads, the LTA said. “In view of land constraints and competing needs, there is limited scope for further expansion of the road network,” it said.

Singapore, whose total population has risen nearly 40 percent since 2000 to about 5.6 million now, counted more than 600,000 private and rental cars on its roads as of last year. These include cars used by drivers that work with ride-hailing services such as Grab and Uber, which are becoming increasingly popular.

A mid-range car in Singapore can typically cost four times the price in the United States.

Singapore has expanded its rail network length by 30 percent and has added new routes and capacity to its bus network. The government will continue to invest S$20 billion ($14.7 billion) in new rail infrastructure, S$4 billion to renew, upgrade and expand rail operating assets, and another S$4 billion in bus contracting subsidies over the next five years, the LTA said.

The LTA will keep ……

गूगल ने आज इन पर बनाया अपना डूडल, जानें कौन थे क़वी?

गूगल आज अपने डूडल के माध्यम से उर्दू के प्रसिद्ध लेखक और साहित्यिक टिप्पणीकार अब्दुल क़वी दसनवी की 87वीं जयंती मना रहा है। 1930 में बिहार के दसना गांव में पैदा हुए अब्दुल क़वी ने भारत में उर्दू साहित्य के प्रोत्साहन में अहम भूमिका निभाई। उनका देहांत 7 जुलाई, 2011 को हुआ।

पांच दशकों से ज्यादा के अपने करियर में दसनवी ने उर्दू साहित्य में कई किताबें लिखीं। उनका प्रमुख काम मौलाना अबुल कलाम आजाद, गालिब और इकबाल पर था। इसके अलावा उन्होंने कई कविताएं और फिक्शन भी लिखे। उनको अपने कामों के लिए कई अवॉर्ड मिले।

दसनवी का जन्म प्रमुख मुस्लिम विद्वान सैयद सुलैमान नदवी के घर हुआ। वह भोपाल के सैफिया पोस्ट ग्रैजुएट कॉलेज से 1990 में सेवानिवृत्त हुए। जावेद अख्तर और इकबाल मसूद समेत उनके कई शागिर्द आज मशहूर कवि एवं शिक्षाविद हैं।

गूगल ने उनके सम्मान में अपने लोगो का डिजाइन उर्दू स्टाइल वाली स्क्रिप्ट में किया है।

Airtel offers Celkon 4G smartphone at ₹1,349

Telecom service provider Bharti Airtel has joined hands with mobile phone maker Celkon to offer its pre-paid customers 4G smartphone at an effective price of ₹1,349.

The current market price of the Celkon Smart 4G model, which comes with 4-inch touch-screen, dual SIM slots, 1 GB RAM and 8GB ROM, is ₹3,500.

Launched under the ‘MeraPehla Smartphone’ initiative of Airtel, customers need to make a down payment of ₹2,849 towards the device. Further, they need to make 36 continuous monthly recharges of ₹169. After 18 months, the customers will get a cash refund of ₹500 and after 36 months an additional ₹1,000, Airtel said.

Describing it as a stylish and affordable 4G phone, CEO (AP and Telangana) of Bharti Airtel Venkatesh Vijayaraghavan told presspersons…

Also http://indiannationalnews.com/android-tips-tricks/

Useful Android Tips And Tricks You Should Know

Here,We'll be discussing some Useful Android Tips and Tricks that has been collected from 
Various Sites.Let's Start.

Charge your device using the USB port in the back of the television.

When you’re packing for a trip it’s easy to forget a few things, even if you’ve got a great, geeky travel checklist. If you forget your charger, the television in your hotel room can fill in as a substitute.

“I often travel with a single charger and multiple devices to avoid packing too many things, but I’ve neglected to use the TV as a spare power source despite knowing this tip. While not every hotel television will have this option, it’s a good thing to remember in case you’re in a bind or would find it convenient to have that extra charger without packing it.”

Disable App Notifications

Bugged by annoying app notifications that just keep coming? If you don’t know already, these app notifications also drain your phone’s battery. If you want to turn them off, and you are on Jelly Bean 4.1 and above, here’s how:

  1. On any of your unwanted notifications in your notification bar, long press on the notification for a message box to appear.
  2. Tap on App Info > Untick Show Notifications > OK.

Disable Animations

Here’s a tip on how to make your Android device run a bit smoother: disable its animations. You will need to have access to Developer Options which can be found under Settings or About device.

Note: For some phones, you may need to go to Build number and tap on it repeatedly until you see “You are now a developer!”. Developer options are now enabled.

Under enabled Developer options, look for Window animation scaleTransition animation scale, and Animator duration scale. Then, turn them off (disable) them one at a time.

How to Turn Off Auto-Correction

Hate the fact that your phone is going English teacher mode on you? Turn off auto-correction for peace of mind when texting.

  1. Go to Settings > Language & input.
  2. Tap on the settings icon next to the keyboard that you are using, e.g. Google Keyboard.
  3. Look for Auto-correction and tap on it.
  4. Select Off to turn auto-correction off.

Don’t use your smartphone while charging it.

“Ever wondered why phone manufacturers make such short charging cables? Do they want to save money? No, the answer is — They don’t want you to use the phone while charging. Yes, they discourage the idea of simultaneously charging and using it, as it reduces battery life to a large extent. Most phones run on Li-ion batteries and these batteries have a limited charge cycle after which they need to be replaced.”

Extend your battery with low power mode.

“Your battery is at a low percentage, and you’re nowhere near a charger. Don’t panic just yet. If your phone is running on iOS9, go to Settings > Battery > Low Power Mode. (Siri can do this for you too.) By going into Low Power Mode, non-essential tasks are disabled, giving you up to FOUR more hours of battery life.”

Extend your battery with low power mode.

“Your battery is at a low percentage, and you’re nowhere near a charger. Don’t panic just yet. If your phone is running on iOS9, go to Settings > Battery > Low Power Mode. (Siri can do this for you too.) By going into Low Power Mode, non-essential tasks are disabled, giving you up to FOUR more hours of battery life.”

Use the volume button to snap pictures.

“Taking selfies is serious business. But it doesn’t have to be a difficult one. It’s surprising how many people don’t realize that you can just hit either volume button (on most phone models—both iOS and Android) to snap a picture. You don’t have to hit the virtual button that’s on your screen. This works on both the front- and back-facing cameras, but it’s particularly handy when shooting a selfie. If you didn’t know this before, you will never go back to shooting by tapping the screen. We were able to confirm this feature on various iPhones and several Android models.”

Make better use of your smartphone’s camera – it’s not just for selfies.

“It seems so simple, but getting more mileage out of your phone’s camera can truly make your life easier. Snap a picture of your fridge/pantry before you head to the grocery store so that you know exactly what to buy. Suffer from parked-car memory failure? Take a picture of the closest intersection to your car’s location. Use your smartphone camera to store highly useful information like your prescriptions (photos of your medicine bottles), your frequent flier number (photo of your frequent flier card), or your hotel’s address (photo/screen-grab of your travel itinerary) in case you lose service.”

You’re not limited to the camera app that comes with your smartphone.

“The camera app that comes with your phone is perfectly adequate (if somewhat minimalist) most of the time. But what if you want to capture the light trails of cars driving past a nighttime holiday display? Or maybe you want to use your phone’s digital zoom while shooting a video of kids unwrapping presents? If so, it’s time to check out one of the many camera apps in your phone’s app store. On the iPhone, I highly recommend Top Camera, which does all the above and more. If you’re looking for other camera-enhancing apps, we have several great suggestions for iPhones and Android phones.

How to Recover deleted data in Mobile….

 

Lose Fat Through Drinking Water

Across the world today quite an appreciable number of people are desperately looking for ways to burn off excess fat. Several have tried various methods ranging from exercises, diets, and even surgery- unsuccessfully. About two decades ago, a method called Japanese water therapy was discovered. It has helped numerous people in their desire to lose fat and even lose weight. By just drinking water first thing in the morning before brushing your teeth, this method has also been used to fight ailments such as headaches, constipation, endocrine disorders, asthma, epilepsy, palpitations, arthritis, obesity, bronchitis, and throat diseases.
The mechanism by which this therapy works has not been fully understood but individuals who have tried this therapy have attested to its efficacy. There is still a lot of research going on regarding this method of burning fat. I will enumerate the steps taken when using this method in the following few sentences:
1. As you wake up in the morning before brushing your teeth, drink at least 400 to 600mls of water.
2. Brush your teeth but don’t eat or drink anything for the next 45 minutes.
3. You can go ahead and have breakfast after the 45 minutes are over.
4. After 15 minutes of breakfast, lunch or dinner do not eat or drink anything for the next 2 hours.
You continue with these steps for a number of days and results can be noticed within 30 to 60 days. The numbers of days taken to control some of the above-mentioned ailments are as follows:
· Constipation -10 days
· Gastritis -10 days
· Diabetes -30 days/ a month.
· Elevated blood pressure-30 days.
· Tuberculosis -90 days.
· Arthritis -14 days.
· Cancer -180 days.
Drinking water first thing is common among many people but for this therapy to work, it has to be done before brushing the teeth.
You might want to ask questions regarding the water used, the temperature need not be cold or warm and any water at room temperature (25 degrees Celsius) is considered appropriate. Also, the water should also be as tasteless, colorless and odorless as possible. There are quite a number of modifications to this water therapy but not all work. The instructions above must be strictly followed to achieve success. The only side effect you might experience is excessive urination which you have when you first start the therapy.
What are the other benefits of drinking water first thing in the morning?
1. Helps with regular bowel mo

Really Funny and Interesting Facts

  1. It is impossible to lick your elbow (busted)
  2. People say “Bless you” when you sneeze because when you sneeze, your heart stops for a mini-second.
  3. A shrimp’s heart is in its head.
  4. A crocodile can’t stick it’s tongued out.
  5. In a study of 200,000 ostriches over a period of 80 years, no one reported a single case where an ostrich buried its head in the sand.
  6. It is physically impossible for pigs to look up into the sky.
  7. A pregnant goldfish is called a twit. (busted?)
  8. More than 50% of the people in the world have never made or received a telephone call.
  9. Rats and horses can’t vomit.
  10. If you sneeze too hard, you can fracture a rib.
  11. If you try to suppress a sneeze, you can rupture a blood vessel in your head or neck and die.
  12. If you keep your eyes open by force when you sneeze, you might pop an eyeball out.
  13. Rats multiply so quickly that in 18 months, two rats could have over a million descendants.
  14. Wearing headphones for just an hour will increase the bacteria in your ear by 700 times.
  15. In every episode of Seinfeld, there is a Superman somewhere.
  16. The cigarette lighter was invented before the match.
  17. Thirty-five percent of the people who use personal ads for dating are already married.
  18. A duck’s quack doesn’t echo, and no one knows why.
  19. 23% of all photocopier faults worldwide are caused by people sitting on them and photocopying their butts.
  20. In the course of an average lifetime you will, while sleeping, eat 70 assorted insects and 10 spiders.
  21. Most lipstick contains fish scales.
  22. Like fingerprints, everyone’s tongue print is different.
  23. Over 75% of people who read this will try to lick their elbow.
  24. A crocodile can’t move its tongue and cannot chew. Its digestive juices are so strong that it can digest a steel nail.
  25. Money notes are not made from paper, they are made mostly from a special blend of cotton and linen. In 1932, when a shortage of cash occurred in Tenino, Washington, USA, notes were made out of wood for a brief period.
  26. The Grammy Awards were introduced to counter the threat of rock music. In the late 1950s, a group of record executives was alarmed by the explosive success of rock ‘n roll, considering it a threat to “quality” music.
  27. Tea is said to have been discovered in 2737 BC by a Chinese emperor when some tea leaves accidentally blew into a pot of boiling water. The tea bag was introduced in 1908 by Thomas Sullivan of New York.
  28. Over the last 150 years, the average height of people in industrialized nations has increased 10 cm (about 4 inches). In the 19th century, American men were the tallest in the world, averaging 1,71m (5’6″). Today, the average height for American men is 1,75m (5’7″), compared to 1,77 (5’8″) for Swedes, and 1,78 (5’8.5″) for the Dutch. The tallest nation in the world is the Watusis of Burundi.
  29. In 1955 the richest woman in the world was Mrs. Hetty Green Wilks, who left an estate of $95 million in a will that was found in a tin box with four pieces of soap. Queen Elizabeth of Britain and Queen Beatrix of the Netherlands count under the 10 wealthiest women in the world.
  30. Joseph Niepce developed the world’s first photographic image in 1827. Thomas Edison and W K L Dickson introduced the film camera in 1894. But the first projection of an image on a screen was made by a German priest. In 1646, Athanasius Kircher used a candle or oil lamp to project hand-painted images onto a white screen.
  31. In 1935 a writer named Dudley Nichols refused to accept the Oscar for his movie The Informer because the Writers Guild was on strike against the movie studios. In 1970 George C. Scott refused the Best Actor Oscar for Patton. In 1972 Marlon Brando refused the Oscar for his role in The Godfather.
  32. The system of democracy was introduced 2 500 years ago in Athens, Greece. The oldest existing governing body operates in Althing in Iceland. It was established in 930 AD.
  33. A person can live without food for about a month, but only about a week without water.
    If the amount of water in your body is reduced by just 1%, you’ll feel thirsty.
    If it’s reduced by 10%, you’ll die.
  34. According to a study by the Economic Research Service, 27% of all food production in Western nations ends up in garbage cans. Yet, 1,2 billion people are underfed – the same number of people who are overweight.
  35. Camels are called “ships of the desert” because of the way they move, not because of their transport capabilities. A Dromedary camel has one hump and a Bactrian camel two humps. The humps are used as fat storage. Thus, an undernourished camel will not have a hump.
  36. In the Durango desert, in Mexico, there’s a creepy spot called the “Zone of Silence.” You can’t pick up clear TV or radio signals. And locals say fireballs sometimes appear in the sky.
  37. Ethernet is a registered trademark of Xerox, Unix is a registered trademark of AT&T.
  38. Bill Gates’ first business was Traff-O-Data, a company that created machines which recorded the number of cars passing a given point on a road.
  39. Uranus’ orbital axis is tilted at 90 degrees.
  40. The final resting-place for Dr. Eugene Shoemaker – the Moon. The famed U.S. Geological Survey astronomer trained the Apollo astronauts about craters but never made it into space. Mr. Shoemaker had wanted to be an astronaut but was rejected because of a medical problem. His ashes were placed on board the Lunar Prospector spacecraft before it was launched on January 6, 1998. NASA crashed the probe into a crater on the moon in an attempt to learn if there is water on the moon.
  41. Outside the USA, Ireland is the largest software producing country in the world.
  42. The first fossilized specimen of Australopithecus Afarensis was named Lucy after the paleontologists’ favorite song “Lucy in the Sky with Diamonds,” by the Beatles.
  43. Figlet, an ASCII font converter program, stands for Frank, Ian and Glenn’s LETters.
  44. Every human spent about half an hour as a single cell.
  45. Every year about 98% of atoms in your body are replaced.
  46. Hot water is heavier than cold.
  47. Plutonium – first weighed on August 20th, 1942, by University of Chicago scientists Glenn Seaborg and his colleagues – was the first man-made element.
  48. If you went out into space, you would explode before you suffocated because there’s no air pressure.
  49. The radioactive substance, Americanium – 241 is used in many smoke detectors.
  50. The original IBM-PCs, that had hard drives, referred to the hard drives as Winchester drives. This is due to the fact that the original Winchester drive had a model number of 3030. This is, of course, a Winchester firearm.
  51. Sound travels 15 times faster through steel than through the air.
  52. On average, half of all false teeth have some form of radioactivity.
  53. Only one satellite has been ever been destroyed by a meteor: the European Space Agency’s Olympus in 1993.
  54. Starch is used as a binder in the production of paper. It is the use of a starch coating that controls ink penetration when printing. Cheaper papers do not use as much starch, and this is why your elbows get black when you are leaning over your morning paper.
  55. Sterling silver is not pure silver. Because pure silver is too soft to be used in most tableware it is mixed with copper in the proportion of 92.5 percent silver to 7.5 percent copper.
  56. A ball of glass will bounce higher than a ball of rubber. A ball of solid steel will bounce higher than one made entirely of glass.
  57. A chip of silicon a quarter-inch square has the capacity of the original 1949 ENIAC computer, which occupied a city block.
  58. An ordinary TNT bomb involves atomic reaction and could be called an atomic bomb. What we call an A-bomb involves nuclear reactions and should be called a nuclear bomb.
  59. At a glance, the Celsius scale makes more sense than the Fahrenheit scale for temperature measuring. But its creator, Anders Celsius, was an oddball scientist. When he first developed his scale, he made freezing 100 degrees and boiling 0 degrees, or upside down. No one dared point this out to him, so fellow scientists waited until Celsius died to change the scale.
  60. At a jet plane’s speed of 1,000 km (620mi) per hour, the length of the plane becomes one atom shorter than its original length.
  61. The first full moon to occur on the winter solstice, Dec. 22, commonly called the first day of winter, happened in 1999. Since a full moon on the winter solstice occurred in conjunction with a lunar perigee (point in the moon’s orbit that is closest to Earth), the moon appeared about 14% larger than it does at apogee (the point in its elliptical orbit that is farthest from the Earth).

    Since the Earth is also several million miles closer to the sun at that time of the year than in the summer, sunlight striking the moon was about 7% stronger making it brighter. Also, this was the closest perigee of the Moon of the year since the moon’s orbit is constantly deforming. In places where the weather was clear and there was a snow cover, even car headlights were superfluous.

  62. According to security equipment specialists, security systems that utilize motion detectors won’t function properly if walls and floors are too hot. When an infrared beam is used in a motion detector, it will pick up a person’s body temperature of 98.6 degrees compared to the cooler walls and floor.

    If the room is too hot, the motion detector won’t register a change in the radiated heat of that person’s body when it enters the room and breaks the infrared beam. Your home’s safety might be compromised if you turn your air conditioning off or set the thermostat too high while on summer vacation.

  63. Western Electric successfully brought sound to motion pictures and introduced systems of mobile communications which culminated in the cellular telephone.
  64. On December 23, 1947, Bell Telephone Laboratories in Murray Hill, N.J., held a secret demonstration of the transistor which marked the foundation of modern electronics.
  65. The wick of a trick candle has small amounts of magnesium in them. When you light the candle, you are also lighting the magnesium. When someone tries to blow out the flame, the magnesium inside the wick continues to burn and, in just a split second (or two or three), relights the wick.
  66. Ostriches are often not taken seriously. They can run faster than horses, and the males can roar like lions.
  67. Seals used for their fur get extremely sick when taken aboard ships.
  68. Sloths take two weeks to digest their food.
  69. Guinea pigs and rabbits can’t sweat.
  70. The pet food company Ralston Purina recently introduced, from its subsidiary Purina Philippines, power chicken feed designed to help roosters build muscles for cockfighting, which is popular in many areas of the world.
  71. According to the Wall Street Journal, the cockfighting market is huge: The Philippines has five million roosters used for exactly that.
  72. Sharks and rays are the only animals known to man that don’t get cancer. Scientists believe this has something to do with the fact that they don’t have bones, but cartilage.
  73. The porpoise is second to man as the most intelligent animal on the planet.
  74. Young beavers stay with their parents for the first two years of their lives before going out on their own.
  75. Skunks can accurately spray their smelly fluid as far as ten feet.
  76. Deer can’t eat hay.
  77. Gopher snakes in Arizona are not poisonous, but when frightened they may hiss and shake their tails like rattlesnakes.
  78. On average, dogs have better eyesight than humans, although not as colorful.
  79. The duckbill platypus can store as many as six hundred worms in the pouches of its cheeks.
  80. The lifespan of a squirrel is about nine years.
  81. North American oysters do not make pearls of any value.
  82. Human birth control pills work on gorillas.
  83. Many sharks lay eggs, but hammerheads give birth to live babies that look like very small duplicates of their parents. Young hammerheads are usually born headfirst, with the tip of their hammer-shaped head folded backward to make them more streamlined for birth.
  84. Gorillas sleep as much as fourteen hours per day.
  85. A biological reserve has been made for golden toads because they are so rare.
  86. There are more than fifty different kinds of kangaroos.
  87. Jellyfish like salt water. A rainy season often reduces the jellyfish population by putting more fresh water into normally salty waters where they live.
  88. The female lion does ninety percent of the hunting.
  89. The odds of seeing three albino deer at once are one in seventy-nine billion, yet one man in Boulder Junction, Wisconsin, took a picture of three albino deer in the woods.
  90. A group of twelve or more cows is called a link.
  91. Cats often rub up against people and furniture to lay their scent and mark their territory. They do it this way, as opposed to the way dogs do it because they have scent glands in their faces.
  92. Cats sleep up to eighteen hours a day, but never quite as deep as humans. Instead, they fall asleep quickly and wake up intermittently to check to see if their environment is still safe.
  93. Catnip, or Nepeta cataria, is an herb with nepetalactone in it. Many think that when cats inhale nepetalactone, it affects hormones that arouse sexual feelings, or at least alter their brain functioning to make them feel “high.” Catnip was originally made, using nepetalactone as a natural bug repellant, but roaming cats would rip up the plants before they could be put to their intended task.
  94. The nematode Caenorhabditis elegans ages the equivalent of five human years for every day they live, so they usually die after about fourteen days. When stressed, though, the worm goes into a comatose state that can last for two or more months. The human equivalent would be to sleep for about two hundred years.
  95. You can tell the sex of a horse by its teeth. Most males have 40, females have 36.
  96. (removed, duplicated)
  97. The 57 on Heinz ketchup bottle represents the varieties of pickle the company once had.
  98. Your stomach produces a new layer of mucus every two weeks – otherwise, it will digest itself.
  99. The Declaration of Independence was written on hemp paper.
  100. A raisin dropped in a glass of fresh champagne will bounce up and down continuously from the bottom of the glass to the top

Generate Electricity From Your Windows Using SolarGaps’ Blinds

If solar panels on the roof offend your aesthetic sensibilities and Tesla’s sun-soaking roof tiles aren’t quite in your budget, then maybe the roof isn’t the right place for you to harvest the sun. SolarGaps allows you to do that from the window instead.

A set of window blinds equipped with solar panels, the rig allows you to harvest sunlight at home without complicated roof installations, so you can supplement your connection to the grid with sustainably-generated power. Since these are just windows blinds, there are no permanent installations, making it a straightforward plug-and-play solution that you can set up and remove at any time.

Each SolarGap look no different than traditional window blinds from afar, although you will notice the presence of photovoltaic cells once you start inspecting up close. Each 10-square foot window area covered by the blinds can generate as much 150W of power, which should be enough to power all the lights in your home, as well as three MacBooks all running at the same time. While they can be opened and closed much like any set of window blinds, it comes with an accompanying app (iOS and Android) where you can adjust them remotely, with options for various automated movements (e.g. it can align itself to maximize sun harvest all through the day). Each set of blind…..

Hydrogen Bomb vs. Atomic Bomb: What’s the Difference?

North Korea is threatening to test a hydrogen bomb over the Pacific Ocean in response to President Donald Trump ordering new sanctions on individuals, companies, and banks that conduct business with the notoriously reclusive country, according to news reports.

Hydrogen bombs, or thermonuclear bombs, are more powerful than atomic or “fission” bombs. The difference between thermonuclear bombs and fission bombs begins at the atomic level. [The 10 Greatest Explosions Ever]

Fission bombs, like those used to devastate the Japanese cities of Nagasaki and Hiroshima during World War II, work by splitting the nucleus of an atom. When the neutrons, or neutral particles, of the atom’s nucleus split, some hit the nuclei of nearby atoms, splitting them, too. The result is a very explosive chain reaction. The bombs dropped on Hiroshima and Nagasaki exploded with the yield of 15 kilotons and 20 kilotons of TNT, respectively, according to the Union of Concerned Scientists.

In contrast, the first test of a thermonuclear weapon, or hydrogen bomb, in the United States in November 1952 yielded an explosion on the order of 10,000 kilotons of TNT. Thermonuclear bombs start with the same fission reaction that powers atomic bombs — but the majority of the uranium or plutonium in atomic bombs actually goes unused. In a thermonuclear bomb, an additional step means that more of the bomb’s explosive power becomes available.

First, an igniting explosion compresses a sphere of plutonium-239, the material that will then undergo fission. Inside this pit of plutonium-239 is a chamber of hydrogen gas. The high temperatures and pressures created by the plutonium-239 fission cause the hydrogen atoms to fuse. This fusion process releases neutrons, which feed back into the plutonium-239, splitting more atoms and boosting the fission chain reaction.

Governments around the world use global monitoring systems to detect nuclear tests as par…

David Miller scores fastest T20 ton in 35 balls

 David Miller‘s world-record breaking innings of 101 off 36 balls gave South Africa clean sweeps over Bangladesh in all three formats with an 83-run win in the final Twenty20 on Sunday.

Miller hammered the fastest century in T20 internationals – he reached 100 off 35 balls to smash the record by 10 balls – to propel South Africa to 224-4 batting first.

Bangladesh was 141 all out in 18.3 overs, another heavy defeat on a difficult five-week tour for the visiting team.

It was the first time that South Africa had won every game in three series against a touring team, Cricket South Africa said.

While South Africa gained valuable preparation under new coach Ottis Gibson ahead of tours by India and Australia, Bangladesh failed to live up to the promise it showed recently in home series.

South Africa took the test series 2-0, winning those matches by 333 runs and then an innings and 254 runs. It swept the ODIs 3-0, with winning margins of 10 wickets, 104 runs, and 200 runs.

Bangladesh came closest to something to celebrate when it went down by 20 runs in the first T20.

In the final game of the tour, Miller hit five sixes in a row in the 19th over, and nine sixes and seven fours in all in his record-breaking innings. He beat the record of fellow South African Richard Levi, who scored a century off 45 balls against New Zealand in 2012.

“Obviously a really special feeling,” Miller said. “Don’t quite know what went on there but I was just trying to watch the ball and back myself.”

Miller’s five sixes off the first five balls of the 19th over from Mohammad Saifuddin helped him move from 57 to 88 in the space of an over. He just missed out on becoming only the third batsman to hit six sixes in an over in international cricket when he could

10 documents you can use at airports to prove identity

The Bureau of Civil Aviation Security (BCAS) has issued a list of 10 identity documents that can be used to gain entry to airport terminals and for checking in, dispelling confusion over the issue.

List of 10 identity documents issued by BCAS

. Passport
2. Voter ID
3. Aadhaar or m-Aadhaar
4. Pan Card
5. Driving licence

6. Service ID
7. Student ID card
8. Passbook of account in a nationalised bank with photo
9. Pension card or pension documents with photo
10. Disability ID card or handicapped medical certificate

In a first, BCAS chief Kumar Rajesh Chandra has also put in place a system for flyers to establish their identity if they lose their ID cards. “In case of a passenger who for some valid reasons is not in a position to produce any of the above photo identity proofs, the identity certificate issued by a Group A gazetted officer of central/state government on his/her official letterhead with passenger’s photo duly attested will be valid…” for this purpose,” the BCAS said….

Interesting Facts You Probably Never Knew Before

1. Statue Of Liberty is one of the most lovable and famous landmark in the world.
It’s so tall such that even it’s Index Finger is 8 Feet Long.
S
2. The Word “SET” has the most number of definitions in the English Dictionary that is 464 according to Oxford Dictionary.
3. Mosquitoes are more attracted to Color Blue than any other color.
4. Koala and Humans are among the few Animals that have Finger Prints.
Their finger prints are so similar that it takes a lot of effort to distinguish them under the microscope.
5. Octopus has 3 Hearts, 9 Brains and Blue Blood.
6. Blue Whale is the largest creature ever that has lived on the earth.
Blue Whale’s Tongue Weighs as much as an Elephant weighs.
7. Once a traffic Jam In China last More then 10 days with Cars moving only half a mile a day.

WhatsApp Introduces New Feature “Delete For Everyone”

Whatsapp recently introduced a new feature “Delete for Everyone”.

Sometimes, We mistakenly send a message to a wrong person and then we feel awkward.This “Delete For Everyone” feature introduced by WhatsApp will now rescue us from such situation.

Now, If you delete a message then it’s also get deleted from recipient’s conversation if both of the users have Latest version of WhatsApp installed.The feature works the same for group chats also including texts, videos etc but does not work for broadcast messages.

The message can be deleted only if it’s not yet read and you have the option to review and delete it from the recipient’s chat for only “7 minutes from sending the text”

Find Your Lost Phone Using Android Device Manager

Android Device Manager is the feature of Google which allows a user to find his/her lost phone/tablet location.Android Device Manager does not only helps to find lost phone/tablet but also enables a user to erase data of his/her lost phone and to lock it remotely.But, you will be able to find your Lost phone only if you had activated Android Device Manager in it, if you had not activated it in your lost phone, then you will not be able to find the location of your lost phone.But, you should activate Android Device Manager to your phone/tablet so that in future if you lose your phone, you may find it’s location.Well, to activate Android Device Manager in your phone/tablet, go to Settings>>Location>>and enable Google’s Location service And Click on Agree. Now, go to google settings >> Security and click on remotely Locate This Device.

Now, if you lose your phone in future, simply type Android Device Manager in Google and click on the first result shown or click on this link google.com/android/devicemanager.

After clicking on it, you will have to enter your Gmail Id which you used on your phone/tablet to access Google.After Logging in, a window will open, having Several options like Ring, Lock, Erase and Locate Device.Click on Locate Device and the current location of your phone/tablet will be shown on Google Map.

You can also use other options of Android Device Manager like you can Ring your Phone even if it is on silent mode.Just Click on Ring option.

 

You can Erase your Phone data.Click on Erase.Simple.

 

The Last thing you can do with the help of ADM is to lock your phone.Just Click on Lock option.

Earn Money Online Using Ebook + Facebook

In This Article, I will teach you in the simple way how you can start earning money online by selling E-Books investing Rs. 100 Only. Yes, you have heard it right. Believe me, this is the genuine way through which you can actually start earning money as I am.

I was also one of the guys who wasted the precious time in searching the genuine way to start making money online. I searched a lot of methods and tried them but none of them worked for me as some required an investment to start which I didn’t afford as I was not financially strong. Then, one day, I tried one of the methods to earn money online which finally worked for me and that method is to sell E-Books online.

So, let’s start on how to make money by selling E-Book with the help of Facebook.

 

Let’s divide the complete procedure into 3 Simple steps to understand the things easily:-

 

Step 1: Create an EBook.

 

Step 2:  Create an Account on InstaMojo to Sell E-Book to the customer and accept payment.

 

Step 3: Create an FB Page to promote your E-Book to get maximum customers.

 

Step 1: Create an E-Book

 

 

First of All, let’s understand that what is an E-Book?

“ E-Books are books in a format where they can be delivered or downloaded online. You can write them yourself, employ writers, use public domain content, and create your ebooks from many sources”.

It’s not necessary that an E-Book should have hundreds or thousands of pages; it can be even of few pages also if it’s covering the topic in well mannered.

 

What topic to Choose?

 

It depends on you that on what topic you can write an E-book and that E-book should attract the customers. The title of the book should be catchy enough to attract the customers. You can do Google search on the top trending keywords and then write an E-Book on that topic.

For Example, In India, most of the Students prepare for the government exams. So, you can write the topics, questions, answers of that particular government exam that is going to be conducted in the coming days. Another trending topic is cooking. Most of the women search the cooking recipes over the internet. So, cooking is also a good option to write E-Book upon.

 

 

 

Step 2 Create an Account on InstaMojo to Sell E-Book to the customer and accept payment.

 

Here Comes the Second Step after you have created your E-Book. Now, you need some way to accept payment from your customer if you decided to sell your E-Book for 20 Rs for example, then you need to accept 20 Rs from the customer. This can be done using InstaMojo.

Briefly, Instamojo.com is a digital payments platform bundled with tons of e-commerce features to enable any business or individual to sell, manage & grow effortlessly, securely and cost-effectively.

Instamojo.com used as a platform to sell digital products like eBooks, music, software etc as downloads, directly to your audience by sharing a link.

Upon clicking the link, it would lead to a landing page (optimized across mobile, web & tablet) which carried information of the product like price, description, file size, file type, images and other relevant info. Here’s an example — http://imojo.in/example. So sellers/merchants would create such links and upon sharing, buyers/consumers can make an instant purchase.

From their end, they would host the digital files, process the payments through credit cards, debit cards, net-banking facilities and then they securely deliver the digital goods once payment is successful. Hence enabling individuals, freelancers, SOHO businesses to sell & collect payments for digital goods, directly from customers by sharing a payment link.

So, you have to just create your account on InstaMojo and Upload your E-book on InstaMojo and assign the cost to your E-book that would be charged from the customer.

 

 

 

Complete Procedure To Sell Your E-Book through Instamojo.

 

1   Sign up on InstaMojo
2   Complete all the mandatory steps – upload the KYC documents,     verify your phone number and set up your payout details.
3. Start selling eBooks via InstaMojo.

 

Adding an eBook on Instamojo

Click on “Add Product“.

Now choose “Digital Product” and upload the PDF file you want to sell.

Add Product Title, description, and price (write “0” to make it free).

Upload a preview image, Instamojo supports PNG, JPEG and JPG formats.

Now click on “Add Product to Store“.

That’s it. Instamojo will give you a customizable short link for your eBook. Customize it to make it cool like – http://imojo.in/firstebook and promote it on your Blog, Social Media platforms.

Instamojo will charge 5% + Rs.3 for selling an eBook. You don’t have to subscribe to any plan. Your customers can buy your eBooks through Credit card, Debit card, Net Banking and Digital Wallets. Instamojo will transfer your earnings to your local bank account within 3 days.

Credit:  https://bepinku.com/use-instamojo-sell-your-ebooks/

 

So, you have completed your task of uploading your E-book and are ready to accept the payment from the customer.

Now, you just have to promote your E-book to get the targeted audience and that will be done using FB. So, let’s come to the final step.

 

Step 3: Create an FB Page to promote your E-Book to get maximum customers.

 

Now you have created your E-Book and you have to find some way to promote your E-Book so that it can reach to the maximum interested customers. The Best way to promote and sell your E-book is through Facebook. They provide the cheapest way to reach the audience. By running FB ads you can reach to a targeted audience interested in buying your E-Book. You don’t need to spend hundreds or thousands of rupees, Just Spend 100 Rs.to get reach of thousands of users. You spent 100 Rs on FB Ads and your E-Book would be advertised to 3000 targeted audience interested in making money. Out of these 3000 users, if at least 200 Users buy your E-book then you will get a profit of 200*20=4000 Rs.

By Just Spending Rs.100, you made a profit of 4000 Rs. So, let’s see how to promote your page on FB.

Promote your Page

It’s easier than ever to connect with more of the people who matter to you by promoting your Page on Facebook.

All it takes is a few clicks. We’ll automatically pull text and an image to instantly create a beautiful advert. All you need to do is decide who you want to reach and how much you want to spend. That’s it.

Follow the simple steps outlined below to promote your Page.

 

Create an advert

  • Go to the Facebook Page you have created to sell your E-Book.
  • Located on the left-hand side of the Page, you’ll see the Promote Page button
  • The advert will be automatically created from images and copy on your Page. To change the images or text, you need to first change them on your Page.

In the Advert Preview section, you’ll see how your advert will look on Desktop News Feed, Mobile News Feed, and the Right Column. Your advert will appear in all three formats.

Choose Your Audience

  • You can specify the location, age, gender and interests of the people you’d like to reach, like if you are writing E-Book on Cooking then mention Gender as Women as they are more interested in cooking.
  • The Interests field will initially be filled with interests FB think to make sense for your customers, but you should type any additional interests into the box or remove any interests that don’t apply like if you have made an E-Book on Cooking then mention cooking in the interest.

 Choose your budget

  • Enter 100 Rs as your Budget.
  • You can choose to promote your Page continuously or set an end date for your promotion
  • You’ll only be charged when your advert is displayed on Facebook, so your entire budget may not always be spent.

That’s It. Now just wait and Watch how much you earn from your E-Book.

 

Saudi Arabia plans to build a $500 billion mega-city 33 times the sizy of NY City

Saudi Arabia is the world’s largest oil exporter , but falling oil prices have made it more difficult for the country to pay its oil workers.

Now the Saudi Arabian government has come up with a project that could give its economy a boost: a $500 billion mega-city that will connect to Jordan and Egypt and be powered completely by renewable energy.

On Tuesday, Saudi Crown Prince Mohammed bin Salman announced the project , called NEOM , at the Future Investment Initiative conference in Riyadh. It will be financed by the Saudi government and private investors, according to Reuters.

The business and industrial-focused city will span 10,230 square miles . To put that size in perspective, 10,230 square miles is more than 33 times the land area of New York City.

NEOM’s larger goal is to lessen Saudi Arabia’s reliance on oil exports, which could expand the country’s economy beyond oil, bin Salmon said at the conference. The city will focus on a variety of industries, including energy and water, biotechnology, food, advanced manufacturing, and entertainment. Saudi Arabia hasn’t released a masterplan yet for what it will look like.

The country appointed Klaus Kleinfeld, a former chief executive of Siemens AG and Alcoa Inc, to run the NEOM project. Officials hope that a funding program, which includes selling 5% of oil giant Saudi Aramco, will raise $300 billion for NEOM’s construction.

Two Young Guys Attempting Bohemia’s “School Di Kitaab” Song

This Musical Video of two young guys “Amaan Siddiqui” and “Shaun” attempting the Cover of Bohemia’s “School Di Kitaab” is so impressive and sweet to be at the top of our Viral Video’s Section.
Enjoy The Video !!!

UIDAI launches ‘mAadhaar’ app

 

Unique Identification Authority of India (UIDAI) has launched ‘mAadhaar app’, giving a further boost to the government’s Digital India initiative.

The UIDAI announced the launch of the app via its verified Twitter account. “mAadhaar App for AndroidLaunched by UIDAI, Lets You Carry Aadhaar on Smartphone #AadhaarInNews,” says UIDAI’s Tweet.

So far the ‘mAadhaar’ app is available only to Android users, who can download it from Google Play store. The app can run on any Android smartphones running Android 5.0 version or above. Also, users need to use their registered mobile number to sign-up for the app. Using the registered mobile number is mandatory.

Here are some other key features of the mAadhaar app:

* The mAadhar app aims to let users carry their Aadhaar identity on their smartphones.

* UIDAI claims that the app allows users to block their biometric data anytime, anywhere.

* Users can also view and share their Aadhaar profile via QR code

India Won By 6 Wickets

Half-centuries from Shikhar Dhawan and Dinesh Karthik helped India beat New Zealand by 6 wickets in the 2nd ODI in Pune to level the three-match series 1-1 on Wednesday. 

India achieved a six-wicket victory in the 2nd ODI against New Zealand in Pune on Wednesday to level the three-match series 1-1. Chasing a modest target of 231, India reached home in 46 overs with Dinesh Karthik and MS Dhoni not out at the crease. Dinesh Karthik and Shikhar Dhawan scored the only two half-centuries of the match to guide the hosts home with ease. Earlier, Indian bowlers did well to restrict New Zealand to only 230/9 in their 50 overs. Bhuvneshwar Kumar picked three while Jasprit Bumrah and Yuzvendra Chahal scalped two each. No New Zealand batsman could even reach a half-century with Henry Nicholls being the top-scorer with 42. New Zealand had claimed a six-wicket victory in the 1st ODI in Mumbai on October 22. The third and final deciding game will be played in Kanpur on Sunday. Follow full cricket score of India vs New Zealand, 2nd ODI in Pune here

Recover Deleted Data From Your Phone

When you delete something from your Phone, then it does not permanently get deleted from your device, it only becomes invisible.The same happens to PC. So, if there is some sensitive data in your phone and you format your phone and sell it  to someone else, then that person can recover your sensitive data if she/he wants and it does not even take much of hard work. Today, there are many applications which anyone can use to recover deleted data from phone and one such application is DiskDigger. To recover your lost data like music, videos, files, you will have to install DiskDigger Pro for which you will have to spend some amount but if you want to recover only photos then you can do this without paying.You can easily download DiskDigger from Play Store.

After downloading it, click on the “Start Basic Photo Scan” button, then there will be the images which you had deleted, and to recover photos, just click on the photos which you want to recover and click on the Recover button placed on top and that’s it.You have recovered your deleted photos. Enjoy…

Judges cannot decide troop deployments, Centre tells Supreme Court

Centre says it is the fundamental job of the government of the day, and not the judiciary, to decide placement of police and armed forces

The Centre told the Supreme Court on Wednesday that judges cannot decide the deployment of troops, and it is the fundamental job of the government of the day, and not the judiciary, to decide placement of police and armed forces to secure the nation’s borders and maintain law and order internally.

The government’s sharp attack was directed at the recent Calcutta High Court order directing the Centre to retain all 15 companies of Central Armed Police Forces, deployed in the restive districts of Darjeeling and Kalimpong in West Bengal, till October 27 or until further orders.

The High Court had countermanded the Centre’s directive to withdraw certain companies from the two districts.

“The direction [Calcutta High Court’s] ignores and virtually obliterates the very concept of separation of powers. The maintenance of order and the security of the country, which includes the deployment of police and armed forces, is a fundamental facet of the governance of the country, and is a core governmental function of the executive wing of the State.

“These matters cannot be the subject matter of judicial review, or adjudication by a court,” the petition, filed by advocate S. Wasim A. Qadri and settled by Attorney General K.K. Venugopal, contended.

The Centre mentioned the petition for urgent hearing before a Bench led by Justice J. Chelameswar, who agreed to refer it for listing before an appropriate Bench of the Supreme Court.

The petition said the demands on the Central Police Forces are “tremendous”, and arise all over the country.

“India has a long border, and in order to effectively prevent cross-border infiltration of terrorists, Central Police Forces are also deployed. Obviously, being a high-priority consideration, the thinning of border deployment has serious national security implications,” the Centre explained.

Noting that 61 officers of the various Central Police Forces were martyred this year alone, the government pointed to the various high-alert theatres like the Valley, the North East and the Red Corridor States affected by naxal extremism which require heightened presence of forces. Even natural disasters and the holding of elections would require the deployment of these forces.

“It would be the exclusive domain of the Central government to decide on the most efficacious deployment of the limited police personnel and resources, to quell pressing situations, varying in gravity, that simultaneously arise in different parts of the country… There is no yardstick by which the Court could assess the need for deployment of Central Police Forces in different States,” the petition said.

Following unrest in the two districts in West Bengal, the Centre had deployed a total of 15 companies of Central Police Forces in June-July 2017. It said the State’s own police force has 73,403 personnel, followed by 20,781 personnel in the State Armed Force, 15,612 in Home Guards, two I.R. Battalions besides the Rapid Action Force, Counter Insurgency Force, Eastern Frontier Rifles (EFR) and ‘STRACO’.

The Centre submitted that its decision to withdraw some of the forces deployed was taken after assessing the ground situation. The State government had also concurred.

Ways To Prevent From Cell Phone’s Dangerous Radiations

Cell Phones have become an essential part of our life. We spend long hours on our cell phones. We know its advantages but what we don’t know is it’s adverse effects on our health. Electo-magnetic radiations coming from our cell phones adversely affects our health. A research study shows that usage of phones for long hours can result in memory loss, hearing loss, brain tumor and even cancer.

If anyone use cell phone on ear to talk continously for 20 minutes, then there are chances of increase in temperature of brain by 2 degree celcius which may result in brain tumor.

Preventive Measures To Adopt:
1. 

It’s very difficult to keep away cell phones from our body but to avoid its adverse effect, we’ll have to do it. 

Use Earphones while talking on phones. When you’ll use earphone while talking, then your brain will remain unaffected by its radiations and even if you talk more, brain’s temperature will not increase.

If it’s not possible for you to use earphone sometime, then you can use your phone’s loudspeaker as it will help you to make some distance of your phone from your ear.

2.

Tty to send messages than to make calls. There are many instant chat messaging apps on play store like Whatsapp, WeChat,Viber etc which you can use to send messages. If it’s not necessary to make calls, then try to send messages as it will 


Read More: http://www.onlymyhealth.com/


Looking at your phone while crossing the street could now cost you $99 in Honolulu

Honolulu has been working on a bill for a few months now that aims to get people to stop staring at their phones when crossing streets. The bill got its final stamp of approval from the Mayor at the end of July and, as the New York Times points out, will go into effect starting tomorrow.

Specifically, the bill (viewable here) states that “No pedestrian shall cross a street or highway while viewing a mobile electronic device.” They note that “viewing” here means “looking in the direction of the screen” — so walking with your phone up to your ear still seems to be okay.

The exceptions to the whole bill: people calling 911, and the emergency responders who might need to look at a device while running across the street as part of their jobs.

EC announces Gujarat Assembly elections date

The term of the 182-member Gujarat Assembly gets over on January 23 next year.

The Election Commission is announcing the schedule for the Gujarat polls. The term of the 182-member Gujarat Assembly gets over on January 23, 2018.

Updates:
All critical events of the polling will be covered by CCTVs.

Model Code of Conduct applicable to Union Government also, insists Mr. Joti.

There will be a total of 50, 128 polling stations for 182 seats. And the polls will be fully VVPAT-based. All EVMs to be attached with VVPATs.

Differently-abled voters have been identified and the kind of help needed has also been identified and necessary arrangements have been made to help them vote, the CEC says.

All-woman managed polling stations to be introduced in Gujarat polls, says Mr. Joti. 102 all-woman polling stations will be there.

CEC A.K. Joti: Total 4.33 crore voters.

The Himachal Pradesh Assembly poll will be held in a single phase on November 9, the EC announced on October 12.

The EC has been under attack from Opposition parties for not having announced the dates for Gujarat Assembly elections along with Himachal Pradesh.

दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट में इन पदों पर निकली भर्तियां, ऑनलाइन करें आवेदन

नई दिल्‍ली: दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड (DSSSB) ने एलडीसी, फील्‍ड असिस्‍टेंट, फूड सेफ्टी ऑफिसल और लाइब्रेरियन पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी कर आवेदन आमंत्रित किया है. इच्छुक और योग्य अभ्यर्थी 21 अगस्‍त, 2017 तक आवेदन कर सकते हैं. दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड ने कुल 1074 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन मंगाया है. इन पदों पर भर्ती की प्रक्रिया 1 अगस्‍त 2017 से शुरू होगी.

शैक्षणिक योग्यता :
दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड के एलडीसी, फील्‍ड असिस्‍टेंट, फूड सेफ्टी ऑफिसल और लाइब्रेरियन पदों पर भर्ती के लिए अलग अलग योग्‍यता निर्धारित की गई है. इनकी अधिक जानकारी के लिए आप बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट देखें.

आयु सीमा :
इन पदों पर भर्ती के लिए आवेदक की न्‍यूनतम उम्र अलग-अलग पदों के अनुसार 18/20 साल होनी चाहिए. इसके साथ ही आवेदक की अधिकतम उम्र अलग-अलग पदों के अनुसार 20/30/37 साल से ज्‍यादा नहीं होनी चाहिए.

आवेदन शुल्‍क :
दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड के एलडीसी, फील्‍ड असिस्‍टेंट, फूड सेफ्टी ऑफिसल और लाइब्रेरियन पदों पर आवेदन करने के इच्‍छुक सामान्‍य और ओबीसी वर्ग के आवेदक को 100 रुपये ऑनलाइन माध्‍यम से जमा करना होगा. वहीं एससी/एसटी/पीडब्‍ल्‍यूडी वर्ग के आवेदकों के लिए यह निशुल्‍क होगा.

चयन प्रक्रिया :
दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड के एलडीसी, फील्‍ड असिस्‍टेंट, फूड सेफ्टी ऑफिसल और लाइब्रेरियन पदों पर भर्ती के लिए उम्मीदवारों का चयन परीक्षा और स्‍किल टेस्‍ट के आधार पर किया जाएगा. ऑनलाइन परीक्षा केवल दिल्‍ली में आयोजित की जाएगी.

ऐसे करें आवेदन :
दिल्‍ली सब ऑर्डिनेट सर्विसेज सेलेक्‍शन बोर्ड के एलडीसी, फील्‍ड असिस्‍टेंट, फूड सेफ्टी ऑफिसल और लाइब्रेरियन पदों पर भर्ती के लिए इच्‍छुक और योग्‍य उम्मीदवार 21 अगस्‍त, 2017 तक बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट (www.dsssbonlie.nic.in) पर जाकर दिए गए निर्देशों के अनुसार ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. इन पदों पर भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया 1 अगस्‍त 2017 से शुरू होगी. ऑनलाइन आवेदन के बाद आवेदक आगे की चयन प्रक्रिया के लिए फॉर्म का प्रिंटआउट निकाल कर रख लें.

बनना चाहते हैं यूपी पुलिस का सिपाही, तो जान लें बदले हुए नियम

यूपी में अधिकतर युवाओं का सपना होता है कि पुलिस की वर्दी पहनें. अभी तक की प्रक्रिया में वर्तमान की बीजेपी ने सरकार ने कुछ बदलाव किए हैं. उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में पुलिस भर्ती के नियमों में फेरबदल करते हुए आज तय किया कि अब कांस्टेबल की भर्ती के लिए केवल लिखित परीक्षा होगी और उसी के आधार पर चयन होगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में यह फैसला किया गया.

बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा, ‘पुलिस भर्ती के कुछ नियम बदले गये हैं. अब पुरूष वर्ग में 18 से 22 वर्ष और महिला वर्ग में 18 से 25 वर्ष आयु के अभ्यर्थी कांस्टेबल पद के लिए आवेदन कर सकते हैं.’ उन्होंने कहा कि पहले दसवीं पास के लिए 100 अंक, 12वीं पास के लिए 200 अंक और शारीरिक दक्षता के लिए 200 अंक जोड़ने की व्यवस्था थी . इस व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया है और अब केवल लिखित परीक्षा होगी . शारीरिक दक्षता परीक्षा भी केवल पास करनी होगी.

यह भी पढ़ें : यूपी पुलिस में 3500 से अधिक सब-इंस्पेक्टर की नियुक्ति को सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी

शर्मा ने कहा कि शारीरिक दक्षता के मानक पूर्ववत रहेंगे लेकिन इसके अंक जुडे़ंगे नहीं बल्कि इसे केवल पास करना भर पर्याप्त होगा. लेकिन यदि इसमें फेल हो गये तो भर्ती प्रक्रिया से बाहर होना पडे़गा. उन्होंने बताया कि लिखित परीक्षा में ‘नेगेटिव मार्किंग’ होगी और इसका अनुपात भर्ती बोर्ड तय करेगा. शर्मा ने बताया कि नयी व्यवस्था में 300 अंक के वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे, जिनमें नेगेटिव अंक की व्यवस्था होगी .

प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद प्रमुख सचिव (गृह) अरविन्द कुमार ने कहा कि शारीरिक दक्षता परीक्षा में दौड़ के मानक अब पहले से कडे़ कर दिये गये हैं. पुरूष वर्ग में 4.8 किलोमीटर की दौड़ अब 27 मिनट की बजाय 25 मिनट में पूरी करनी होगी. इसी तरह महिला वर्ग में 2.4 किलोमीटर की दौड़ 16 मिनट की बजाय 14 मिनट में पूरी करनी होगी .

नीतीश सरकार के मंत्री बोले- ‘भारत माता की जय’ न कहने वाले पत्रकार पाकिस्तान समर्थक

पटना: बिहार की नई नीतीश सरकार में मंत्री विनोद कुमार सिंह ने मंगलवार को एक बड़े विवाद को जन्म दे दिया. उन्होंने भाजपा के एक समारोह में उनके साथ ‘भारत माता की जय‘ का नारा न लगाने वाले मीडियाकर्मियों को ‘पाकिस्तान का समर्थक’ करार दे दिया. इससे पहले इसी समारोह में भाजपा की बिहार इकाई के अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि मस्जिदों से अजान और चर्च से घंटियों की आवाज के बजाय ‘भारत माता की जय’ की आवाज आनी चाहिए. राय हालांकि अपनी बात पर ज्यादा देर अडिग न रह सके. बाद में उन्होंने यू-टर्न ले लिया और कहा कि उन्होंने ऐसा नहीं कहा था. नीतीश कुमार सरकार में खदान एवं भूगर्भीय मामलों के मंत्री व भाजपा नेता विनोद कुमार सिंह ने राज्य की नई सरकार में शामिल भाजपा के 12 मंत्रियों के सम्मान में हुए संकल्प सम्मेलन में लोगों से कहा कि वे उनके साथ ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाएं.

लेकिन, जब कार्यक्रम में मौजूद मीडियाकर्मियों ने यह नारा नहीं लगाया तो सिंह ने इस पर नाराजगी जताई. उन्होंने कहा, “आप पहले भारत माता की संतान हैं, पत्रकार बाद में हैं. अगर आप मेरे साथ जोर से भारत माता की जय का नारा नहीं लगाते तो क्या आप पाकिस्तान माता के समर्थक हैं?” एक-दो को छोड़कर किसी भी पत्रकार ने मंत्री की इस बात पर ऐतराज नहीं जताया

बिहार बीजेपी अध्यक्ष नित्यानंद राय के बयान पर भी विवाद: इससे पहले, समारोह शुरू होने पर बिहार भाजपा के अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि मस्जिद और चर्च से अजान और घंटी के बजाय ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम्’ की आवाज आनी चाहिए.

यह अहसास होने पर कि उन्होंने एक विवादित बयान दे दिया है, राय ने बात बदलते हुए मीडिया से कहा, “मैंने कहा था कि मस्जिद और चर्च से भारत माता की जय और वंदे मातरम् की आवाज आनी चाहिए. मेरा मतलब यह नहीं था कि यह अजान और घंटी की जगह पर आनी चाहिए.”

विपक्षी राजद ने सिंह और राय के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इन्होंने अपने ‘वास्तविक एजेंडे’ को दिखा दिया है.

जबकि जनता दल (युनाइटेड) प्रवक्ता ने कहा कि यह अभिव्यक्ति की निजी आजादी है और उन्हें इस पर कुछ नहीं कहना है.

याद रहे, नीतीश कुमार चार साल पहले अपनी पार्टी का भाजपा से नाता तोड़ने के बाद पाकिस्तान गए थे, ताकि लोग उन्हें धर्मनिरपेक्ष नेता मानें.

प्रेस रिव्यू: सुभाष बराला के भतीजे पर रेप पीड़िता को धमकाने का आरोप

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने ख़बर दी है कि अब हरियाणा भाजपा अध्यक्ष सुभाषा बराला के भतीजे कुलदीप बराला पर एक नाबालिग बलात्कार पीड़िता को केस वापस लेने के लिए धमकाने का मामला सामने आया है.

अख़बार ने लिखा है कि मामला मई का है और इसमें कुलदीप बराला के एक रिश्तेदार पर अपहरण और बलात्कार के आरोप हैं. पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने हरियाणा पुलिस से मामले पर 31 अगस्त तक स्टेटस रिपोर्ट मांगी है.

सुभाष बराला के बेटे विकास बराला पहले ही चंडीगढ़ में एक आईएएस अफ़सर की बेटी का पीछा करने के केस में फंसे हैं. भाजपा पर उन्हें बचाने की कोशिश के आरोप भी लगे हैं.

ये सिर्फ़ मेरी जीत नहीं, पैसे और ताकत की हार भी है: अहमद पटेल

गुजरात राज्यसभा चुनावों में भारी उठापटक के बाद अहमद पटेल आख़िरकार अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे. उनके अलावा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी चुनाव जीत गए. अहमद पटेल को 44 वोट मिले जबकि स्मृति ईरानी को 46 और अमित शाह को भी 46 वोट मिले. चौथे उम्मीदवार बलवंत सिंह राजपूत को 38 वोट मिले.

क्रॉस वोटिंग की वजह से अहमद पटेल के जीतने पर संशय था. लेकिन फिर कांग्रेस की मांग मानते हुए चुनाव आयोग ने दो बागी कांग्रेस विधायकों के वोट रद्द कर दिए और भाजपा का गणित बिगड़ गया.

कांग्रेस ने क्रॉस वोटिंग करने वाले अपनी ही पार्टी के दो विधायकों राघवजी पटेल और भोला गोहिल के वोट रद्द करने की मांग की थी क्योंकि कथित तौर पर उन्होंने अपने मतपत्र अनाधिकारिक लोगों को दिखा दिए थे.

शाम 5 बजे ही गिनती शुरू होनी थी, लेकिन कांग्रेस की शिकायत के बाद गिनती रोक दी गई थी. देर रात वोटों की गिनती शुरू हुई और 174 वोटों को वैध माना गया.

नतीजों के बाद अहमद पटेल ने ट्विटर पर ‘सत्यमेव जयते’ लिखते हुए अपनी जीत का एलान किया. उन्होंने लिखा, ‘यह सिर्फ मेरी जीत नहीं है. यह पैसे, ताक़त और राज्य की मशीनरी के खुले इस्तेमाल की हार है. मैं उस प्रत्येक विधायक को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने भाजपा की अभूतपूर्व धमकियों और डर के बावजूद मुझे वोट दिया. भाजपा ने अपनी व्यक्तिगत दुश्मनी और राजनीतिक आतंक को ही उजागर किया है. गुजरात के लोग चुनाव में उन्हें जवाब देंगे.’

अहमद पटेल का ट्वीटइमेज कॉपीरइटTWITTER/@AHMEDPATEL

दो वोटों की वजह से फंसा था पेंच

कांग्रेस का आरोप था कि उनकी ही पार्टी के विधायक राघवजी पटेल और भोला गोहिल ने वोट डालने के बाद अपने बैलट आधिकारिक पार्टी प्रतिनिधि के अलावा भाजपा प्रतिनिधि को भी दिखाए थे.

नियमों के मुताबिक, वोट करने वाले विधायकों को अपने बैलट सिर्फ़ अपनी पार्टी के आधिकारिक प्रतिनिधि (चुनाव एजेंट) को दिखाने होते हैं.

देर रात 11:40 पर कांग्रेस नेता अर्जुन मोडवाडिया ने दोनों के वोट रद्द होने की पुष्टि की. उन्होंने कहा कि जब दोनों विधायकों ने वोट दिया तो कांग्रेस के चुनाव प्रतिनिधि शक्तिसिंह गोहिल ने उसी समय खड़े होकर आपत्ति दर्ज कराई थी.

उन्होंने कहा, ”उस समय अधिकारियों ने कार्रवाई नहीं की. दोनों वोट बैलट बॉक्स में डाल दिए गए. लेकिन तभी रिटर्निंग अफ़सर ने आश्वासन दिया था कि वीडियो देखकर फ़ैसला करेंगे.”

वीडियो सार्वजनिक किया जाए: भाजपा

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि अगर मतदान का वीडियो सार्वजनिक किया जाए तो सबको पता चल जाएगा कि वोट रद्द करने का फ़ैसला ग़लत है. उन्होंने वीडियो सार्वजनिक करने की मांग की और यह भी कहा कि इससे नतीजों पर कोई असर नहीं पड़ेगा और भाजपा तीनों सीटें जीतेगी.

उन्होंने कहा, ”वीडियो में हमारे चुनाव प्रतिनिधि दिख ही नहीं रहे हैं और दोनों विधायकों का वोट शक्तिसिंह गोहिल के अलावा किसी ने नहीं देखा है, बल्कि नियम का उल्लंघन शक्तिसिंह गोहिल ने किया, जब उन्होंने देखा कि राघवजी पटेल ने कांग्रेस के ख़िलाफ़ वोट दिया है तो वो गुस्से में खड़े हो गए और मतपत्र छीनने की कोशिश की.”

वाघेला खेमे के दोनों विधायक

शंकर सिंह वाघेला
इमेज शंकर सिंह वाघेला ने हाल ही में छोड़ी है कांग्रेस

दोनों विधायक शंकर सिंह वाघेला खेमे के माने जाते हैं जिन्होंने हाल ही में कांग्रेस छोड़ी है. वाघेला ने मंगलवार सुबह समाचार चैनलों से बात करते हुए कहा था कि उन्होंने कांग्रेस को वोट नहीं दिया है क्योंकि अहमद पटेल चुनाव हार रहे हैं और वो अपना वोट ख़राब करना नहीं चाहते.

दोनों पार्टियों के बड़े नेता पहुंचे थे चुनाव आयोग

मंगलवार को मतदान के बाद पहले कांग्रेस शिकायत लेकर चुनाव आयोग गई और उसकी आपत्ति के ख़िलाफ वरिष्ठ भाजपा नेताओं का समूह भी आयोग पहुंच गया. दोनों पार्टियां दिन भर में तीन-तीन बार चुनाव आयोग पहुंचीं. कांग्रेस की तरफ़ से पी चिदंबरम, रणदीप सुरजेवाला और अशोक गहलोत ने चुनाव आयोग में अपनी शिकायत दी.

भाजपा की तरफ़ से अरुण जेटली, रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण समेत छह केंद्रीय मंत्रियों ने चुनाव आयोग पहुंचकर कांग्रेस की शिकायत को बेबुनियाद करार दिया.

अमित शाह
GETTY IMAGES

गुजरात से राज्यसभा चुनावों की तीन सीटें हैं और चार उम्मीदवार खड़े थे. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत की राह आसान मानी जा रही थी, लेकिन तीसरी सीट के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के सलाहकार और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी. उनका मुक़ाबला हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए बलवंत सिंह राजपूत से था.

राहुल गांधी, अहमद पटेल

हाल ही में छह कांग्रेस विधायकों के पार्टी छोड़ने से यह चुनाव कांटे का हो गया था. इन छह में से तीन विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे. इसके बाद कांग्रेस विधायकों को प्रभावित किए जाने से बचाने के लिए पार्टी ने उन्हें बेंगलुरु के एक रिसॉर्ट में भेज दिया था. मतदान से एक दिन पहले ही उन्हें एक साथ अहमदाबाद लाया गया.

नज़रिया: अहमद पटेल की जीत कांग्रेस के लिए संजीवनी बूटी

राज्यसभा के चुनाव गुजरात में पहले भी हुए हैं. अहमद पटेल का ये पांचवा राज्यसभा चुनाव था. इससे पहले राज्यसभा का चुनाव एक फ़्रेंडली मैच की तरह होता था जिसका परिणाम आमतौर पर मालूम होता था कि अगर इतनी सीटें हैं तो कौन-कौन लोग चुनकर आएंगे.

इस बार भी गुजरात का राज्यसभा चुनाव कुछ अलग नहीं था. लेकिन दो बातों की वजह से सारा समीकरण बदल गया. एक तो ये कि शंकरसिंह वाघेला ने नेता विपक्ष के पद से इस्तीफ़ा दिया और दूसरा ये कि बीजेपी ने ये मन बना लिया कि इस चुनाव को वो बहुत ऊंचे स्तर पर ले जाएगी और जीतेगी. इन दो कारकों के होने की वजह से ये एक बहुत हाई वोल्टेज ड्रामा की शक्ल में सामने आया.

घटनाक्रम को देखें तो ये बात समझ में आती है कि बीजेपी ने इस चुनाव को इस स्तर तक ले जाने का काफ़ी पहले ही मन बना लिया था.

इस योजना के तहत बीजेपी ने सबसे पहला काम ये किया कि शंकर सिंह वाघेला पर प्रश्न उठाना शुरू किया और ऐसा माहौल तैयार कर दिया जिससे ये लगने लगा कि वाघेला शायद बीजेपी में जा रहे हैं. जबकि हक़ीक़त ये थी कि उस समय तक वाघेला का ऐसा कोई इरादा नज़र नहीं आ रहा था.

सोनिया गांधीइमेज कॉपीरइटEPA
Image captionसोनिया गांधी और राहुल गांधी

इससे ऐसा संकेत भी मिला की बीजेपी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के स्तर पर बहुत कुछ खिचड़ी पक रही है.

जैसे-जैसे वक्त गुज़रता गया, कांग्रेस में घटनाक्रम बदले, बाग़ी खड़े हुए और हालत ये हो गई कि पार्टी को अपने विधायकों को टूट से बचाने के लिए गुजरात से बाहर ले जाना पड़ा.

वहां बेंगलुरु में केंद्र सरकार ने जिस तरह इनकम टैक्स और ईडी की मदद से कथित तौर पर दबाव बनाया उससे ये ज़ाहिर होने लगा कि भारतीय जनता पार्टी इस चुनाव में अपना सब-कुछ झोंक रही है.

बीजेपी ने क्यों बनाया इतना महत्वपूर्ण?

अब सवाल उठता है कि ऐसा क्या था इस चुनाव में कि भारतीय पार्टी ने अपने समय, रणनीति, ऊर्जा – सबकुछ लगा दिया.

मुझे लगता है कि बीजेपी चाहती थी कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और गोवा में सरकार बनाने के बाद मिले राजनीतिक लाभ को और मज़बूत करे और मनोवैज्ञानिक रूप से कांग्रेस को भरपूर नुकसान पहुंचाए.

मनोवैज्ञानिक नुकसान का आशय यहां यह है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल अगर अपने गढ़ में ये चुनाव हार जाते हैं तो कांग्रेस के काडर के लिए ये एक बहुत बड़ा सदमा होगा और साथ ही बीजेपी के लिए ये एक बहुत बड़ी राजनीतिक जीत वाली स्थिति होगी.

दूसरी बात ये है कि सोनिया गांधी भारतीय जनता पार्टी के रणनीतिकारों के दिमाग़ में एक बगवेयर के रूप में बैठी हुई हैं जिनका उत्तरोत्तर कमज़ोर होना पार्टी के हित में है.

बीजेपी ये बात नहीं भूल पाती कि सोनिया गांधी ने अकेले अपने दम पर 2004 में न केवल पार्टी को खड़ा किया था बल्कि अटल जी के इंडिया शाइनिंग की भी हवा निकाल दी थी.

यही वजह है कि बीजेपी के रणनीतिकार ये कोशिश करते हैं कि सोनिया गांधी और उनके नेतृत्व वाली कांग्रेस को जितना संभव हो सके नीचे लाया जाए.

नरेंद्र मोदीइमेज कॉपीरइटEPA
Image captionभारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

दूसरी बात, आरएसएस को ये लगता है कि भारत में हर बात कहीं न कहीं कांग्रेस से जुड़ जाती है. इसलिए वो ऐसे भारत की कल्पना करना चाहती है जिसमें कांग्रेस न हो तभी भारत निर्माण हो सकता है.

यही वजह है कि बीजेपी ने ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ का नारा चलाया हुआ है. हालांकि ये बात अलग है कि कांग्रेस मुक्त भारत बनाने की कोशिश में खुद बीजेपी कांग्रेस युक्त होती जा रही है.

नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व वाली बीजेपी की रणनीति ये है कि मौजूदा राजनीतिक माहौल में अगर दक्षिणपंथी विचारधारा को आगे बढ़ाना है तो पुरानी सोच और उसके प्रतीकों को उखाड़ना होगा.

उसी उखाड़ने की प्रक्रिया के तहत अहमद पटेल के बहाने एक सांघातिक प्रहार की कोशिश की गई, लेकिन इसे बीजेपी का दुर्भाग्य कहें या कांग्रेस का सौभाग्य कि बीजेपी का ये पासा उल्टा पड़ गया.

कांग्रेस के लिए अहमद पटेल की जीत के मायने

कांग्रेस के लिए ये जीत बेहद महत्वपूर्ण साबित होगी क्योंकि कांग्रेस लंबे अरसे से बैकफ़ुट पर चल रही है. अहमद पटेल को हराने के लिए बीजेपी और सरकार दोनों ने मिलकर बेहद आक्रामक रणनीति तैयार की थी. लेकिन अब जबकि अहमद पटेल इस कांटे की टक्कर में विजेता बनकर उभरे हैं तो परसेप्शन के स्तर पर और मनोबल के स्तर पर इसका काफ़ी फ़ायदा कांग्रेस को मिलेगा.

इस साल के आखिर में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं. अहमद पटेल की जीत से कांग्रेस पार्टी के पास एक मौका आ गया है चीज़ों को ठीक करने का.

शंकर सिंह वाघेलाशंकर सिंह वाघेला

मोदीजी के गुजरात से केंद्र में जाने के बाद गुजरात बीजेपी में वैसी बात नहीं रही है जो पहले होती थी. वैसे भी कहते हैं कि वट वृक्ष के नीचे कुछ नहीं पनपता. तो मोदी जी के समय गुजरात बीजेपी में मोदी ही मोदी नज़र आते थे. दूसरे नंबर के नेता का भरपूर अभाव था.

जब मोदी जी केंद्र की राजनीति में चले गए तो उनकी जगह गुजरात में जो नेता उभरे उनमें वो बात नहीं है जो मोदी जी में थी. और सरकार जिस तरीके से चल रही है उसका भी जनता में कोई बहुत अच्छा संदेश नहीं जा रहा. इसका फ़ायदा कांग्रेस को मिल सकता है.

सामाजिक असंतोष भी बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकता है. पाटीदार, दलित और अन्य पिछड़े तबकों में सरकार की कार्यप्रणाली को लेकर असंतोष है. इसका फ़ायदा कांग्रेस को मिलता नज़र आ रहा था, लेकिन वाघेला के साथ विधायकों के कांग्रेस छोड़कर जाने से पार्टी की चुनाव तैयारियों को एक धक्का लगा था. लेकिन अहमद पटेल की जीत से कांग्रेस को एक संजीवनी बूटी सी मिल गई है.

अगर पार्टी आलस नहीं करती और इस जीत के पैदा हुई ऊर्जा को संजो कर एक नई रणनीति के साथ चुनाव में उतरती है तो सत्ता का खेल बदल भी सकता है क्योंकि कांग्रेस एक इतना विशालकाय प्राण है कि उसको हिलाना मुश्किल होता है और चलाना और और भी मुश्किल. अगर वो अब भी नहीं चेतेगी तो बहुत मुश्किल हो सकती है.

बीजेपी इससे कैसे उबरेगी

बीजेपी का नियंत्रण इस समय नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पास है. इन दोनों नेताओं की कार्यशैली ये है कि बड़ा धक्का लगने पर ये ऐसा कुछ नया कर डालते हैं जिससे सेटबैक का असर नहीं रह जाता. कांग्रेस अभी तक इस बात को समझ नहीं पाई है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाहबीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

ब्लैक मनी का इश्यू चला था तो नोटबंदी से आलोचना के पूरे माहौल को बदल दिया गया. कहने का मतलब है कि बीजेपी सदमे को भुलाकर तुरंत खड़ी हो जाने वाली पार्टी हो गई है और गुजरात को पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व बहुत गंभीरता से ले रहा है क्योंकि वो इसी ज़मीन से निकलकर नरेंद्र मोदी केंद्र तक पहुंचे हैं. इसलिए गुजरात का पार्टी के लिए बहुत बड़ा प्रतीकात्मक महत्व है और वो इसे हाथ से निकलता नहीं देख सकते. इसलिए पार्टी ने अभी से ही बूथ लेवल तक अपनी रणनीति बना ली है. जबकि दूसरी ओर कांग्रेस है जो ऊपर-ऊपर की बातों में उलझी पड़ी है.

अगर कांग्रेस को आगामी चुनाव में जीत के सपने को साकार करना है तो उसे नींद से जागना होगा और अहमद पटेल की जीत से मिली ऊर्जा को बहुत छोटे स्तर पर कार्य कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं तक पहुंचाना होगा. छोटी-छोटी जीत से ही बड़ी जीत का सपना साकार होता है.

आने वाले समय में 2019 में लोकसभा के चुनाव होने हैं और कांग्रेस इस जीत से सबक लेकर एक समग्रता वाली रणनीति के साथ पूरी दमखम से काम करती है तो आज जिस हालत में पड़ी है उसका दूसरा पहलू भी देखने को मिल सकता है. लेकिन बीजेपी भी इन बातों को समझती है और वो अपने गढ़ को कमज़ोर होता नहीं देखना चाहेगी.

इटावा: मृत परिजनों को दफनाने के लिए नहीं है कब्रिस्तान, घर में ही बन रही है कब्र

विधानसभा चुनाव के दरम्यान उत्तर प्रदेश मे कब्रिस्तान और शमशान का मुददा बड़े जोर शोर से उछाला गया था लेकिन इस पर अब पूरी तरह से चर्चा बंद हो चुकी है । उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में चंबल नदी के किनारे बसे चकरगनर मे एक ऐसी मुस्लिम बस्ती है जहां के लोग अपने मृत परिजनों को अपने घरों में ही दफनाने मे लगे हैं। चकरनगर के बारे मे कहा जाता है कि महाभारत काल के दौरान पांडवों ने अज्ञातवास यहीं बिताया था  जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर स्थित चकरनगर इलाके में एक बस्ती है तकिया। यहां रहने वाली सुशीला बेगम काफी दुखी होकर कहती हैं कि हमें न धन चाहिए , न दौलत, न ही कुछ और। हमें तो सिर्फ दो गज़ जमीन चाहिए लेकिन हम इतने दुर्भाग्यशाली हैं कि हमें वो भी मयस्सर नहीं । यह तकलीफ सिर्फ सुशीला बेगम की नहीं है । बस्ती में रहने वाले करीब 70-80 मुस्लिम परिवारों को भी यही परेशानी है। वे अपने छोटे से घरों या यों कहें कि घरनुमा कमरों में ही अपने पुरखों की कब्र बनाने के लिए मजबूर हैं।

सुशीला बेगम अपने घर मे बनी कब्रों के बारे में बताते हुए वे फूट-फूट कर रोते हुए बताती हैं कि वैसे तो कोई अपना मर जाता है तो इंसान कुछ दिन रोता है, फिर उसकी यादें धुंधली होती जाती हैं लेकिन इन कब्रों के हमेशा सामने होने के कारण हमेशा अपनों के मरने की ही घटना दिखती है। हम जब भी कब्रों को देखते हैं, बातें ताजा हो जाती हैं। यही नहीं, इस बस्ती में कई ऐसे भी घर हैं, जहां कमरे में एक ओर कब्र है तो दूसरी ओर सोने का बिस्तर लगा है। यानी शयन कक्ष और कब्रिस्तान एक साथ हैं ।इसी बस्ती के ही यासीन अली बताते हैं कि हम सभी मजदूरी करते हैं। किसी के पास ज़मीन है ही नहीं । सालों पहले ग्राम समाज से घर के लिए जो जमीन मिली थीं, परिवार बढ़ने के साथ वो कम पड़ने लगीं । पहले हम खाली जमीन पर शव दफनाते थे, लेकिन बाद में जगह नहीं मिलने के कारण घरों में ही दफनाना पड़ रहा है । ऐसा नहीं है कि इस बात की किसी को जानकारी न हो। ये समस्या नई नहीं बल्कि सालों पुरानी है। ये बस्ती फकीर मुसलमानों की है। बस्ती के लोगों का कहना है कि इसके लिए हमने हर जगह दरख्वास्त दी, लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई।

इटावा के प्रशासनिक अधिकारी भी तकिया में कब्रिस्तान न होने की बात से वाकिफ हैं लेकिन वे भी यही समस्या बता रहे हैं जो कि ग्राम प्रधान राजेश यादव ने बताई। इटावा की जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे कहती हैं कि आस-पास खाली जमीन है ही नहीं। किसी की निजी जमीन दी नहीं जा सकती है। कुछ दूर पर जमीन मुहैया कराई गई थी लेकिन वहां ये लोग कब्रिस्तान बनाने को राजी नहीं है। सेल्वा कहती हैं कि डेढ़ किलोमीटर दूर चांदई गांव में कब्रिस्तान के लिए उपलब्ध जमीन पर शव दफनाने के लिए लोगों को मनाने की कोशिश हो रही है। तकिया बस्ती की कुछ महिलाएं बताती हैं कि बच्चे अक्सर रात में जग जाते हैं क्योंकि कई घरों में कब्रें बिस्तर के बिल्कुल पास में ही बनी हुई हैं। बहरहाल, प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधि तकिया बस्ती के लोगों के लिए आस-पास ही किसी कब्रिस्तान के इंतजाम में लगे हैं लेकिन अभी तो इनकी यही मांग है कि मरने के बाद अपनी मातृभूमि में दफन होने के लिए इन्हें कम से कम दो गज जमीन तो मिल जाए ।

चंडीगढ़ छेड़छाड़ केस: मायावती ने पूछा, खामोश क्यों हैं भाजपा के नेता

हरियाणा भाजपा प्रमुख के बेटे और उसके साथी द्वारा चंडीगढ़ में एक युवती का पीछा करने के मामले में बसपा प्रमुख मायावती ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोपियों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग करते हुए पूछा कि इस मामले में भाजपा के बड़े नेता खामोश क्यों हैं? उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के नेता इस मामले को दबा देने की कोशिश में हैं। मायावती ने पूछा, ‘क्या भाजपा नेताओं से जुड़े व्यक्तियों पर देश का कानून लागू नहीं होता? यह दोहरा रवैया क्यों?’  मायावती ने हरियाणा सरकार के ‘बेटी बचाओ’ अभियान के नारे पर तंज कसते हुए कहा कि जिस तरीके से विकास बराला प्रकरण को दबा देने की कोशिश चल रही है, वह बेहद चिंतनीय है। लखनऊ में जारी एक बयान में उन्होंने मांग की कि आरोपियों के खिलाफ तुरंत प्रभाव से अपहरण का मामला दर्ज किया जाए और उनकी अविलंब गिरफ्तारी की जाए।

उन्होंने मांग की कि महिला उत्पीड़न के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। मायावती के मुताबिक जिस तरीके से अभियुक्त विकास बराला को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बचाने की कोशिश कर रहे हैं, उससे कमजोर वर्ग में उनके खिलाफ असंतोष पैदा हो रहा है। विकास को पुलिस ने थाने से जाने कैसे दिया?’ उन्होंने कहा कि इन हालात में लोगों का गुस्सा बिल्कुल जायज है।  मायावती ने पूछा कि क्या भाजपा के नेता और उनके संबंधी देश के कानून से ऊपर हैं। क्या उन पर कानून लागू नहीं होता? उन्होंने कहा कि हरियाणा की हाल की घटनाओं से स्पष्ट हो गया है कि बेटी बचाओ, लव जेहाद, महिला सुरक्षा, गो रक्षा और एंटी-रोमियो जैसे नारे गढ़कर भाजपा ने मतदाताओं को लुभाया है और सत्ता पाई है। इन नारों का हकीकत से कोई लेना-देना नहीं है।

देश में भर में अपहरण, छेड़छाड़ और पीछा करने के मामले बढ़े

दिल्ली में महिला के प्रति अपराध के मामले सबसे ज्यादा रहे। यहां 17,104 केस प्रति एक लाख महिला आबादी पर 184.3 की अपराध दर से दर्ज हुए। असम इस मामले में दूसरे और हरियाणा छठे नंबर पर रहा।

देशभर में महिलाओं के संग 2015 में अपहरण, छेड़छाड़ और पीछा करने के मामले बढ़े हैं। हालांकि बलात्कार के मामलों में कमी आई है। ऐसा नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) का कहना है। एनसीआरबी के मुताबिक अगर 2014 से तुलना करें तो निश्चित रूप से बलात्कार के मामले घटे हैं। एनसीआरबी की 2016 के अपराध आंकड़ों की रिपोर्ट अभी आना बाकी है। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार 2014 के मुकाबले 2015 में महिलाओं के प्रति अपराध में 3.1 फीसद की कमी आई। 2015 में जहां 3,27,394 मामले अपराध के दर्ज हुए, वहीं 2014 में यह संख्या 3,37,922 थी। इसी तरह बलात्कार के मामले 2015 में 5.7 फीसद कम हुए। 2014 में 36,735 मामले बलात्कार के दर्ज हुए थे वहीं 2015 में यह संख्या घटकर 3,651 रह गई।

2015 की रिपोर्ट में सबसे चौंकाने वाली बात यह रही कि महिलाओं के यौन प्रताड़ना संबंधी अपराध 2.5 फीसद बढ़ गए। इसमें छेड़छाड़, पीछा करना, घूरना वगैरह शामिल हैं। 2015 में 84,222 ऐसे मामले दर्ज किए गए जबकि 2014 में यह संख्या 82,235 थी। इसी तरह महिलाओं के अपहरण के मामलों में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई। 2014 में जहां 57,311 अपहरण हुए थे, वहीं 2015 59,277 अपहरण हुए। महिलाओं को शादी के लिए विवश करना अपहरण का प्रमुख कारण है। 2015 में 54 फीसद महिलाएं इसी कारण से अपह्रत की गईं। 2014 में इसी वजह से 50 महिलाएं अगवा की गई थीं। दिल्ली में महिला के प्रति अपराध के मामले सबसे ज्यादा रहे। यहां 17,104 केस प्रति एक लाख महिला आबादी पर 184.3 की अपराध दर से दर्ज हुए। असम इस मामले में दूसरे और हरियाणा छठे नंबर पर रहा।

राज्य मामले राष्ट्रीय हिस्सेदारी दर %
दिल्ली 17,104 52
तेलंगाना 15,135 4.6
ओडीशा 17,144 5.2
राजस्थान 28,165 8.6
हरियाणा 9,446 2.9
पश्चिम बंगाल 33,218 10.1

राज्य घटनाएं प्रति एक लाख महिला आबादी

दिल्ली 2,199 23.7
छत्तीसगढ़ 1,560 12.2
मध्य प्रदेश 4,391 11.9
ओडीशा 2,251 10.8
राजस्थान 3,644 10.5
महाराष्ट्र 4,144 7.3
उत्तर प्रदेश 3,025 3.0

नीतीश को चुनौती देने तैयार हुए शरद यादव? जारी क‍िया ब‍िहार की जनता से सीधा संवाद का कार्यक्रम

बिहार में महागठबंधन की सरकार टूटने के बाद इन दिनों जदयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव और सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच बढ़ती दूरी साफ दिखाई दे रही है। महागठबंधन टूटने के बाद नीतीश ने भाजपा के साथ मिलकर भले ही सरकार बना ली हो लेकिन शरद यादव ने अब नीतीश को चुनौती देने के लिए कमर कस ली है। शरद यादव बहुत ही जल्द बिहार की जनता के साथ सीधे संवाद करते हुए दिखाई देंगे। इस संवाद की जानकारी शरद यादव ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर दी है। जनता से किए जाने वाले इस संवाद की एक सूची तैयार की गई है कि किस दिन शरद यादव प्रदेश की जनता के साथ रुबरु होंगे।

इस सूची के अनुसार 10 अगस्त को शरद यादव पटना से सोनपुर जाएंगे। सोनपुर के बाद वे हाजीपुर, सराय, भगवानपुर, गोरौल, कुढ़ानी, तुर्की, रामदयालु नगर, गोबरसाही और फिर भगवानपुर चौक जाएंगे। यहां जनता से संवाद कर शरद यादव मुजफ्फरपुर जाएंगे और यहीं पर रात को ठहरेंगे। इसके बाद 11 अगस्त उनका मुजफ्फरपुर में कार्यक्रम होगा। यहां कार्यक्रम खत्म करने के बाद शरद यादव चांदनी चौक, जीरो माइल, गरहा, बोचाहा, मझौली, सर्फुद्दीनपुर, जारंग, गायघाय, बेनीबाद और दरभंगा में आम जनता के साथ रुबरु होंगे और उनसे उनकी तकलीफों के बारे में जानेंगे।

बिहार की जनता से सीधे संवाद कार्यक्रम के आखिरी दिन 12 अगस्त को शरद यादव मधुबनी, सुपौल, सहरसा और मधेपुरा में आम जनता के बीच पहुंचेंगे और रात को मधेपुरी में ही विश्राम करेंगे। अपने इस कार्यक्रम के जरिए शरद यादव शायद नीतीश को बताना चाहते हैं कि जिस पार्टी के साथ मिलकर उन्होंने सरकार बनाने का कदम उठाया है वह बिलकुल गलत है। ऐसा लगता है कि इन कार्यक्रम के तहत शरद यादव नीतीश कुमार से अपनी नाराजगी जाहिर करना चाह रहे हैं। आपको बता दें कि ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि शरद यादव जल्द ही जदयू से अलग हो सकते हैं क्योंकि वे अपने बयान में पहले ही कह चुके हैं कि वे नीतीश कुमार के फैसले से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। इस बयान से शरद यादव की नीतीश के प्रति नाराजगी साफ झलकती है।

गुजरात राज्यसभा चुनाव: अमित शाह की रणनीति फेल, कांग्रेसी अहमद पटेल जीते, चुनाव आयोग में भी बीजेपी की हार

गुजरात राज्यसभा चुनाव 2017 में मंगलवार (8 अगस्त) की रात को नाटकीय ढंग से घटनाक्रम बदले और तीसरी सीट पर कांग्रेस के अहमद पटेल जीत गए। तीन राज्यसभा सीटों में से दो पर भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत हुई लेकिन इन दोनों की जीत की खुशी तीसरी सीट पर हुई हार के आगे फीकी पड़ गई। आखिर तक किसी को नहीं पता था कि तीसरी सीट जिसपर अहमद पटेल और बीजेपी की तरफ से बलवंत राजपूत आमने-सामने थे उसपर कौन जीतेगा। सारा विवाद दो कांग्रेसी विधायकों के वोट को लेकर खड़ा हुआ। दरअसल दोनों ने अपना वोट डालने के बाद यह दिखा दिया था कि उन्होंने किसको वोट दिया। इसपर कांग्रेस ने हंगामा कर दिया।

कांग्रेस का कहना था कि दोनों ने वोट की गोपनीयता का उल्लंघन किया है इसके चलते दोनों (भोलाभाई गोहिल और राघवजी भाई पटेल) का वोट कैंसल होना चाहिए। इस चीज के लिए कांग्रेस चुनाव आयोग पहुंच गई। इसी बीच वोटों की गिनती रुकवा दी गई। फिर आधी रात तक दोनों ही दलों के बड़े-बड़े नेता चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचने लगे। दोनों की तरफ से अपनी-अपनी दलीलें दी जा रही थी।

लेकिन अंत में चुनाव आयोग ने दोनों के वोट को खारिज कर दिया। आयोग ने निर्वाचन अधिकारी से कांग्रेस विधायक भोलाभाई गोहिल और राघवजी भाई पटेल के मतपत्रों को अलग करके मतगणना करने को कहा। आयोग के आदेश के अनुसार मतदान प्रक्रिया का वीडियो फुटेज देखने के बाद पता चला कि दोनों विधायकों ने मतपत्रों की गोपनीयता का उल्लंघन किया था। वोटों की गिनती रात को एक बजे शुरू हुई और लगभग दो बजे नतीजे आए। जीत के बाद अहमद पटेल ने ट्वीट कर ‘सत्यमेव जयते’ लिखा। उन्होंने कांग्रेस का साथ देने वाले सभी लोगों का शुक्रिया भी किया।

यह सीट अमित शाह और अहमद पटेल के लिए नाक का सवाल बन गई थी। दोनों को ही अपनी-अपनी पार्टी का ‘चाणक्य’ कहा जाता है। लेकिन अंत में बीजेपी दो सीट जीतकर भी खुश नहीं थी और चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाने की बात कह रही थी।

अजहरुद्दीन को कोर्ट ने मैच फिक्सिंग से किया मुक्त, क्या BCCI उन्हें देगी करोड़ों रुपए बकाया पेंशन?

नई दिल्ली: प्रशासकों की समिति और बीसीसीआई पदाधिकारियों की मंगलवार को होने वाली बैठक में भारत के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन की लंबी बकाया राशि पर बातचीत की जायेगी. समझा जाता है कि अजहर ने सीओए को बताया है कि आंध्र उच्च न्यायालय ने पांच साल पहले उनके पक्ष में फैसला सुनाते हुए तमाम आरोपों से बरी कर दिया था. उन्होंने अपने बकाया के बारे में भी पूछताछ की जो कुछ करोड़ रुपए हैं.

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा ,’हां , अजहरूद्दीन के मसले पर सीओए की बैठक में बात की जायेगी. फिलहाल अजहर पर कोई प्रतिबंध नहीं है और वह बीसीसीआई के समारोहों में भाग ले रहे हैं.

आखिरी बार वह 2000 में भारत के लिये खेले थे. उन्हें 17 साल से पेंशन नहीं मिली और एकमुश्त अनुग्रह राशि भी रूकी हुई है. सीओए इस बारे में फैसला लेगा.’

हि‍दुस्‍तान की ऐसी तस्‍वीर जि‍से आप नहीं देखना चाहेंगे

रात को लगभग 11 बजे एक मित्र का फोन आया. बहुत जरूरी हो तभी इस वक्त फोन कोई फोन करता है. बात की तो उन्होंने मुझे कहा कि व्हाट्सऐप पर एक फोटो देखिए. मैंने डेटा ऑन करके उनका भेजा गया फोटो देखा. जब से यह फोटो देखा, रह—रह कर आंखों के सामने घूम रहा है. यह हिंदुस्तान की उन दर्दनाक तस्वीरों सा ही है जो कभी भोपाल की गैस त्रासदी में सामने आता है, कभी किसी अपने की लाश को कांधों पर उठाए बीसियों किलोमीटर चला जाता है. पूरे नौ माह तक अपनी कोख में एक जीवन पाल रही स्त्री के सामने ठीक अंतिम क्षण इतने भारी पड़ने वाले होंगे किसने सोचा होगा. एक शिशु का जन्म लेते ही धरती पर यूं गिर जाना, और जन्म लेते ही मौत को पा जाना, यह दुखों का कितना बड़ा पहाड़ होगा, क्या हम और आप सोच सकते हैं, इस दर्द को महसूस कर सकते हैं, क्या इस दर्द को दूर कर सकते हैं?

यह मामला दो दिन पहले मध्यप्रदेश के कटनी जिले का है. इस जिले के बारे में एनएफएचएस—4 की रिपोर्ट में बताया गया है कि प्रसव के दौरान यहां पर लोगों को पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा रकम खर्च करनी पड़ती है. कटनी के पास ग्राम बरमानी निवासी रामलाल सिंह और बीना बाई के घर अच्छी खबर आने वाली थी. सुरक्षित प्रसव हो इसके लिए मध्यप्रदेश में बहुत काम किया गया है. संस्थागत प्रसव पर जोर दिया गया है. इसका असर हुआ और अब लोग घरों के बजाय अस्पतालों में जाकर प्रसव कराने को प्राथमिकता दे रहे हैं. अस्पताल तक पहुंचाने का जिम्मा आशा कार्यकर्ताओं को भी दिया गया है. इसके लिए उन्हें प्रोत्साहन राशि दी जाती है. अस्पताल तक पहुंचाने के लिए एम्बुलेंस की सुविधा भी है, इसे जननी एक्सप्रेस नाम दिया गया है. सरकार का दावा है कि अब 80 प्रतिशत से ज्यादा प्रसव अस्पतालों में होने लगे हैं, लेकिन इनमें सुरक्षित प्रसव का प्रतिशत कितना है, यह अभी कहना बाकी है. पर लोगों को उम्मीद तो रहती ही है कि जच्चा—बच्चा का जीवन सुरक्षित रहे.

इसी आस में पति रामलाल सिंह ने प्रसव पीड़ा होने पर बरही अस्पताल पहुंचाने के लिए सुबह 10 बजे जननी एक्सप्रेस को फोन लगाया. समय चलता रहा, पीड़ा बढ़ती रही, लेकिन कोई जननी एक्सप्रेस नहीं आई. हारकर उसने अपनी पत्नी को एक ऑटो में जैसे—तैसे बैठाया और अस्पताल की ओर चल पड़ा. ऑटो अस्पताल से महज 700 मीटर की दूरी पर आकर बंद हो गया. ऐसी अवस्था में प्रसूता के लिए एक कदम में चलना मुश्किल होता है. रामलाल किसी फिल्म का हीरो भी नहीं था, जो अपनी पत्नी को गोद में उठाकर अस्पताल तक पहुंचाने जैसा फिल्मी काम कर सकता. वह दौड़ा, अस्पताल की ओर. रामलाल अस्पताल जाकर कर्मचारियों के सामने एम्बुलेंस भेजने की विनती करता रहा. पत्नी ऑटो में तड़प रही थी.

पति वापस नहीं आया और दर्द जब हद से ज्यादा हुआ तो वह ऑटो से निकल पैदल ही अस्पताल की ओर चलने लगी. कुछ ही दूर चलने पर उसे प्रसव हो गया. उसने एक सुंदर बालक को जन्म दिया, पर—पर—पर वह सड़क पर ऐसे गिरा कि फिर न हिल—डुल सका, न रो सका. आंखें खुलने से पहले ही बंद हो गईं, सांस चलने से पहले रुक गईं, दिल धड़कने से पहले ठिठक कर रूक गया. सड़क पर खून बह रहा था… पता नहीं यह मौत थी या हत्या.

मुझे दस साल पहले संग्राम सिंह की स्टोरी याद आ गई. यह मंडला जिले का मामला था. यहां पर शिशु नहीं मरा था. बैगा महिला थी, जो शिशु को जन्म देते—देते रास्ते में ही मर गई थी. किसी और मसले पर काम करते—करते हमें इस घटना का पता चला था. उसके पिता ने हमें उसकी आपबीती सुनाई थी. इसके कथानक को बदल दीजिए, कुछ दाएं—बाएं होगा, सामने तीन दिन का संग्राम था, यह नाम भी हम पत्रकारों की टोली उस बच्चे को दे आई थी. अगले दस दिन बाद हमने पता किया तो संग्राम भी उसकी मां के पास ही चला गया था. तब से अब तक दस साल का विकास हमारे सामने है. विकास के पैमाने में जिंदगी की सुरक्षा का कोई मानक कितना सुधरा, कैसे कहें, घटनाएं तो निरंतर हमारे सामने है.

हम संसाधनों का हवाला दे सकते हैं, भारत की भिन्न—भिन्न भौगोलिक परिस्थितियों के बीच सुविधाएं पहुंचा पाने की असमर्थकता का भी तर्क मान सकते हैं, पर जो व्यवस्थाएं मौजूद हैं, उनके कुशल संचालन के जिम्मेदारी से कैसे दूर भाग सकते हैं. यदि अस्पताल के ठीक सात सौ मीटर पीछे कोई बच्चा जमीन पर गिरकर मर जाए, तो इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा. क्या हमारा समाज भी इतना निष्ठुर हो गया है कि दर्द से तड़प रही एक महिला को वह अस्पताल तक नहीं पहुंचा सकता ? क्‍या यह कि‍सी धर्म के एजेंडे में नहीं है ? क्‍या ऐसे काम देशप्रेम की सूची में समाहि‍त नहीं होंगे !!! क्‍या ऐसे मसलों पर चर्चा कि‍सी राष्ट्रवाद से कम है?

यह घटना हुई इससे ठीक एक दि‍न बाद देश की संसद में स्‍वास्‍थ्‍य एवं परि‍वार कल्‍याण मंत्री फग्‍गन सि‍ह कुलस्‍ते ने एक सवाल के जवाब में बताया था कि भारत के महापंजीयक का नमूना पंजीकरण प्रणाली यानी एसआरएस की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क 2015 में देश में प्रति एक हजार शि‍शु जन्‍म पर 37 बच्‍चों की मौत हो जाती है. पांच साल तक के बालकों की  मृत्यु दर यानी अंडर फाइव मोर्टेलि‍टी के मामले में यह आंकडा प्रति हजार जीवि‍त जन्‍म पर 43 है. इसी तरह मात मृत्यु दर के मामले में यह संख्‍या प्रति एक लाख प्रसव पर 167 है.

इसी सवाल के जवाब में बताया गया कि देश में 39 प्रतिशत बच्‍चों की मौत कम वजन या समय से पूर्व प्रसव के कारण, 10 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत एक्‍सपीसिया या जन्‍म आघात के कारण, 8 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत गैर संचारी रोगों के कारण, 17 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत नि‍मोनि‍या के कारण, 7 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत डायरि‍या के कारण, 5 प्रतिशत बच्‍चों की मौत अज्ञात कारण, 4 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत जन्‍मजात वि‍संगति‍यों के काराण, 4 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत संक्रमण के कारण, 2 प्रति‍शत बच्‍चों की मौत चोट के कारण, डेढ प्रति‍शत बच्‍चों की मौत बुखार के कारण और पांच बच्‍चों की मौत अन्‍य कारणों से होती है.

कटनी में हुई बच्‍चे की मौत इसमें से कि‍स श्रेणी में आएगी… सोचना होगा! सोचना यह भी होगा कि सड़क पर जो लहू बह रहा है वह मौत का है या हत्‍या का. और इसका जि‍म्‍मेदार कौन है? आखि‍र ऐसी भी क्‍या परि‍स्‍थि‍ति है कि अस्‍पताल के ठीक सामने एक प्रसूता प्रसव करती है, बच्‍चे की मौत हो जाती है; हमारा समाज उसकी मौत को खड़े-खड़े देखता रहता है. इस मौत का मुकदमा कि‍स अदालत में चलाया जाएगा, और क्‍या कठघरे में हम सभी नहीं होंगे? सरकार की नीति और नीयत का सवाल तो है ही पर क्‍या समाज की संवेदना भी उसी सि‍स्‍टम की भेंट चढ़ गई है.

दुनि‍याभर में इस सदी की शुरुआत में मि‍लेनि‍यम डेवलपमेंट गोल्‍स तय कि‍ए गए थे. इसमें भुखमरी को दूर कर देने, गरीबी को हटा देने, शि‍शु और बाल मृत्‍यु दर को कम करने सहि‍त कई बि‍दु थे. जब 2015 तक यह तय नहीं हो पाए तो अब सतत वि‍कास लक्ष्‍यों का नया एजेंडा तय कि‍या गया है. अब 2030 तक इसमें तय कि‍ए गए लक्ष्यों को हासि‍ल करने का वायदा कि‍या गया है.

पर देखि‍ए कि देश की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं का क्‍या हाल है. ऐसी वीभत्‍स तस्‍वीरें और खबरें जहां से आती हैं, वह एकदम ग्रामीण इलाका ही होता है. ऐसी जगहों पर छोटी-छोटी सेवाएं बड़ा काम करती हैं, मसलन प्राथमि‍क स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र. यह सार्वजनि‍क स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं की पहली और महत्‍वपूर्ण कड़ी है. इसके बारे में घटना के ठीक एक दि‍न बाद केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परि‍वार स्‍वास्‍थ्‍य कल्‍याण मंत्री जेपी नड्डा ने जो जवाब दि‍या है वह बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं के लि‍ए कतई ठीक नहीं माना जा सकता है. लोकसभा में प्रस्‍तुत जवाब के मुताबि‍क देश में आबादी के हि‍साब से अब भी 22 प्रति‍शत स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों की कमी है. यही जानकारी इन केन्‍द्रों में पदस्‍थ डॉक्‍टरों के बारे में है. देश के प्राथमि‍क स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों में 34 हजार 68 डॉक्‍टरों के पद स्‍वीकृत हैं इनमें से 8774 पद खाली पड़े हैं. इस संदर्भ में और जानकारि‍यां हैं, जो लगभग ऐसी ही हैं. अब सवाल यही है कि ऐसी स्‍थितियों में ऐसी कहानि‍यां क्‍यों न सामने आएं.

राकेश कुमार मालवीय एनएफआई के पूर्व फेलो हैं, और सामाजिक सरोकार के मसलों पर शोधरत हैं…

ये हैं इंग्लैंड के मोईन अली, किया ऐसा कारनामा जो क्रिकेट में कभी नहीं हुआ

इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले गए चौथे और अंतिम टेस्ट में 177 रन से हरा दिया. इस जीत के साथ इंग्लैंड ने सीरीज पर 3-1 से कब्जा जमा लिया

नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका को अपनी धरती पर टेस्ट सीरीज में शिकस्त देने के लिए इंग्लैंड को 19 साल इंतजार करना पड़ा. इस ऐतिहासिक जीत के हीरो रहे इंग्लैंड के ऑलराउंडर मोईन अली. इस ऑलराउंड प्रदर्शन के दम पर यह उपलब्धि हासिल करने वाले मोईन 8वें क्रिकेटर बन गए हैं. इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले गए चौथे और अंतिम टेस्ट में 177 रन से हरा दिया. इस जीत के साथ इंग्लैंड ने सीरीज पर 3-1 से कब्जा जमा लिया. मोईन अली ने दूसरी पारी में 69 रन देकर पांच विकेट लिए. इतना ही नहीं, मोईन अली ने दूसरी पारी में 75 रन की नाबाद पारी खेलकर टीम को 243 के सम्माजनक स्कोर पर पहुंचाया था.

ये भी पढ़ें: 19 साल बाद इंग्लैंड ने अपनी धरती पर दक्षिण अफ्रीका को हराया

मोईन अली से जुड़ी 5 बातें

  1. मोईन अली ने चार मैचों की सीरीज में बल्ले से अहम योगदान देते हुए 252 रन बनाए. उन्होंने अपनी फिरकी के जाल में विपक्षी बल्लेबाजों को फांसते हुए 15.64 के औसत से 25 विकेट लिए. टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह पहला मौका है, जब किसी खिलाड़ी ने चार मैचों की सीरीज में 250 से ज्यादा रन बनाने के साथ 25 विकेट भी चटकाए हो.
  2. पांच या उससे ज्यादा मैचों की सीरीज में आठ प्लेयर यह करिश्मा कर चुके हैं.
  3. मोईन इंग्लैंड की तरफ से 8वें ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने किसी टेस्ट सीरीज में 200 रन बनाए और 20 विकेट भी लिए.
  4. साल 2005 में इंग्लैंड के ऑलराउंडर एंड्रयू फ्लिंटॉप ने ऐसा ही कारनामा किया था, यानी मोईन ने 12 साल के बाद एक ऑलराउंडर के तौर पर ऐसे प्रदर्शन को फिर से दोहराया.
  5. मोइन अली ने द. अफ्रीका के खिलाफ पिछले तीन टेस्ट मैचों में 87, 7, 18, 27, 16 और 8 रन की पारी खेली. वहीं इन मैचों में विकेट की बात करें तो उन्होंने क्रमश: 4, 6, 0, 4, 0 और 4 विकेट लिए.

हरियाणा के बीजेपी नेता पर सरेआम भड़क गईं अभिनेत्री रवीना टंडन, बोलीं- तुम कायर हो

हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष रामवीर भट्टी द्वारा IAS की बेटी पर दिये बयान के चलते फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन ने उन्हें खरी-खोटी सुनाई है। रवीना टंडन ने बीजेपी नेता रामवीर भट्टी पर भड़कते हुए कहा है कि ये कायर हैं, इन लोगों का बस चले तो ये सूरज ढलने के बाद अपनी बेटियों को ताले में बंद कर दें। आपको बता दें कि रामवीर भट्टी ने सोमवार को हरियाणा में बीजेपी अध्यक्ष के बेटे द्वारा एक आइएएस की बेटी को रात के अंधेरे में छेड़ने के मामले में विवादित बयान देते हुए कहा था कि उस लड़की को इतनी रात में अकेले नहीं घूमना चाहिए था। रामवीर भट्टी ने ये भी कहा था कि इस समय माहौल बहुत खराब है, इसलिए रात 12 बजो के बाद लड़कियों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। बीजेपी नेता के इस बयान के मीडिया में आने के बाद राजनीतिक दलों से लेकर सोशल मीडिया तक पर उनकी जमकर आलोचना हुई। खुद भारतीय जनता पार्टी के सासंद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि वो रामवीर के इस बयान के लिए उनपर कोर्ट में मुकदमा करेंगे। रामवीर भट्टी की आलोचना करनेवालों में एक नाम रवीना टंडन का भी जुड़ गया है। रवीना ने रामबीर भट्टी के बयान को रिट्वीट करते हुए ट्वीट किया कि ये कायर लोग अब बी उस लड़के की तरफदारी में उलजलूल बातें बोल रहे हैं। रवीना ने लिखा कि ये लोग सूरज ढलने के बाद अपनी बेटियों को ताले में बंद कर देने वाले लोग हैं।

रवीना टंडन के इस ट्वीट को सोशल मीडिया पर लोग खूब पसंद कर रहे हैं। यूजर्स रवीना की बातों से सहमति जताते हुए रामवीर भट्टी जैसे लोगों की मानसिकता पर सवाल उटा रहे हैं।

 

आपको बता दें कि हरियाणा में एक IAS की बटी ने बीजेपी नेता सुभाष बराला के बेटे विकास पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। लड़की का आरोप है कि विकास बराला और उसका दोस्त आशीष कुमार एक पेट्रोल पंप से ही उनकी कार का पीछा कर रहे थे और कार का दरवाज़ा खोलने की कोशिश की। लड़की के कई बार फोन करने पर पुलिस वहां पहुंची और दोनों लड़कों को गिरफ़्तार कर लिया। गिरफ्तार करने के अगले दिन ही उन सबको जमानत मिल गई। पीड़िता ने उस रात की घटना का जिक्र करते हुए अपने फेसबुक पेज पर अपना दर्द बयां करते हुए लिखा कि मैं खुशकिस्मत हूं कि रेप के बाद नाले में नहीं मिली।

पाकिस्तान के कई परिवार गाय के गोश्त को हाथ नहीं लगाते

कुछ दिनों पहले कुछ बड़ों के साथ बैठे थे और भारत में गोमांस पर होने वाली हिंसक घटनाओं पर बात हो रही थी कि अचानक उनमें से एक बुज़ुर्ग ने कहा कि भगवान का लाख-लाख शुक्र है कि जिसने गाय बनाई.

पाकिस्तान के पंजाब सूबे के शहर के बीच हाफ़िज़ाबाद में होने वाली इस बातचीत के दौरान थोड़ी चुप्पी के बाद उदास आंखों के साथ पुरानी यादों को ताज़ा करते हुए बुज़ुर्ग ग़ुलाम हसन कहते हैं कि हमारे यहां बाप-दादा के समय से गाय पाली तो जाती है लेकिन कभी उसके मांस घर की दहलीज के अंदर नहीं आने दिया.

 

उन्होंने कहा, “आने भी क्यों देते … मेरा जिगरी दोस्त डॉक्टर हीरालाल पड़ोसी था, ग़मी व खुशी में बढ़-चढ़ कर शरीक होता था तो किस मुंह से गाय का मांस खाते जिसे वह पवित्र मानता था.”

पाकिस्तान का एक परिवार
पाकिस्तान में अब भी कई परिवार हैं जो दालें खाना पसंद नहीं करते

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के शहर हाफ़िज़ाबाद के निवासी ग़ुलाम हसन की बातें आज भी विभाजन से पहले यहां पाई जाने वाली धार्मिक सहिष्णुता के दर्शाती है जिसे सत्तर वर्ष बीतने के बाद आज भी कई परिवार जीवित रखे हुए हैं.

इन परंपराओं के इतिहास के बारे में जिज्ञासा हुई तो पंजाब की तारीख़ और संस्कृति पर कई पुस्तकों के लेखक प्रोफ़ेसर असद सलीम शेख़ से संपर्क किया और अपने प्रश्न उनके सामने रखे.

प्रोफ़ेसर असद सलीम शेख़

प्रोफ़ेसर असद सलीम शेख़ ने बताया कि भारतीय उपमहाद्वीप में मुसलमानों के दो वर्ग हैं जिनमें एक वर्ग स्थानीय नहीं था जो अरब, तुर्की, ईरान और अफ़ग़ानिस्तान आदि से आने वाले मुसलमान थे और उन सभी मुसलमानों के रस्मो-रिवाज, सभ्यता वह संस्कृति वही थी जो वे अपने क्षेत्रों से लाए थे.

 

वो कहते हैं, “दूसरा वर्ग वह था जो स्थानीय हिंदुओं का था और धर्म बदल कर मुसलमान हुआ था. इसमें दूसरे क्षेत्रों से आने वाले मुसलमान हर तरह के मांस का उपयोग करते थे लेकिन दूसरा वर्ग गाय का मांस खाने से परहेज़ करता रहा क्योंकि वह हिंदुओं के साथ सदियों से रह रहे थे और उनकी सभ्यता उनके अंदर रची-बसी रही और मुसलमान होने के बावजूद उन्होंने इन पहलुओं को छोड़ा नहीं.”

लेकिन क्या केवल यही पहलू था जिसकी वजह से बहुत सारे मुसलमान घरों में बकरे का मांस इस्तेमाल किया जाता है लेकिन गोमांस पसंद नहीं किया जाता?

इस पर प्रोफ़ेसर असद ने बताया, “उपमहाद्वीप में अक्सर स्थानों पर हिंदुओं के अनुपात में मुसलमान अल्पसंख्यक थे जिसकी वजह से यह पहलू भी था कि किसी ऐसी परंपरा को नहीं अपनाया जाए जिसके कारण बहुमत की धार्मिक भावनाएं आहत हों या जिससे झगड़े का ख़तरा हो.”

 

उन्होंने कहा कि इसके अलावा “भाईचारा और सहिष्णुता भी थी जिसकी वजह से बाद में किसी क्षेत्र में अगर मुसलमान बहुमत में आ गए तो भी उन्होंने गोमांस खाने परहेज़ ही किया” और इसी वजह से अकबर बादशाह चूँकि सक्योलर था तो उसने धार्मिक सहिष्णुता को बनाए रखने के लिए गाय के ज़बह करने पर पाबंदी भी लगाई.

गाय

प्रोफ़ेसर असद की बातें उस वक़्त साफ़ हुईं जब हाफ़िज़ाबाद की तहसील पिंडी भट्टयाँ के एक घर में जाने का मौक़ा मिला.

गृहिणी शाज़िया तुफ़ैल जब दस्तरख़ान पर खाना परोस रहीं थीं तो मैंने पूछ लिया कि क्या आपने गाय का मांस कभी पकाया है, उस पर उनकी प्रतिक्रिया ऐसे थी जैसे कोई गुस्ताख़ी कर दी हो.

शाज़िया ने दोनों कानों को हाथ लगाते हुए कहा “ना ना हमारे घर कभी गाय का गोश्त नहीं आया. हमारे बुज़ुर्गों से रवायत है कि गाय का मांस कभी घर नहीं लाया गया और न ही इसे पसंद किया जाता है. यह परंपरा दशकों से चली आ रही है और यही कोशिश है कि अगली पीढ़ी भी इसका पालन करे.”

इस इलाक़े में शाज़िया तुफ़ैल ऐसी एकमात्र महिला नहीं जिनके यहाँ गाय का गोश्त इस्तेमाल नहीं किया जाता बल्कि कई ऐसे परिवार हैं जिन्होंने धार्मिक सहिष्णुता की अनमोल यादों को संभाल कर रखा हुआ है.

मोदीजी के राज में संवाद नहीं केवल बल प्रयोग: मेधा पाटकर

मध्य प्रदेश में बांध प्रभावितों के लिए मुआवज़े और पुनर्वास की मांग को लेकर अनशन कर रहीं सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर को पुलिस ने अनशन स्थल से हटाकर ज़बरदस्ती अस्पताल में भर्ती करा दिया है.

मेधा पाटकर समेत 12 लोग सरदार सरोवर बांध के प्रभावितों की मांगों को लेकर धार ज़िले के चिखल्दा गांव में अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठै थे.

अनशन के 12वें दिन पुलिस ने मेधा पाटकर समेत छह लोगों को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में अनशन स्थल से ज़बरदस्ती हटा दिया.

नर्मदा बचाओ आंदोलन से जुड़े लोगों का आरोप है कि इस दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया जिसमें कई लोग घायल हुए हैं

‘कील वाले डंडे’

आंदोलनकर्मी
कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पुलिस ने बल प्रयोग किया

आंदोलन की कार्यकर्ता हिमशी सिंह उस वक़्त वहां मौजूद थीं. उनका कहना है कि चिखल्दा गांव में इस वक़्त ख़ौफ का माहौल है.

हिमशी सिंह का आरोप है कि पुलिस ने मेधा पाटकर को ले जाने के दौरान भारी बल प्रयोग किया जिसमें कई लोगों को गंभीर चोटें आई हैं.

उन्होंने कहा, ”पुलिस जिन डंडों का इस्तेमाल कर रही थी, उसमें कीलें लगी हुई थीं.”

गिरफ्तारी नहीं, इलाज: शिवराज

मेधा पाटकर

वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मेधा पाटकर को गिरफ्तार नहीं किया गया है बल्कि अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

शिवराज ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं संवेदनशील व्यक्ति हूं. चिकित्सकों की सलाह पर मेधा पाटकर जी व उनके साथियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है.’

उन्होंने आगे लिखा कि ‘मेधा पाटकर और उनके साथियों की स्थिति हाई कीटोन और शुगर की वजह से चिंतनीय थी. उनके स्वास्थ्य और दीर्घ जीवन के लिए हम प्रयासरत हैं’.

डूब क्षेत्र से 40 हज़ार लोग प्रभावित

शिवराज चौहान के ट्वीट

उधर अनशन स्थल से हटाए जाने से पहले मेधा पाटकर ने कहा, ”आज मध्य प्रदेश सरकार हमारे 12 दिनों से बैठे 12 साथियों को मात्र गिरफ्तार करके जवाब दे रही है. यह कोई अहिंसक आंदोलन का जवाब नहीं है. मोदी जी के राज में, शिवराज जी चौहान के राज में एक गहरा संवाद नहीं, जो हुआ उस पर जवाब नहीं. आंकड़ों का खेल, कानून का उल्लंघन और केवल बल प्रयोग.”

सरदार सरोवर बांध से 192 गांवों के 40 हज़ार परिवार प्रभावित होंगे. उनका पूरा इल़ाका डूब जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि 31 जुलाई तक पूरी तरह पुनर्वास के बाद ही बांध की ऊंचाई बढ़ाई जाए.

लेकिन पुनर्वास के लिए जो जगह बनाई गई है, उसकी हालत भी रहने लायक नहीं है.

गाय के नाम पर गबन: हरियाणा गौसेवा आयोग के सदस्य पर गौशाला संघ के 13 लाख रुपए हड़पने का आरोप

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने 2015 में गौसेवा आयोग का गठन किया। इसमें कुल 11 सदस्य हैं जिनमे योगेंद्र आर्य भी शामिल हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा गौसेवा कल्याण बोर्ड के एक सदस्य पर संस्था का प्रमुख रहने के दौरान 13 लाख रुपये के गबन का आरोप है। कोलकाता से निकलने वाले अंग्रेजी दैनिक द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार पूरे राज्य में गौशालाएं चलाने वाले बोर्ड के पूर्व प्रमुख योगेंद्र आर्य हरियाणा गौ सेवा आयोग के सदसय् हैं। साल 2012 में वो आर्य समाज द्वारा चलाए जाने वाले हरियाणा राज्य गौशाला संघ के प्रमुख थे। करीब एक महीने पहले हरियाणा के कुरुक्षेत्र में 35 गायें मर गई थीं। कहा गया कि ये गायें चारे, पानी और आश्रय के अभाव में मर गईं। गायों की मौत के बाद ही आर्य पर मुकदमा दर्ज किया गया।

योगेंद्र आर्य पर जनवरी 2012 से सितंबर 2012 के बीच गौशाला संघ के बैंक खाते से 11.68 रुपये निकालने का आरोप है। आर्य पर गौशाला के लिए चंदे के रूप में इकट्ठा हुए 1.12 लाख रुपये न जमा करने का भी आरोप है। गौशाला संघ पूरे हरियाणा में करीब 225 गौशालाएं चलाता है। योगेंद्र आर्य के खिलाफ मामला तब दर्ज हुआ जब गौशाला संघ के वर्तमान प्रमुख शमशेर सिंह आर्य ने इस बाबत शिकायत दर्ज करायी। अपनी शिकायत में शमशेर आर्य ने योगेंद्र आर्य की गौसेवा आयोग की सदस्यता समाप्त करने की भी मांग की है। गौसेवा आयोग का गठन राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया है।

हरियाणा में साल 2015 में पहली बार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार बनी। बीजेपी सरकार बनने के बाद सीएम खट्टर ने गौसेवा आयोग का गठन किया। इस आयोग में कुल 11 सदस्य हैं जिनमे योगेंद्र भी शामिल हैं। योगेंद्र ने खुद पर लगे सभी आरोपों को खारिज करते हुए टेलीग्राफ से कहा कि उनके खिलाफ उनके दुश्मनों ने शिकायत की है।

हरियाणा में खट्टर सरकार ने गौवंश से जुड़ा बेहद कड़ा कानून बनाया है। गौवंश के किसी जानवर की हत्या पर 10 साल तक की जेल और 10 लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है। राज्य पशुपालन विभाग के निदेशक ने टेलीग्राफ से कहा कि मामले की रिपोर्ट राज्य सरकार के पास भेज दी गयी है। गौसेवा आयोग के चेयरमैन भानी राम मंगल ने अखबार से कहा कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं है लेकिन आयोग के सदस्य दोषी होंगे तो उन पर कार्रवाई की जाएगी।

‘We need to talk about male rape’: DR Congo survivor speaks out

“If I talked about it, I would have been separated from the people. Even those who treated me would not have shaken my hands.”

Stephen Kigoma was raped during the conflict in his home country, the Democratic Republic of Congo.

He described his ordeal in an interview with the BBC’s Alice Muthengi, calling for more survivors to come forward.

“I hid that I was a male rape survivor. I couldn’t open up – it’s a taboo,” he said.

“As a man, I can’t cry. People will tell you that you are a coward, you are weak, you are stupid.”

The rape took place when men attacked Stephen’s home in Beni, a city in north-eastern DR Congo.

“They killed my father. Three men raped me, and they said: ‘You are a man, how are you going to say you were raped?’

“It’s a weapon they use to make you silent.”

After fleeing to Uganda in 2011, Stephen got medical help – but only after a physiotherapist treating him for a back problem realised there was more to his injuries.

He was taken to see a doctor treating survivors of sexual violence, where he was the only man in the ward.

“I felt undermined. I was in a land I didn’t belong to, having to explain to the doctor how it happened. That was my fear.”

Stephen was able to get counselling through the Refugee Law Project, an NGO in Uganda’s capital, Kampala, where he was one of six men speaking about their ordeal.

But they’re far from being the only ones.

Police not an option

The Refugee Law Project, which has investigated male rape in DR Congo, has also published a report on sexual violence among South Sudanese refugees in northern Uganda.

It found that more than 20% of women reported being raped – compared to just 4% of men.

“The main reason that fewer men come forward is that people assume they should be invulnerable, they should fight back. They have allowed it so they must be homosexual,” Dr Chris Dolan, director of the organisation, told the BBC’s Focus on Africa programme.

Legal challenges pose a problem when it comes to men reporting rape, he added.

“In the Rome Statute [which established the International Criminal Court] you have a definition of rape that is wide enough to include women and men, but in most domestic legislation, the definition of rape involves the penetration of the vagina by the penis. That means if a man comes forward, they’ll be told it wasn’t rape, it was sexual assault.

“There’s the problem of criminalisation of same-sex activity – it revolves around penetration of the male body, not around consent or lack of consent.”

In 2016, Uganda took in more refugees than any other country in the world, and has been praised for having some of the world’s most welcoming policies towards them.

But for male rape survivors like Stephen, life there can be tough. Homosexual acts are illegal in Uganda, and going to the police to report rape is not always an option.

“When I asked the police, they said that if it has anything to do with penetration between a man and a man, it is gay,” he said.

“If it happens to a woman, we listen to them, treat them, care and listen to them – give them a voice. But what happens to men?”

Modi taking no chances with V-P elections

NDA MPs to take part in mock voting.

The vice-presidential election, scheduled for Saturday, may look like it is in the bag for the ruling NDA, but Prime Minister Narendra Modi is taking no chances.

On Friday evening, he will meet all MPs of the NDA and the parties that have pledged support to its candidate M. Venkaiah Naidu at the G.M.C. Balayogi Auditorium in the Parliament House complex. The meeting will be different from the routine as it involves an exercise of mock voting with replicas of the ballot.

Two names

“There were 21 invalid votes polled in the presidential election, and many of them were from the BJP. It was felt, therefore, that there should be a demo of the voting process again,” said a senior office-bearer of the BJP.

The ballot will have the names of the two candidates in the fray: Mr. Naidu and Gopalkrishna Gandhi, who has been put up by the Opposition. Mr. Modi will also take part in the exercise as an MP.

At the meeting, all parties of the NDA will express their support for Mr. Naidu. This will be followed by a cultural programme and a dinner. The cultural programme is being arranged by Union Minister Mahesh Sharma.

Drug companies flock to supercharged T-cells in fight against autoimmune disease

Researchers in both academia and industry are turning to immune-suppressing cells to clamp down on autoimmune disorders, and the effort is building to a fever pitch.

On 24 July, pharmaceutical firm Eli Lilly of Indianapolis, Indiana, announced that it would pay up to US$400 million to support the development of a drug — which entered clinical trials in March — that stimulates these cells, called regulatory T cells. And in January, Celgene of Summit, New Jersey, announced plans to buy a company working on a similar therapy for $300 million.

Other companies, from tiny biotechs to pharmaceutical heavyweights, are also investing in an approach that could yield treatments for a variety of disorders caused by an immune attack on the body’s own cells. Such conditions include type 1 diabetes, lupus and rheumatoid arthritis.

“It’s a field that’s just, like, crazy,” says David Klatzmann, an immunologist at Pierre and Marie Curie University in Paris, who has been studying regulatory T cells and advises a Paris company called ILTOO Pharma. “The competition is coming very hard. It’s going to be exciting to see where it goes.”

Booster molecule

T cells are often thought of as key foot soldiers in the immune system’s battle against foreign invaders. But there are many kinds of T cell, each armed with a different set of skills. Regulatory T cells serve to dampen immune responses — rather than attack invaders — and are important for preventing autoimmunity.

People with disorders caused by an autoimmune attack often also have reduced levels of regulatory T-cell activity, leading scientists to suspect that bolstering such cells could reduce the immune system’s attack on the body.

To boost these cells, many researchers — now including those at Lilly and Celgene — are turning to a molecule called interleukin-2 (IL-2). High doses of IL-2 stimulate the ‘effector’ T cells that attack invaders, and in 1992, US regulators approved the treatment for some people with cancer, to prompt immune responses against the tumours. But low doses of IL-2 — roughly ten times lower than those used to treat cancer — instead stimulate regulatory T cells, and have relatively little effect on effector T cells.

This observation was made in the 1990s, but some researchers resisted the idea of using IL-2 to treat people with autoimmune disorders, even at low doses. The high doses used in cancer treatment are notoriously toxic, and can be fatal. “Initially, lots of people were so afraid to use it,” says Di Yu, an immunologist at the Australian National University in Canberra. “They have some bitter memories of IL-2.”

Molecular tweaks

Gradually, a handful of promising small clinical trials have begun to overcome those concerns. And in 2011, a pair of studies provided the first clinical evidence that the approach could work. One of these was in graft-versus-host disease1, a condition that can occur when transplanted bone marrow produces immune cells that attack its new host, and the other was in an autoimmune disorder caused by hepatitis C virus infection2. Researchers have also launched other studies in type 1 diabetes and lupus. The lower doses seem, so far, to be much safer than the doses used for cancer treatment.

Even so, there are still concerns about how specific the IL-2 treatment can be — any potential stimulation of effector T-cell responses in a patient who is already undergoing an autoimmune attack could be dangerous. “It’s a robust field, but a challenging field,” says Jeffrey Bluestone, an immunologist at the University of California, San Francisco, who has advised several companies on regulatory T-cell projects. “It’s still unclear that you can get a regulatory T-specific response without any other effects.”

Instead, many companies are interested in tweaking IL-2 to make it more specific. Lilly’s $400-million investment went to Nektar Therapeutics, a biotech company in San Francisco, California, that has produced chemically modified IL-2 that is less likely to bind to effector T cells. Delinia, the company that Celgene bought, which is based in Cambridge, Massachusetts, was developing a mutated form of IL-2 that has a similar effect.

Other researchers are investigating possible cell therapies, for example extracting regulatory T cells from a patient’s blood, expanding and activating the cells in the laboratory, and then reintroducing them into the patient. Another approach, still in the early stages of development, is to engineer regulatory T cells taken from the body to help the cells better recognize the molecules that are provoking an autoimmune response and to shut that response down.

And basic researchers are still discovering more about the biology of regulatory T cells that could aid the development of future therapies. Hongbo Chi, an immunologist at St. Jude Children’s Research Hospital in Memphis, Tennessee, has been studying how the metabolism of regulatory T cells differs from that of other T cells. And Alexander Rudensky, an immunologist at the Memorial Sloan Kettering Cancer Center in New York City, and his colleagues, this year reported a new subset of regulatory T cell that may have a more specific function[3].

Although Chi is not directly seeking out new drugs, he has noted industry’s enthusiasm with interest. “It’s really encouraging to see those therapeutics go into clinical trials,” he says. “That motivates us basic researchers to understand the mechanism.”

चरमपंथ के ख़िलाफ़ सेना का साथ क्यों दे रहे कश्मीरी?

पिछले दो महीनों से कश्मीर घाटी में जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों को रोकने की कार्रवाइयों में खासा वृद्धि हुई है. खासकर उस दक्षिणी हिस्से में जिसे नई पीढ़ी के चरमपंथ का गढ़ माना जाता है.
जून-जुलाई 2017 के महीने में लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख अबू दुजाना और लश्कर के ही एक और शीर्ष कमांडर बशीर लश्करी समेत कश्मीर घाटी में लगभग 36 चरमपंथी मारे गए, इनमें हिज़बुल मुज़ाहिद्दीन के कई शीर्ष चरमपंथी भी शामिल थे. इस सूची में नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिश में मारे गए चरमपंथी शामिल नहीं हैं.

एक ओर पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियां चरमपंथ को बेअसर करने में मिली कामयाबी का जश्न मना रही हैं, तो वहीं दूसरी तरफ़ अलगाववादियों को यह पसंद नहीं आ रहा. जेल में बंद आसिया अंद्राबी के नेतृत्व वाले महिलाओं के कट्टरवादी संगठन दुख़्तरान-ए-मिल्लत ने मारे गए चरमपंथियों की संख्या में वृद्धि पर खुलकर अपनी चिंता व्यक्त की है.

दुख़्तरान-ए-मिल्लत की महासचिव नाहिदा नसरीन ने 22 जून को एक बयान में कहा, “मारे जा रहे चरमपंथियों की संख्या बढ़ गई है. हम आज़ादी के समर्थक और चरमपंथी गुटों से आग्रह करते हैं कि इतनी बड़ी संख्या में मुजाहिदीनों की मौत के पीछे कमियों को तलाशें और साथ ही गोलीबारी के दौरान उन्हें बचाने की कोशिश में लगे युवाओं की पहचान करें.

पुलिस और सेना समेत अन्य सुरक्षाकर्मियों को चरमपंथियों की मौज़ूदगी की अधिक से अधिक सटीक सूचनाएं मिल रही हैं. जहां एक ओर यह उनके संबंधित ख़ुफ़िया विभागों की दक्षता को दिखाता है तो वहीं दूसरी तरफ़ एक कठोर सच को भी ज़ाहिर करता है कि अब पहले की तुलना में कश्मीर के लोग सुरक्षाबलों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. दुख़्तरान-ए-मिल्लत का बयान यही इशारा करता है.

योगी आदित्यनाथ की सरकार में अपने ही क्यों हैं ख़फ़ा?

उत्तर प्रदेश सरकार स्वच्छ प्रशासन, कार्यकुशलता और जनता के हित में कार्य करने के जहां तमाम दावे कर रही है, वहीं उसकी पार्टी के ही ज़िम्मेदार नेता और मंत्री उस पर सवाल उठाकर सरकार की कार्यप्रणाली पर संदेह खड़े कर रहे हैं.

सरकार को बने अभी चार महीने ही हुए हैं, लेकिन पार्टी के कई नेताओं और विधायकों की तो छोड़िए एक विभाग के कैबिनेट मंत्री ही दूसरे विभाग की कार्यप्रणाली पर नाराज़गी ज़ाहिर कर चुके हैं.

राज्य के आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने पिछले दिनों ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को पत्र लिखकर उनके इलाक़े में बिजली व्यवस्था की अनियमतितताओं की ओर ध्यान दिलाया तो ये पत्र राजनीतिक जगत में सुर्खियों में आ गया.

बिजली का मुद्दा

जय प्रताप सिंह कहते हैं, “दरअसल, हमें क़रीब डेढ़ दशक से जर्जर व्यवस्था हर क्षेत्र में मिली है. ज़ाहिर है बिजली भी उनमें से एक है. हमारे इलाक़े के कुछ विधायकों ने शिकायत की बिजली की स्थिति ख़राब है. उन लोगों ने इस बारे में मुख्यमंत्री से भी बात की थी. लेकिन जब बात नहीं बनी तो हमने ऊर्जा मंत्री को पत्र लिखा.”

जय प्रताप सिंह ने अपने पत्र में साफ़-साफ़ लिखा कि मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री के निर्देशों के बावजूद उनके इलाक़े में लोगों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है और यदि यही स्थिति बनी रही तो ये पार्टी और सरकार के लिए ठीक नहीं होगा.

दरअसल, ये अकेला मामला नहीं बल्कि इस तरह के कई मौक़े आए जब पार्टी के जनप्रतिनिधियों ने अपनी ही सरकार की कार्यप्रणाली पर उंगली उठाई. हमीरपुर के एक विधायक अशोक चंदेल तो विधान सभा में कहने लगे कि छोटे-मोटे प्रशासनिक अधिकारी तक उनकी बात नहीं सुनते हैं.

आम आदमी तक…

वहीं बांदा ज़िले के एक विधायक राजकरन पिछले दिनों अवैध खनन के ख़िलाफ़ धरने पर बैठ गए. उनका कहना था कि प्रशासन उनकी बातें नहीं सुनता है और वो पार्टी में या मंत्रियों से शिकायत करते हैं तो उनकी सुनी नहीं जाती.

यही नहीं, पार्टी के कई सांसद भी इस बारे में अक़्सर शिकायत करते रहते हैं.

राज्य सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा इस बात को तो स्वीकार करते हैं कि कुछ जगह असंतोष हो सकता है, लेकिन उनका कहना है कि ऐसी शिकायतों पर कार्रवाई होती ज़रूर है.

सरकार की छवि

श्रीकांत शर्मा कहते हैं, “पार्टी में लोकतंत्र है और विधायकों से लेकर आम आदमी तक अपनी बात कह सकता है. जब तक लोग समस्याएं बताएंगे नहीं तो सरकार को पता कैसे चलेगा. रही बात उसके बाद की तो सरकार इन्हें दूर करने की पूरी कोशिश करती है. हमें ये भी पता चला है कि प्रशासन में बैठे कुछ लोगों की आदत ख़राब हो चुकी है. उन लोगों को भी चेतावनी दी गई है कि सुधर जाएं नहीं तो कार्रवाई होगी.”

ऐसे ढेरों उदाहरण हैं जब राज्य के बीजेपी नेताओं ने सीधे तौर पर सरकार की कार्यप्रणाली पर नाराज़गी ज़ाहिर की है.

जानकारों का कहना है कि ऐसा न सिर्फ़ अनुभवहीनता के कारण हो रहा है बल्कि इसलिए भी कि सरकार में शक्ति के कई केंद्र हैं.

जनता का पैसा बर्बाद करने की मूर्ख नीति

जनता का पैसा बर्बाद करने वाली 'मूर्ख' नीति की घंटी बजाओ

जनता का पैसा बर्बाद करने वाली 'मूर्ख' नीति की घंटी बजाओ

Posted by ABP News on Wednesday, August 2, 2017

IRCTC से तत्काल टिकट बुक करने पर भी अब मिलेगी ‘पे ऑन डिलिवरी’ की सुविधा

यह सर्विस उन लोगों के लिए ज्यादा उपयोगी है जो टिकट तो ऑनलाइन बुक करना चाहते हैं लेकिन टिकट की पेमेंट ऑनलाइन नहीं करना चाहते, या फिर ऑनलाइन टिकट बुक करने के बाद पेमेंट कैश में करना चाहते हैं।

तत्काल ट्रेन टिकट बुक कराने वालों को अब आईआरसीटीसी ने एक और सर्विस दे दी है। IRCTC से बुक किए गए टिकट पर ‘पे ऑन डिलीवरी’ की सुविधा देने वाली एंड्युरिल टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड ने बुधवार (3 अगस्त) को ऐलान किया कि अब यूजर तत्काल टिकट बुक करने के दौरान भी ‘बुक नाउ पे लेटर’ का ऑप्शन चुन सकते हैं। अब आईआरसीटीसी से तत्काल रेल टिकट बुक करने के बाद कैश और डेबिट या क्रेडिट कार्ड से बाद में भुगतान कर सकेंगे। पे ऑन डिलीवरी की सर्विस अभी तक जनरल रिजर्वेशन के लिए उपलब्ध थी। अब तत्काल बुकिंग के लिए इस सेवा को उपलब्ध करा दिया गया है। यह सर्विस उन लोगों के लिए ज्यादा उपयोगी है जो टिकट तो ऑनलाइन बुक करना चाहते हैं लेकिन टिकट की पेमेंट ऑनलाइन नहीं करना चाहते या फिर ऑनलाइन टिकट बुक करने के बाद पेमेंट कैश में करना चाहते हैं।

ऐसे करता है तत्काल टिकट के लिए ‘पे ऑन डिलीवरी’ सिस्टम काम
इस सर्विस का फायदा उठाने के लिए यूजर को सबसे पहले irctc.payondelivery.co.in पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन करने के दौरान यूजर को अपने आधार कार्ड या पैन कार्ड की जानकारी देनी होगी।
इसके बाद जब आईआरसीटीसी पोर्टल पर तत्काल टिकट की बुकिंग करेंगे तो बुकिंग के दौरान यूजर को एंड्युरिल टेक्नोलॉजी के ‘pay-on-delivery’ ऑप्शन को चुनना होगा।

टिकट बुक होने के साथ ही टिकट को एसएमएस/ईमेल द्वारा डिजीटली डिलीवर कर दिया जाता है। इसमें सबसे खास बात यह है कि टिकट बुकिंग के 24 घंटे के अंदर-अंदर भुगतान करना होता है।
ग्राहक ऑनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें बुकिंग के समय एक पेमेंट लिंक भेजा जाता है।

पीएम मोदी को तोहफे में मिली विदेशी घड़ी, ढाई हजार का पैन, जानिए 2017 में मिले कौन-से गिफ्ट

अधिकारियों का कहना है कि ऐसा बहुत की कम होता है कि मंत्री और अधिकारी उपहार को अपने घर ले जाए। तोशखाने के रिकॉर्ड के मुताबिक पीएम मोदी को पहले दस हजार कीमत के दो डिनर सेट मिले थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैन्स और प्रशंसकों का कहना है कि वह कभी न थकने वाले इंसान हैं और बिना समय देंखे लगातार अपने काम में जुटे रहते हैं। बावजूद इसके इस साल पीएम मोदी को विदेश दौरों के दौरान कई गिफ्ट मिले हैं। आधिकारिक दस्तावेजों के मुताबिक प्रधानमंत्री को ब्रिटिश कंपनी सेकोंडा की घड़ी मिली है। मंत्रियों और अधिकारियों को विदेश मंत्रालय के आधिकारिक भंडार तोशखाने में सारे उपहार जमा करने होते हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक तोशखाने में तैनात के अधिकारी ने बताया कि प्राप्तकर्ता 5 हजार से कम का गिफ्ट रख सकता है। 5000 से ऊपर का गिफ्ट रखने पर उसे अतिरिक्त पैसे चुकाने होते हैं।

पीएम मोदी को Sekonda ‘House of Commons’ हाथ घड़ी गिफ्ट में मिली है, जिसकी कीमत साढे तीन हजार रुपए है। घड़ी के अलावा पीएम को सजावटी चीनी मिट्टी के बरतन भी मिले हैं, इसकी कीमत एक हजार रुपए है। जनवरी से मार्च के बीच मोदी को मिले गिफ्ट में संयुक्त अरब अमीरात के शाही आवास का एक मॉडल, नक्काशी की हुई एक सजावटी मूर्ति और मोंट ब्लांक बॉलपेन पेन शामिल है। पेन की कीमत 2500 रुपए है और वह तोशखाने में रखा है। इसके अलावा रिपॉजिटरी में जमा अमीरती नेशनल हाउस के मॉडल का मूल्य 4500 रुपये है और आर्गिलिट नक्काशी वाली मूर्ति की कीमत 2000 रुपये है। तोशखाने में 83 नवीनतम प्रविष्टियों में ये छह वस्तुएं भी शामिल हैं। बता दें कि जून महीने में नीदरलैंड यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वहां के पीएम ने साइकिल गिफ्ट की थी।

अधिकारियों का कहना है कि ऐसा बहुत की कम होता है कि मंत्री और अधिकारी उपहार को अपने घर ले जाए। तोशखाने के रिकॉर्ड के मुताबिक पीएम मोदी को पहले दस हजार कीमत के दो डिनर सेट मिले थे और पंद्रह हजार रुपए कीमत की कालीन मिली थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उनके कार्यकाल के दस साल में 101 गिफ्ट मिले थे। मनमोहन सिंह को अर्द्ध कीमती पत्थरों से सजा हुआ चांदी का हाथी मिला था। इसके अलावा 10 पेंटिंग, बोस कंपनी का साउंट सिस्टम और एक गोल्ड प्लेटेड लेडिज घड़ी मिली थी। इन सभी गिफ्ट्स में सिर्फ 7 चीजें ऐसी थी जिनकी कीमत 5 हजार से ज्यादा थी।

चीन ने अजीत डोभाल से कहा- बिना किसी शर्त के डोकलाम से अपनी सेना हटाये भारत

चीन ने बुधवार को कहा कि उसने भारत को अपने इस दृढ़ रूख की सूचना दे दी है कि मौजूदा गतिरोध खत्म करने के लिए उसे बिना किसी शर्त के सिक्किम क्षेत्र के डोकलाम से अपनी सेना तत्काल हटा कर ठोस कार्रवाई करनी चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय ने पीटीआई को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीन के स्टेट काउंसिलर यांग जेइची के बीच 28 जुलाई को हुई मुलाकात का पहली बार ब्योरा देते हुए बताया कि दोनों अधिकारियों ने ब्रिक्स सहयोग, द्विपक्षीय रिश्तों और प्रासंगिक प्रमुख समस्याओं पर चर्चा की थी। डोभाल ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के साझे मंच ब्रिक्स में हिस्सा लेने के लिए पिछले माह बीजिंग में थे।

डोभाल और यांग दोनों भारत और चीन के बीच सीमा वार्ता के लिए विशेष प्रतिनिधि भी हैं। चीन के विदेश मंत्रालय ने डोकलाम से संबंधित गतिरोध पर दोनों देशों के बीच चर्चा के बारे में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि यांग ने डोभाल से उनके आग्रह पर और तौर-तरीके के अनुरूप द्विपक्षीय मुलाकात की। डोकलाम पर गतिरोध तब शुरू हुआ जब चीन ने उस इलाके में सड़क बनाना शुरू किया।

चीनी विदेश मंत्रालय ने इंगित किया कि डोभाल और यांग के बीच वार्ता के दौरान कोई प्रमुख प्रगति नहीं हुई। मंत्रालय ने कहा, ‘‘यांग चेइची ने चीन-भारत सीमा के सिक्किम खंड पर चीन की सरजमीन में भारतीय सीमा बल के अतिक्रमण पर चीन के कठोर रूख और सुस्पष्ट अनिवार्यता जताई।’’ इस मुद्दे पर भारत का रूख पिछले माह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने स्पष्ट किया था। उन्होंने सीमा पर गतिरोध के शांतिपूर्ण समाधान की हिमायत करते हुए कहा था कि इसपर किसी वार्ता के शुरू करने के लिए पहले दोनों पक्षों को अपनी-अपनी सेनाए हटानी चाहिए।

भारत ने चीन सरकार को यह भी सूचित किया है कि उस क्षेत्र में सड़क निर्माण से यथास्थिति में उल्लेखनीय बदलाव आएगा जिसके गंभीर सुरक्षा निहितार्थ होंगे। चीनी विदेश मंत्रालय ने बताया कि डोभाल के साथ वार्ता में यांग ने भारत से आग्रह किया कि वह चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता, अंतरराष्ट्रीय कानून और अंतरराष्ट्रीय रिश्तों को संचालित करने वाले बुनियादी नियम-कायदों का सम्मान करे और बिना कोई शर्त जोड़े अतिक्रमणकारी भारतीय सीमा बलों को भारतीय सरजमीन में वापस बुला ले और ठोस कार्रवाइयों से मौजूदा प्रकरण हल करे।

नीतीश कुमार से अलग होकर नई पार्टी बनाएंगे शरद यादव, नये कलेवर में सामने आएगा महागठबंधन

वर्मा ने दावा किया कि शरद जी ने जोर देकर कहा है कि वे धर्मनिरपेक्ष शक्ति वाले महागठबंधन में बने रहेंगे।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव के बीच ”मतभेद” की अटकलों के बीच समाजवादी नेता और पूर्व विधान पार्षद विजय वर्मा ने शरद के महागठबंधन में बने रहने के लिए एक नई पार्टी बनाने के संकेत दिए हैं। शरद यादव के विश्वस्त माने जाने वाले और दो बार बिहार विधान परिषद सदस्य रहे विजय वर्मा ने शरद के महागठबंधन में बने रहने के लिए एक नई पार्टी बनाने के संकेत दिए हैं, पर जदयू के प्रधान महासचिव के सी त्यागी ने इसे अफवाह बताया है। जदयू के प्रदेश प्रवक्ता अजय आलोक ने शरद की ”नाराजगी” को आज खारिज कर दिया। वर्मा ने भाषा को मधेपुरा से फोन पर कहा कि शरद जी पुराने साथियों के संपर्क में हैं और राजनीतिक हालात पर विचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नए दल का गठन एक विकल्प है और उस पर संजीदगी से विचार किया जा रहा है। वर्मा ने दावा किया कि शरद जी ने जोर देकर कहा है कि वे धर्मनिरपेक्ष शक्ति वाले महागठबंधन में बने रहेंगे और इसी को जेहन रखते हुए वे कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और माकपा नेता सीताराम येचुरी से मिले थे।उन्होंने कहा कि शरद जी ने राजग सरकार में मंत्री के तौर पर शामिल होने से इंकार किया है। यह पूछे जाने पर कि अन्य किन किन लोगों से शरद यादव की बातचीत हुई है वर्मा ने नाम का खुलासा करने से इंकार करते हुए कहा कि उनका सोशल नेटवर्क बहुत बडा है।

Shah Rukh Khan can charm a microphone

Actor Anushka Sharma says Shah Rukh Khan’s genuineness made it easy for her to do on-screen romance with the superstar in their upcoming film, Jab Harry Met Sejal.

Anushka, who made her debut with Shah Rukh in Rab Ne Bana Di Jodi, has teamed up with the 51-year-old actor for the third time in the new film by Imtiaz Ali.

Asked how was it to romance Shah Rukh, Anushka told reporters, “Extremely easy. He has a lot of genuineness. If you see this song, his eyes have a lot of genuineness when he looks at you with love.”

“In my opinion, Shah Rukh can romance this mike also. He can look at the mike with the same kind of love he would look at the most beautiful woman in the world,” she said.

To this, SRK added in a lighter vein, “As long as you’re holding it I can romance it, otherwise no.”

They were speaking at the launch of Hawayein song from the movie, on Wednesday. The duo was accompanied by filmmaker Imtiaz Ali and music composer Pritam.

The 29-year-old actor has worked with directors like Yash Chopra and Aditya Chopra but said the best part about Imtiaz, with whom she has teamed up for the first time, was the “moments” he brought out between the two characters.

“His films are love stories but I don’t think the characters are aware that they are in love. There is some internal travel, soul searching which happens and then they realise it,” she said.

“That’s when they discover love… he has a very deep understanding of a man-woman relationship,” she added.

The film is scheduled to release on August 4. Hindustan Times

The blockbuster Hindi movie Jab Harry Met Sejal will be screening with English subtitles from August 4 at CEL circuit cinemas. It is imported by BMN Enterprises (who brought Baahubali 2) and distributed by Cinema Entertainments Pvt Ltd (CEL) The movie will be screening at Majestic Colombo, Regal Gampaha, Lido Borella (4.15 pm), City Cinema Mt Laviniya (4.15 pm), Savoy Premiere, Excel World, Liberty Lite Colpetty, Capitol Maradana, Plaza Kalutara, New Imperial Kurunegala and Ratnapura, Areena Katugastota, Chaya Kegalle, Vista Lite Ja-Ela, Sky Lite Matara, Queens Galle, Jothy Ratnapura, Willmax Anuradapura, Sinexpo Kurunagela, Nikado Kadawata, and TP Kaduwela

How To Know When You Are Ready To Get Married

 

It used to be when you’d hit certain financial and social milestones: when you had a home to your name, a set of qualifications on the mantelpiece and a few cows and a parcel of land in your possession.

But when, under the influence of Romantic ideology, this grew to seem altogether too mercenary and calculating, the focus shifted to emotions. It came to be thought important to feel the right way. That was the true sign of a good union. And the right feelings included the sense that the other was ‘the one’, that you understood one another perfectly and that you’d both never want to sleep with anyone else again.

These ideas, though touching, have proved to be an almost sure recipe for the eventual dissolution of marriages – and have caused havoc in the emotional lives of millions of otherwise sane and well-meaning couples.

We are ready for marriage…

1. When we give up on perfection 

We should not only admit in a general way that the person we are marrying is very far from perfect. We should also grasp the specifics of their imperfections: how they will be irritating, difficult, sometimes irrational, and often unable to sympathise or understand us. Vows should be rewritten to include the terse line: ‘I agree to marry this person even though they will, on a regular basis, drive me to distraction.’

However, these flaws should never be interpreted as merely capturing a local problem. No one else would be better. We are as bad. We are a flawed species. Whomever one got together with would be radically imperfect in a host of deeply serious ways. One must conclusively kill the idea that things would be ideal with any other creature in this galaxy. There can only ever be a ‘good enough’ marriage.

9 Things To Consider Before Leaving Your Relationship

The decision whether one should stay or leave is one of the most consequential and painful any of us ever has to make. On any given day, many millions of people worldwide will be secretly turning the issue over in their minds as they go about their daily lives, their partners beside them possibly having little clue as to the momentous decision weighing upon them.

The choice is perhaps more common now than it ever was. We expect to be deeply happy in love and therefore spend a good deal of time wondering whether our relationships are essentially normal in their sexual and psychological frustrations – or are beset by unusually pathological patterns which should impel us to get out as soon as we can. What films or novels we’ve been exposed to, the state of our friends’ relationships, the degree of noise surrounding new sexually-driven dating apps, not to mention how much sleep we’ve had, can all play humblingly large roles in influencing us one way or another.

Awkwardly, it seems that no one else actually really minds what we end up doing, which gives the decision a degree of existential loneliness it might not always have possessed. Historically, the choice was in a sense a good deal easier because there were simply so many stern external sanctions around not leaving. Religions would insist that God blessed unions and would be furious at their being torn asunder. Society strongly disapproved of break-ups and cast separating parties into decades of ignominy and shame. And psychologists would explain that children would be deeply and permanently scarred by any termination in their parents’ relationship.

But one by one, these objections to quitting have fallen away. Religions no longer terrify us into staying, society doesn’t care and psychologists routinely tell us that children would prefer a broken family to an unhappy one. The burden of choice therefore falls squarely upon us. The only thing determining whether to stay or leave is how we feel – which can be a hard matter indeed to work out for ourselves, our feelings having a dispiriting habit of shifting and evading any efforts at rational clarification.

My Friendships With Women Taught Me How Not To Be A “Good Girl”

My foundation of close friendships blossomed much later in life. More specifically, when I was 15.

During class introductions, one of my now-best friends said “My name is ___ and I am an aggressive person.” I had never heard “aggressive” in a positive light, let alone a girl describe herself as such with this much admiration. The class laughed. She had the reputation for being a comic and for being fierce. It’s an odd combination, really, to have the ability to frighten someone and also make them laugh. I was particularly intrigued by her because she owned her traits with the utmost pride. She wore rugged cargo shorts, a digital watch, and sandals to class; she was always loud and in no way did she fit the stereotype of how girls were supposed to be. But she inspired me to own my perceived imperfections and taught me to laugh at myself. She added excitement to her difference and was seen as much more than a sore thumb that stood out.

Growing up, I heard the phrase “lady-like” and “be a good girl,” a lot. Being a good girl meant complying with obedience, not sitting with my legs wide, hiding my period like it was the family’s will, not using cuss words, having neat braids, and smiling. To always, always smile. Being a girl came with an instruction manual; and the best ones, the “good girls,” checked everything off that list. One of my most precious friends embodied this completely. Her hair was always neat, her eyeliner was always on point, she even held an umbrella with grace. She is still very soft spoken, very patient, and one of the most organized people I know. But being the textbook definition of a woman is not only where her strengths lie and it’s most definitely not how she wants to be viewed in the society. Her strengths lie in the her powerful fidelity in friendships, in her ability to embrace change and challenge herself to grow.

…there’s an unbelievable level of support that’s derived from familiar misery.”

I think insecurities are like an unwanted sibling we’ve grown up with as women ― about our bodies (mostly), the rejection to our personalities, the casual and serious sexism in everyday language, the shunning of our beliefs, our puberty and the wrath of periods, the silly customs that come along with the periods, and blah, blah, blah.

You know what’s the worst thing about developing a culture of insecurities? It also stimulates an air of hate. If daadi claims that you’re too dark or tan to be viewed as beautiful, you not only begin to dislike a part of you but also dislike the same part in someone else. I know I have, on several occasions, over the silliest things. There goes the scope for one good friendship to be built! It’s a vicious cycle, and if we get sucked in and become accustomed to aspiring toward society’s definition of perfection, we may dangerously harbor hate and negativity for someone else. Yet funnily, there is no “one size fits all” definition to this said perfection. Magazines still continue to pit two beautiful women against each other under a ‘who wore better?’ poll. Nothing is ― or will ever be ― enough.

Strangely, insecurities also make for the the best jokes; and if you shared one of yours with someone else, you’d be surprised at what a hit you will be at that party. My old workplace had five of us who would compete on whose moustache hair grew the fastest. Objectively, ours are the most insignificant body hair that has ever existed, but it was the root of so much self shaming until they became the most popular joke at the lunch table. The women in my life are some of the funniest people I will ever know, because there is no joke funnier than the trauma of underboob sweat and the reality of leg stubble. Even if the world won’t stop adding to our list of insecurities and the threats to our safety, there’s an unbelievable level of support that’s derived from familiar misery. It’s like we’re spiders working at making webs of connection, shared sensibilities, laughter, validation and assurance. Lots of assurance.

The Social Psychology Behind Fashion

What are the most interesting ways signaling theory has shaped our contemporary culture? originally appeared on Quora – the knowledge sharing network where compelling questions are answered by people with unique insightsAnswer by Judith Donath, author of The Social Machine and former director of the Sociable Media Group, on Quora.

One quite interesting way that signaling has shaped the contemporary human world is the rise of fashion, in clothing, but also in many other areas, including slang, car styling, management theories, programming languages, painting styles, etc. Like many costly signals, fashion appears frivolous and wasteful: why do we feel a need to continually replace perfectly good things with something new and different?

My hypothesis is that fashion is a signal of one’s skill with information — of one’s access to it and one’s ability to distinguish good information from bad. To be at the forefront of new fashions you have to both be privy to knowing what is new and upcoming and also be able to distinguish which is going to be the next cool new thing from something that is merely odd and different. The cost in fashion is the risk of making a mistake, of adopting the wrong thing.

The rate of change in fashion, the acceleration of information, moves faster and faster. Around the time of the birth of fashion around the 15th century information moved very slowly. It could take a year for the information about what was being worn in the courts of Paris to reach a princess in Poland. Today fashion moves around the globe instantaneously and fashion changes faster and faster. On the negative side, fashion thus creates tremendous waste, understanding the motivation behind it is key to ameliorating this problem.

But fashion is also closely related to innovation adoption. We can think of them as orthogonal phenomena: a pure fashion has no practical utility and is adopted solely for signaling social position while the ideal innovation is all utility, adopted for its usefulness. Understanding their interplay helps us understand why new ideas do and do not spread.

6 Tips for Buying Prescription Glasses Online

In recent years, many people have been opting to buy their prescription eyeglasses on the internet. This is because the services of the companies that supply eyeglasses are really convenient, affordable and timely. More so, customers can choose from different styles, frames, coating, sizes, shapes, colors and brands. The fact is that all the eyewear sold on reputable websites are usually of high quality. After fitting new lenses in old frames or using replacement lenses for some time, you may decide to purchase a pair of brand new eyeglasses. Here are some tips for getting the best deals online.

1.   Request for an updated eyewear prescription

As a matter of fact, the validity of prescription eyeglasses is around a year for children and two years for adults. It is essential to get in touch with an optician as soon as your prescription expires for an up to date and accurate one. A prescription card will be issued to you once the eyesight examination is over. It normally contains information that include pupillary distance (PD). During the process of placing an order on the internet, endeavor to input the correct information.

2.   Know the numbers on your latest glasses

If you check the interior part of the arms of your eyeglasses frames carefully, some numbers are printed there. These numbers indicate the lens size, bridge and temple length of your eyeglasses. Having a fore knowledge of the three numbers assist in making the right decision. Perhaps this is the first time that you will be getting prescription eyeglasses, ask your optician to include these details on your prescription card.

3.   Check the return and refund policies

One important factor to consider before settling for any online store is the return and refund policies. Make sure that you read and understand all the policies so that it’s easier to exchange or return eyeglasses if they are not the best fit. A great number of trusted companies allow customers to return their eyeglasses within a specific period of time. In addition, make enquires about the shipping policy.

4.   Research extensively about different companies

Without mincing words, tons of eyeglasses suppliers exist on the internet and discovering the best can be a daunting task. You can ask from people who have purchased their prescription glasses online about how satisfied they are about the products. Another solution is to examine the customer reviews section. As you compare the quality of eyeglasses and prices of various websites, keep your needs in mind.

5.   Select a supplier that supports in-house try-ons

The majority of reputable companies often ship around 4-6 frames to their customers. This gives them the opportunity to try the frames on and choose the most suitable one.Later on, they are sent back and an order will be placed. In most cases, no extra charges will be incurred for this service. Other online stores usually encourage customers to upload pictures on their websites in order to determine the right frames for each face type and size.

6.   Take note of add-ons

Add-ons like eyeglasses coatings automatically attract a higher price. Ask yourself whether any of the coatings are necessary and go for the important ones. It’s advisable to check the final price of the eyeglasses and not rely on the advertised price alone. The truth is that the advertised price is a smart move to attract customers and making them to believe that the eyeglasses are actually very cheap.

Youthful male model with incredible body defies the ageing process…but how old is he?

A male model with perfectly chiselled abs and a perfect complexion seems to have found a way to halt the ageing process as he wows fans with his youthful looks.

Without a wrinkle in sight or any extra pounds around the waist, Chuando Tan, from Singapore, could easily pass for a man in his late 20s.

But in fact, Chuando is actually 50 years old.

The Asian model-turned photographer has gathered thousands of fans online, all stunned by his baby-faced snaps.

On Instagram, Chuando has a staggering 227,000 fans, many of whom are desperate to discover the secret to his boyish looks.

Chuabdo has incredible abs for his age (Image: chuando_chuandoandfrey/Instagram)
The model has gathered 227,000 followers on Instagram (Image: chuando_chuandoandfrey/Instagram)

THE SECRET TO LONG LIFE IS FINALLY REVEALED

While Chuando regularly works out, he also claims his bathing habits help him stay looking young.

He claims not bathing late at night or early in the morning help him retain the features of a man half his age.

Chuando also says his love of spicy Hainanese chicken helps too.

(Image: chuando_chuandoandfrey/Instagram)
Chuando reinvented himself as a photographer after years of working as a male model (Image: chuando_chuandoandfrey/Instagram)

Now working as a photographer, he dabbles in the occasional modelling work.

Newsreader swears while falling off chair live on air spilling her drink but just about keeps composure to continue

A newsreader who fell off her chair live on air and swore during a sports bulletin has been hailed as “true pro” for the way she recovered.

Channel Nine sports presenter Erin Molan was off camera when the accident happened while a news segment ran about the Tour de France .

A few moments silence followed before she said: “I’ve just fallen off my chair, no, I am good,” before heroically continuing her report.

When she returned to Australia’s television screens she had a damp patch on her top which hinted at what must have happened.

Channel Nine sports presenter Erin Molan was off camera when the accident happened

Before continuing the bulletin she explained: “I did just fall off my chair but I’m okay I promise.”

Her fall has only seemed to add to army of fans.

Two of her colleagues – Airlie Walsh and Jayne Azzopardi – have applauded her recovery.

Erin Molan very professionally carried on her report despite having a stain on her top

One viewer tweeted: “You’re a true pro! Stacked off the chair and clearly wore your drink but barely missed a beat in your report. Champion effort.”

On Instagram Erin later apologised “if any beautiful children heard my terrified reaction”.

She added: “So… tonight was different. I fell off my chair mid @9newssydney bulletin and in the shock of hitting the ground from 1.5m high I unfortunately used a word that isn’t appropriate.

“I didn’t want to get dressed”: Woman walks unashamedly naked through streets of Bolonga prompting debate

WARNING: NUDITY – The unidentified woman walked brimming with pride and confidence through the city centre of the tourist hotspot as onlookers took photos

A young woman shocked shoppers when she walked through a city centre tourist hotspot completely naked – simply because she claimed she “didn’t want to get dressed”.

The tattooed woman walked proudly through the streets of Bologna, the bustling capital of northern Italy’s Emilia-Romagna region, with a big smile on her face.

When one man asked the brunette whether she had lost her clothes or a bet, she replied: “I didn’t want to get dressed.”

The woman, whose name is not known, walked through the city centre without stopping as amazed onlookers took photos and videos of her on their phones.

She carried a white bag over her shoulder and appeared to be listening to music on her headphones.

The young woman wasn’t phased by people taking her photo (Image: CEN)

The young woman, who had a large tattoo on her chest and another on her right hip, turned and smiled to people staring at her as she continued her walk.

She was seen crossing a busy road in front of the city’s railway station, and in the popular area around Porta Mascarella, a gate in the city’s former medieval walls.

It is not clear whether the woman’s naked walk was a joke or a promotion of some kind – but videos and photographs of her have gone viral on social media.

She was naked except for her bag and shoes (Image: CEN)
The woman smiled as passersby took her photo and filmed her (Image: CEN)

But the ‘stunt’ divided opinions on social media.

Netizen ‘Claudia’ said: “Nice excuse, ‘I didn’t want to get dressed!’, what nonsense people do for a little bit of popularity!!”

Another wrote: “Better a beautiful naked woman than an ugly naked man on the street.”

Someone else posted: “Brave girl! And very beautiful.”

But one user, named Delia, said: “So this is how far we’ve come! And we criticise our ‘guests’… we’re worse than them because we don’t have any excuse.”

यूपी के आगरा में सिपाही को सड़क पर दो बाइक सवारों ने गोली मारी

आगरा: यूपी में समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान कानून व्यवस्था पर सवाल उठते रहे लेकिन अब यूपी में बीजेपी की सरकार है. इसके बावजूद अपराधियों के हौसले बुलंद हैं. यानी यूपी में क्राइम थमने का नाम नहीं ले रहा है. आगरा में एक सिपाही को बदमाशों ने सिर्फ इसलिए गोली मार दी क्योंकि उसने बाइक को रोकने के लिए हाथ दिया. बताया जा रहा है कि जैसे ही सिपाही ने बाइक से जा रहे दो युवकों को बाइक रोकने का इशारा किया उन्होंने गोली दाग दी.

बता दें कि जब से राज्य में बीजेपी की सरकार आई है और सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ बने है तब से यह दावा किया जा रहा है कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति  में सुधार हो रहा है. लेकिन राज्य में आए दिन अपराध को बेखौफ अंजाम दिया जा रहा है.

वहीं, उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बालोनी थाना क्षेत्र में शुक्रवार सुबह खेत में काम कर रही मां-बेटी की बदमाशों ने गोलीमार कर हत्या कर दी. पुलिस तीन नामजद सहित छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच कर रही है. पुलिस के मुताबिक, बालेनी थाना क्षेत्रांतर्गत ग्राम पूरा महादेव निवासी बबिता (45) अपनी मां कृष्णा (65) के साथ शुक्रवार सबुह करीब सवा सात बजे गांव के बाहर स्थित ट्यूबवेल पर चारा काट रही थी. तभी वहां अज्ञात बदमाशों ने हमला बोल दिया और दोनों की गोली मारकर हत्या कर दी.

जंगल का ‘राजा’ बनने की वैकेंसी, इतने ऑफिसरों की होगी भर्ती

नई दिल्ली: राजस्थान सरकार करीब 20 साल बाद रेंजर के 70 और पांच साल बाद असिस्टेंट कंजर्वेटर आफ फारेस्ट (एसीएफ) के 70 पदों पर भर्ती करने जा रही है. सरकार की ओर से तीन दिन पहले 26 जुलाई को ही प्रस्ताव बनाकर राजस्थान पब्लिक सर्विस कमिशन (आरपीएससी) को भेजा गया है. वन विभाग के इन दोनों सेवाओं में लंबे समय से काफी पद खाली चल रहे हैं, जिसके कारण राज्य में वन एवं वन्यजीवों की सुरक्षा दांव पर लगी हुई है. खास यह है कि वन एवं वन्यजीवों की सुरक्षा के लिहाज से रेंजर एवं एसीएफ को रीढ़ का हड्डी माना जाता है.

राजस्थान में रेंजर ग्रेड प्रथम के 200 पद खाली हैं. हालांकि 258 पद  स्वीकृत हैं. राज्य में फिलहाल 58 रेंजर ग्रेड प्रथम हैं. इनमें से भी आधे से अधिक को प्रमोट कर एसीएफ बनाने की तैयारी हैं.

ये भी पढ़ें: UPPCL में निकली 2600 से ज्यादा वैकेंसी

राजस्थान में एसीएफ के 156 पद खाली पड़े हैं. इनमें से 268 पद  स्वीकृत हुए हैं. फिलहाल 112 पद भरे हुए हैं. इनमें से भी आधे का जल्द उच्च पदों पर प्रमोशन होने की संभावना है.

बीसीसीआई ने विराट कोहली को दिया फरमान-नौकरी छोड़ो, वरना भुगतना होगा अंजाम

भारतीय कप्तान विराट कोहली को बीसीसीआई ने एक फरमान जारी किया है। एचटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक बोर्ड ने दुनिया में सबसे ज्यादा कमाई करने वाले खिलाड़ी विराट कोहली से अॉयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) में मैनेजर की नौकरी छोड़ने को कहा है। विराट ने कई स्थानीय टूर्नामेंट्स में ओएनजीसी का प्रतिनिधित्व किया है।  भारतीय टीम फिलहाल श्रीलंका में है और पहला टेस्ट मैच खेल रही है। भारतीय क्रिकेट में कॉन्फ्लिक्ट अॉफ इंट्रस्ट का मुद्दा बहुत पुराना है और सुनील गावस्कर, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ इसका शिकार बन चुके हैं। दिल्ली के खिलाड़ियों को ओएनजीसी में मानद पद दिए गए थे। गौतम गंभीर, वीरेंद्र सहवाग, इशांत शर्मा भी इसमें शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासक समिति (सीओए) ने बोर्ड को यह साफ कर दिया है कि कोई भी क्रिकेटर किसी भी सरकारी या सार्वजनिक कंपनी में किसी पद पर नहीं हो सकता। सीओए का कहना है कि वह कॉन्फ्लिक्ट अॉफ इंट्रस्ट से बचना चाहती है। बीसीसीआई ने भारतीय कप्तान के अलावा अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा और करीब 100 क्रिकेटर्स को सख्त चेतावनी दी है, जो अन्य सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में किसी पद पर शुमार हैं। बताया जा रहा है कि नई दिल्ली में होने वाली अगली एसजीएम में यही बैठक का सबसे विवादित मुद्दा होगा।

लालू यादव का दावा- शरद यादव ने फोन कर मुझे कहा- मैं आपके साथ हूं

जनता दल युनाइटेड (जदयू) के सीनियर नेता शरद यादव की चुप्पी सबको खटक रही है। नीतीश कुमार द्वारा गठबंधन को तोड़कर भाजपा के साथ मिल जाने के बाद शरद यादव ने मीडिया से कोई बात नहीं की है। ऐसे में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू यादव ने शरद के बारे में चौंकाने वाला बयान दिया। एनडीटीवी से बात करते हुए लालू यादव ने कहा कि नीतीश कुमार द्वारा विश्वास मत ( एनडीए 131-108 से जीत गई) हासिल करने के बाद शरद ने उनको फोन किया और कहा कि वह लालू के साथ हैं। पिछले कुछ वक्त से नीतीश कुमार विपक्ष की 18 पार्टियों से बातचीत नहीं कर रहे थे। ऐसे में जदयू की तरफ से शरद यह काम देख रहे थे। उन पार्टियों के साथ मीटिंग्स में शरद यादव लगातार कहते रहे कि जदयू की भी पहली लड़ाई बीजेपी और नरेंद्र मोदी से ही है।

बिहार का महागठबंधन (नीतीश और लालू की पार्टी के बीच) टूटने के बाद शरद यादव की चुप्पी के लोग अपने-अपने मायने लगा रहे हैं। शरद यादव पिछले कुछ महीनों से संसद में भी चुपचाप दिखे। मीटिंग और किसी कार्यक्रम में नेताओं और लोगों से मिलते वक्त वह ज्यादा बातचीत नहीं कर रहे। जिस जिन नीतीश कुमार एनडीए में वापस आए उस दिन शरद यादव एक कार्यक्रम में थे। लेकिन वह वहां ज्यादा देर रुके नहीं।

…तो कश्मीर में तिरंगा पकड़ने वाला कोई नहीं मिलेगा: महबूबा मुफ्ती

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार (28 जुलाई) को चेतावनी दी कि अगर जम्मू कश्मीर के लोगों को मिले विशेषाधिकारों में किसी तरह का बदलाव किया गया तो राज्य में तिरंगा को थामने वाला कोई नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि एक तरफ ””हम संविधान के दायरे में कश्मीर मुद्दे का समाधान करने की बात करते हैं और दूसरी तरफ हम इसपर हमला करते हैं।” महबूबा ने एक कार्यक्रम में कहा, ””कौन यह कर रहा है। क्यों वे ऐसा कर रहे हैं (अनुच्छेद 35 ए को चुनौती) मुझे आपको बताने दें कि मेरी पार्टी और अन्य पार्टियां जो तमाम जोखिमों के बावजूद जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज हाथों में रखती हैं, मुझे यह कहने में तनिक भी संदेह नहीं है कि अगर इसमें कोई बदलाव किया गया तो कोई भी इसे (राष्ट्रीय ध्वज) को थामने वाला नहीं होगा।”

उन्होंने कहा, ””मुझे साफ तौर पर कहने दें। यह सब करके (अनुच्छेद 35 ए) को चुनौती देकर, आप अलगाववादियों को निशाना नहीं बना रहे हैं। उनका (अलगाववादियों का) एजेंडा अलग है और यह बिल्कुल अलगाववादी है।” उन्होंने कहा, ”बल्कि, आप उन शक्तियों को कमजोर कर रहे हैं जो भारतीय हैं और भारत पर विश्वास करते हैं और चुनावों में हिस्सा लेते हैं और जो जम्मू कश्मीर में सम्मान के साथ जीने के लिये लड़ते हैं। यह समस्याओं में से एक है।””

वर्ष 2014 में एक एनजीओ ने रिट याचिका दायर करके अनुच्छेद 35 ए को निरस्त करने की मांग की थी। मामला उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित है। महबूबा ने कहा कि कश्मीर भारत की परिकल्पना है। उन्होंने कहा,””बुनियादी सवाल है कि भारत का विचार कश्मीर के विचार को कितना समायोजित करने को तैयार है। यह बुनियादी निचोड़ है।””

उन्होंने याद किया कि कैसे विभाजन के दौरान मुस्लिम बहुल राज्य होने के बावजूद कश्मीर ने दो राष्ट्रों के सिद्धांत और धर्म के आधार पर विभाजनकारी बंटवारे का उल्लंघन किया और भारत के साथ रहा। उन्होंने कहा, ”भारत के संविधान में जम्मू कश्मीर के लिये विशेष प्रावधान हैं। दुर्भाग्य से समय बीतने के साथ कहीं कुछ हुआ कि दोनों पक्षों ने बेईमानी शुरू कर दी।” उन्होंने केंद्र और राज्य की ओर इशारा करते हुए कहा कि दोनों पक्ष हो सकता है अधिक लालची हो गये हों और पिछले 70 वर्षों में राज्य को भुगतना पड़ा।

उन्होंने कहा, ”समस्या का निवारण करने की बजाय हमने सरकार को बर्खास्त करने या साजिश, राजद्रोह के आरोप लगाने जैसे प्रशासनिक कदम उठाए।” उन्होंने कहा, ”इन प्रशासनिक कदमों ने कश्मीर के विचार का समाधान करने में हमारी मदद नहीं की है।”

नीतीश, सुशील और तेजस्वी: ‘दाग’ सब पर हैं

बिहार में चल रही राजनीतिक उठा-पटक के बीच आरोप-प्रत्यारोपों की झड़ी लगी हुई है.

नीतीश के इस्तीफ़े के बाद आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने नीतीश कुमार पर हत्या के मामले में अभियुक्त होने का आरोप लगाया.

जेडीयू खेमे और भाजपा ने तेजस्वी यादव पर आर्थिक अनियमितताओं और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए.

पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर बिहार विधानसभा में लंबे समय तक नेता प्रतिपक्ष रहे और मौजूदा उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सबसे ज़्यादा मुखर दिखे.

आइए देखते हैं कि नीतीश कुमार, सुशील कुमार मोदी और तेजस्वी यादव के चुनावी हलफ़नामे खुद उन पर चल रहे मामलों के बारे में क्या कहते हैं.

बिहार: नीतीश कुमार ने जीता विश्वास मत

बिहार में किसके पास कितना समर्थन

नीतीश कुमारइमेज कॉपीरइटCEOBIHAR.NIC.IN

नीतीश कुमार

2012 के बिहार विधान परिषद चुनाव के लिए नीतीश ने जो हलफ़नामा दायर किया था, उसमें बाढ़ के पंडारक पुलिस थान में दर्ज एक मामले का ज़िक्र खुद उन्होंने किया है.

1991 के एक मर्डर केस के सिलसिले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 147, 148, 149 (बलवा), 302 (हत्या) और 307 (हत्या की कोशिश) के तहत मामला दर्ज है.

साल 2009 में बाढ़ की एक अदालत ने इस मामले में संज्ञान लेने का आदेश दिया था. निचली अदालत के इस आदेश के ख़िलाफ़ नीतीश कुमार ने पटना हाई कोर्ट में अपील दायर कर रखी है.

मामले पर सुनवाई करते हुए पटना हाई कोर्ट ने 8 सितंबर, 2009 के फैसले में बाढ़ कोर्ट में आगे की सुनवाई पर रोक लगा दी थी. मामला पटना हाई कोर्ट में अभी लंबित है.

 

सुशील कुमार मोदी

सुशील कुमार मोदी

नीतीश कैबिनेट में उपमुख्यमंत्री पद पर तेजस्वी यादव की जगह लेने वाले सुशील कुमार मोदी पर भी कुछ मामले दर्ज हैं.

साल 2012 के बिहार विधान परिषद चुनाव के लिए सुशील कुमार मोदी की तरफ से दायर किए गए हलफ़नामे में भी उन पर दर्ज मामलों का ज़िक्र है.

हलफ़नामे के मुताबिक भागलपुर ज़िले के नौगछिया कोर्ट में उन पर आईपीसी की 500, 501, 502 (मानहानि), 504 (शांति भंग) और 120B (आपराधिक साजिश) के तहत केस दर्ज है.

सुशील कुमार मोदी के ख़िलाफ़ ये मामला आरजेडी नेता डॉक्टर आरके राणा ने दर्ज कराया था. राणा को बाद में चारा घोटाले के एक मामले में दोषी करार दिया गया था.

1999 के इस मामले को ख़त्म कराने के लिए पटना हाई कोर्ट में दायर की गई अपील पर सुशील कुमार मोदी को स्टे ऑर्डर मिला हुआ है. मामाला पटना हाई कोर्ट में अभी भी लंबित है.

 

तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव 2015 में पहली बार विधायक बने.

चुनाव आयोग के समक्ष दायर किए गए उनके ही हलफ़नामे के मुताबिक उन पर पटना के कोतलावी थाने में आईपीसी की धारा 147, 149 (दंगा), 341 (गलत तरीके से किसी को रोकना), 323 (मार-पीट करने), 332 (सरकारी कर्मचारी की ड्यूटी में बाधा डालना), 431 (सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना), 504 (शांति भंग), 506 (धमकाने), 353 (सरकारी कर्मचारी की ड्यूटी में बलपूर्वक बाधा डालना) और 114 (अपराध के लिए उकसाना) के तहत मामले दर्ज हैं.

7 जुलाई को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने बताया कि आईआरसीटी के एक मामले में तेजस्वी यादव के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 120B (आपराधिक साजिश) और 420 (धोखाधड़ी और बेईमानी से प्रॉपर्टी हड़पना) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

लिंगायतों को हिन्दू धर्म से अलग कौन करना चाहता है?

कर्नाटक के सीमावर्ती ज़िले बीदर में पिछले हफ़्ते बड़ी तादाद में लोगों की भीड़ जुटी थी. बीदर एक तरफ़ महाराष्ट्र से लगा हुआ है तो दूसरी तरफ तेलंगाना से.

कहा जा रहा है कि इस जनसभा में 75,000 लोग आए थे और वे अपने समुदाय के लिए अलग धार्मिक पहचान की मांग लेकर आए थे.

लिंगायत समाज को कर्नाटक की अगड़ी जातियों में गिना जाता है. कर्नाटक की आबादी का 18 फीसदी लिंगायत हैं. पास के राज्यों जैसे महाराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में भी लिंगायतों की अच्छी ख़ासी आबादी है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भी लिंगायतों की मांग का खुलकर समर्थन किया है.

 

लिंगायतों की बीदर रैली

अलग धर्म की मान्यता

इतना ही नहीं सिद्धारमैया सरकार के पांच मंत्री अब इस मसले पर स्वामी जी (लिंगायतों का पुरोहित वर्ग) की सलाह लेने जा रहे हैं और इसके बाद वे मुख्यमंत्री को एक रिपोर्ट भी पेश करेंगे.

इसके पीछे विचार ये है कि लिंगायतों को अलग धर्म की मान्यता देने के लिए राज्य सरकार केंद्र सरकार को लिखेगी.

10 महीने बाद राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाला है. ये साफ़ है कि कांग्रेस मुख्यमंत्री पद के बीजेपी उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा के जनाधार को कमज़ोर करने के मक़सद ये सब कर रही है

लिंगायतों की बीदर रैली

जाति व्यवस्था के ख़िलाफ़

सवाल ये उठता है कि लिंगायत कौन होते हैं और ऐसी क्या बात है जो जिसकी वजह से इस समुदाय की राजनीतिक तौर पर इतनी अहमियत है.

  • बारहवीं सदी में समाज सुधारक बासवन्ना (उन्हें भगवान बासवेश्वरा भी कहा जाता है) ने हिंदू जाति व्यवस्था में दमन के ख़िलाफ़ आंदोलन छेड़ा. उन्होंने वेदों को ख़ारिज किया और वे मूर्तिपूजा के ख़िलाफ़ थे.
  • लिंगायत हिंदुओं के भगवान शिव की पूजा नहीं करते लेकिन अपने शरीर पर इष्टलिंग धारण करते हैं. ये अंडे के आकार की गेंदनुमा आकृति होती है जिसे वे धागे से अपने शरीर पर बांधते हैं. लिंगायत इस इष्टलिंग को आंतरिक चेतना का प्रतीक मानते हैं.
सिद्धारमैया, राहुल गांधीKIRAN/AFP/GETTY IMAGES
Image captionराज्य में येदियुरप्पा के जनाधार को तोड़ने के लिए कांग्रेस को एक मौका मिल गया है
  • आम मान्यता ये है कि वीरशैव और लिंगायत एक ही लोग होते हैं. लेकिन लिंगायत लोग ऐसा नहीं मानते. उनका मानना है कि वीरशैव लोगों का अस्तित्व समाज सुधारक बासवन्ना के उदय से भी पहले से था. वीरशैव भगवान शिव की पूजा करते हैं.
  • कुछ लोगों का कहना है कि लिंगायत भगवान शिव की पूजा नहीं करते लेकिन भीमन्ना खांद्रे जैसे लोग ज़ोर देकर कहते हैं, “ये कुछ ऐसा ही जैसे इंडिया भारत है और भारत इंडिया है. वीरशैव और लिंगायतों में कोई अंतर नहीं है.” भीमन्ना ऑल इंडिया वीरशैव महासभा के अध्यक्ष पद पर 10 साल से भी ज़्यादा अर्से तक रहे हैं.
डॉक्टर एमएम कलबुर्गी
Image captionडॉक्टर एमएम कलबुर्गी को 30 अगस्त, 2015 को उनके घर के बाहर गोली मार दी गई
  • इस विरोधाभास की वजहें भी हैं. बासवन्ना ने जो अपने प्रवचनों के सहारे जो समाजिक मूल्य दिए, अब वे बदल गए हैं. हिंदू धर्म की जिस जाति व्यवस्था का विरोध किया गया था, वो लिंगायत समाज में पैदा हो गया. मरहूम डॉक्टर एमएम कलबुर्गी लिंगायत थे और उन्होंने समाज में जाति व्यवस्था का विरोध करने के लिए पुरजोर अभियान चलाया था.
  • बासवन्ना का अनुयायी बनने के लिए जिन लोगों ने कन्वर्जन किया, वे बनजिगा लिंगायत कहे गए. वे पहले बनजिगा कहे जाते थे और ज़्यादातर कारोबार करते थे. लिंगायत समाज अंतरर्जातीय विवाहों को मान्यता नहीं देता, हालांकि बासवन्ना ने ठीक इसके उलट बात कही थी. लिंगायत समाज में स्वामी जी (पुरोहित वर्ग) की स्थिति वैसी ही हो गई जैसी बासवन्ना के समय ब्राह्मणों की थी.
येदियुरप्पाIMAGES
Image captionयेदियुरप्पा को बीजेपी ने आगामी विधानसभा चुनावों में मुख्यमंत्री पद के लिए अपना उम्मीदवार घोषित किया है
  • सामाजिक रूप से लिंगायत उत्तरी कर्नाटक की प्रभावशाली जातियों में गिनी जाती है. राज्य के दक्षिणी हिस्से में भी लिंगायत लोग रहते हैं. सत्तर के दशक तक लिंगायत दूसरी खेतीहर जाति वोक्कालिगा लोगों के साथ सत्ता में बंटवारा करते रहे थे. वोक्कालिगा दक्षिणी कर्नाटक की एक प्रभावशाली जाति है.
  • देवराज उर्स ने लिंगायत और वोक्कालिगा लोगों के राजनीतिक वर्चस्व को तोड़ दिया. अन्य पिछड़ी जातियों, अल्पसंख्यकों और दलितों को एक प्लेटफॉर्म पर लाकर देवराज उर्स 1972 में कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने.
इंदिरा गांधी, देवराज उर्स
Image captionइंदिरा गांधी के साथ देवराज उर्स
  • अस्सी के दशक की शुरुआत में लिंगायतों ने रामकृष्ण हेगड़े पर भरोसा जताया. जब लोगों को लगा कि जनता दल राज्य को स्थायी सरकार देने में नाकाम हो रही है तो लिंगायतों ने अपनी राजनीतिक वफादारी वीरेंद्र पाटिल की तरफ़ कर ली. पाटिल 1989 में कांग्रेस को सत्ता में लेकर आए. लेकिन वीरेंद्र पाटिल को राजीव गांधी ने एयरपोर्ट पर ही मुख्यमंत्री पद से हटा दिया और इसके बाद लिंगायतों ने कांग्रेस से मुंह मोड़ लिया. रामकृष्ण हेगड़े लिंगायतों के एक बार फिर से चेहते नेता बन गए.
  • हेगड़े से लिंगायतों का लगाव तब भी बना रहा जब वे जनता दल से अलग होकर जनता दल यूनाइटेड में आ गए. हेगड़े की वजह से ही लोकसभा चुनावों में लिंगायतों के वोट भारतीय जनता पार्टी को मिले और केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार बनी.
रामकृष्ण हेगड़े
Image captionरामकृष्ण हेगड़े वाजपेयी सरकार में मंत्री भी रहे थे
  • रामकृष्ण हेगड़े के निधन के बाद लिंगायतों ने बीएस येदियुरप्पा को अपना नेता चुना और 2008 में वे सत्ता में आए. जब येदियुरप्पा को कर्नाटक में मुख्यमंत्री पद से हटाया गया तो लिंगायतों ने 2013 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हार से अपना बदला लिया.
  • आगामी विधानसभा चुनावों में येदियुरप्पा को एक बार फिर से मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करने की यही वजह है कि लिंगायत समाज में उनका मजबूत जनाधार है. लेकिन लिंगायतों के लिए अलग धार्मिक पहचान की मांग उठने से राज्य में येदियुरप्पा के जनाधार को तोड़ने के लिए कांग्रेस को एक मौक़ा मिल गया है.

अजीत डोभाल के दौरे को क्यों अहमियत नहीं दे रहा है चीन?

ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक इस हफ्ते चीन में होने जा रही है.

इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भारत की नुमाइंदगी करने वाले हैं.

माना जा रहा है कि 27 और 28 जुलाई को होनी जा रही इस कॉन्फ्रेंस के दौरान डोभाल अपने चीनी समकक्ष से भी मिल सकते हैं.

27 जून को भूटान सीमा पर डोकलाम में चीन ने भारतीय सेना पर सड़क निर्माण में बाधा का आरोप लगाया था.

चीन ने दावा किया था कि सड़क निर्माण का काम उसके अपने इलाके में हो रहा था. भारत ने डोकलाम क्षेत्र में सड़क निर्माण के बहाने चीन के दखल का विरोध किया था.

इस बीच, चीन के सरकारी अख़बार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने डोभाल की प्रस्तावित चीन यात्रा पर संपादकीय लिखा है.

‘चीनी सेना को हिलाना पहाड़ हिलाने से भी कठिन’

भारत-चीन विवाद: अब तक क्या-क्या हुआ?

सिक्किम को भारत का हिस्सा नहीं बनाना चाहते थे चोग्याल

‘भ्रम छोड़े भारत’

संपादकीय में लिखा गया है, “भारत को अपना भ्रम छोड़ देना चाहिए. अजीत डोभाल की चीन यात्रा दोनों देशों के बीच जारी विवाद को भारत की मर्जी से हल करने के लिए सही मौका नहीं है. ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक नियमित तौर पर होनी वाले एक कॉन्फ्रेंस है जिसका मकसद ब्रिक्स समिट की तैयारी करना है. यह प्लेटफॉर्म चीन-भारत सीमा विवाद को सुलझाने के लिए नहीं है.”

यहां तक कि ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि मौजूदा सीमा-विवाद के पीछे ‘सबसे बड़ा दिमाग़’ डोभाल का ही है.

अख़बार का कहना है कि भारतीय मीडिया ये आस लगाए बैठा है कि डोभाल के दौरे से मौजूदा विवाद का हल निकल जाएगा.

चीन को समझने में भूल कर रहे हैं भारतीय?

चीन को चुनौती क्या सोची समझी रणनीति है?

नए सिल्क रूट पर दुनिया की चिंता

‘सौदेबाज़ी न करें तो बेहतर’

सीमा विवाद पर चीन के रुख को दोहराते हुए संपादकीय में कहा गया है, चीन इस बात पर अडिग है कि उसके इलाके से भारतीय सैनिकों को हटाने के बाद ही दोनों देशों के बीच कोई सार्थक बातचीत हो सकेगी.

अख़बार आगे कहता है, “सीमा विवाद पर डोभाल अगर सौदेबाज़ी की कोशिश करते हैं तो उन्हें निराशा हाथ लगेगी. इस मुद्दे पर चीन की सरकार के रुख को सभी चीनी लोगों का समर्थन हासिल है. चीन के लोग इस बात पर अडिग हैं कि हम अपनी ज़मीन का एक इंच भी नहीं छोड़ेंगे.”

‘इतनी भी बुरी हालत नहीं है भारतीय सेना की’

क्या अपने बुने जाल में ही फंस गया है चीन?

‘गर्व है भारतीय होने में’

ग्लोबल टाइम्स ने इस लेख में दोनों देशों की ‘आर्थिक हैसियत’ का भी हवाला दिया है.

अख़बार के मुताबिक, “चीन की जीडीपी भारत से पांच गुना और रक्षा बजट चार गुना है, लेकिन हमारी ताकत का केवल यही एक पैमाना नहीं है. इंसाफ़ चीन के साथ है. भारतीय सैनिकों की सीमा से बिना शर्त वापसी की चीन की मांग पूरी तरह से वाजिब है.”

’28 साल के लड़के से डर गए नीतीश कुमार’

बिहार में महागठबंधन के टूटने के बाद बहुत तेज़ी से राजनीतिक परिदृश्य बिल्कुल उलट गया.

बुधवार तक विपक्ष में बैठी बीजेपी ने नीतीश कुमार का हाथ थाम लिया और नीतीश कुमार बीजेपी के समर्थन के साथ जदयू और बीजेपी विधायकों को लेकर राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया.

पटना में राजभवन से बाहर आकर बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार को सुबह दस बजे शपथ ग्रहण के लिए राज्यपाल ने आमंत्रित किया है.

वहीं महागठबंधन में नीतीश के साथी रहे आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सरकार बनाने का न्योता नीतीश को देने और शपथ ग्रहण का समय सुबह दस बजे ही कर देने के विरोध में आरजेडी और कांग्रेस के विधायकों ने राजभवन तक मार्च किया.

 

ट्वीट

आरजेडी नेताओं के साथ राज्यपाल से मिलने के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार के राज्यपाल के पास संविधान बचाने का ऐतिहासिक मौका है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि पार्टी ने राज्यपाल से मिलकर नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण को लेकर समीक्षा करने की अपील की.

उन्होंने कहा कि बोम्मई केस में आए आदेश के मुताबिक सबसे बड़े राजनीतिक दल को सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए बुलाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार आख‍िर किस मुंह से बीजेपी के साथ सरकार बनाने जा रहे हैं. वे 28 साल के एक लड़के से डर गए हैं. उनमें हिम्मत है तो फिर से चुनाव का सामना करेंगे.

तेजस्वी यादव ने भाकपा माले, निर्दलीय, कांग्रेस और धर्मनिर्पेक्षता को मानने वाले जदयू के विधायकों के समर्थन का दावा किया.

तेजस्वी औऱ लालू

राष्ट्रीय जनता दल के पास बिहार में 80 विधायक हैं.

उन्होंने नीतीश कुमार महागठबंधन छोड़ने और बीजेपी के साथ जाने के लिए बहाना ढूंढ रहे थे.

तेजस्वी यादव और लालू प्रसाद यादव के परिवार के खिलाफ़ बेनामी संपत्ति को लेकर सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय ने शिकंजा कसा तब से बिहार में महागठबंधन में खलबली मची थी.

तेजस्वी यादव ने कहा कि उन पर एक साज़िश के तहत आरोप लगाए गए. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को धोखा दिया है.

आरजेडी नेता ने कहा कि बिहार की जनता नेता ने बीजेपी के खिलाफ़ जनादेश दिया था लेकिन नीतीश कुमार बिहार के साथ नाइंसाफ़ी करने वालों के साथ गले मिल रहे हैं.

Overseas direct investment falls to USD 1.1 billion in June 2017

Symbolic photo

Guarantees issue decline by 48.1%

Overseas direct investments from India declined by 11.4 per cent to USD 1.1 billion in June 2017. Outward FDI from India touched a nine-year low. This fall in outward FDI was on the back of a sharp 48.1 per cent decline in guarantees issued. On the other hand, equity held increased by 47.3 per cent to USD 568.3 million, while loans disbursed during the month rose by 10.6 per cent to USD 161 million.

References

https://www.rbi.org.in/scripts/BS_PressReleaseDisplay.aspx?prid=41154

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने उच्च न्यायालय से कहा – AAP सरकार के पास FIR दर्ज कराने का अधिकार नहीं

कंपनी ने कहा कि एसीबी के पास इस तरह के मामलों की जांच का अधिकार नहीं है.

नई दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने मंगलवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि उसके खिलाफ केजी 6 बेसिन की गैस के दाम बढ़ाने को कथित अनियमितता के लिए दर्ज कराई गई एफआईआर को रद्द कर दिया जाए, क्योंकि आप सरकार उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की पात्रता नहीं रखती.

कंपनी ने न्यायमूर्ति एके चावला को बताया कि दिल्ली सरकार की भ्रष्टाचार रोधक शाखा (एसीबी) द्वारा उसके खिलाफ 2014 में दर्ज कराई गई एफआईआर के खिलाफ अपील को मंजूर किया जाना चाहिये. कंपनी ने कहा कि एसीबी के पास इस तरह के मामलों की जांच का अधिकार नहीं है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने इस बारे में उच्च न्यायालय की खंडपीठ के 4 अगस्त, 2106 के फैसले का भी जिक्र किया. इसमें कहा गया है कि एसीबी के पास सिर्फ उपराज्यपाल के प्रशासनिक नियंत्रण में आने वाले विभिन्न विभागों में भ्रष्टाचार के मामलों की जांच का अधिकार है और उसके पास केंद्र सरकार के कर्मचारियों की जांच का अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि खंडपीठ का फैसला कंपनी के पक्ष में है और यहां तक कि उच्चतम न्यायालय ने भी दिल्ली उच्च न्यायालय के 4 अगस्त, 2016 के फैसले पर रोक नहीं लगाई है

दिल्ली सरकार के अतिरिक्त स्थायी अधिवक्ता गौतम नारायण ने अदालत को बताया कि 4 अगस्त, 2016 के फैसले को पहले ही उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी जा चुकी है. अदालत ने तमाम दलीलों पर गौर करते हुये मामले की अगली सुनवाई की तारीख 22 नवंबर तय की है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी पहले कार्यकाल में एसीबी को इस मामले में एफआईआर दर्ज करने को कहा था.

IBPS ने ग्रामीण बैंकों के 15332 पदों पर भर्ती के लिए जारी किया नोटिफिकेशन, जल्‍द करें आवेदन

आईबीपीएस के इन पदों पर भर्ती के लिए उम्‍मीदवारों का चयन ऑनलाइन परीक्षा और इंटरव्‍यू के आधार पर किया जाएगा.

इंस्‍टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सेलेक्‍शन (IBPS) ने ग्रामीण बैंकों में विभिन्‍न पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी कर आवेदन आमंत्रित किया है. इच्छुक और योग्य अभ्यर्थी 14 अगस्‍त, 2017 तक आवेदन कर सकते हैं. इंस्‍टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सेलेक्‍शन ने आईबीपीएस ऑफिसर स्केल I,II,III और ऑफिस असिस्टेंट पदों पर उम्मीदवारों की भर्ती के लिए आवेदन मंगाया है और इसमें 15332 उम्मीदवारों की नियुक्ति की जाएगी. इन पदों पर भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए आवेदक आईबीपीएस की ऑफिशियल नोटिफिकेशन देख सकते हैं.

पदों का विवरण :
आईबीपीएस की इस भर्ती में ऑफिस असिस्टेंट पद के लिए 8298 पद, ऑफिसर स्केल-1 पद के लिए 51118 पद, ऑफिसर स्केल-2 के लिए 1747 पद और ऑफिसर स्केल-3 के लिए 169 पद आरक्षित किए गए हैं.

शैक्षणिक योग्यता :
आईबीपीएस के इन पदों पर भर्ती के लिए अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग योग्यताएं तय की गई हैं. पदों से संबंधित योग्‍यताओं की अधिक जानकारी के लिए आईबीपीएस द्वारा जारी ऑफिशियल नोटिफिकेशन देख सकते हैं.

आयु सीमा :
इन पदों पर भर्ती के लिए आवेदक की उम्र अलग-अलग निर्धारित की गई है. ऑफिस असिस्टेंट के लिए 18 से 28, ऑफिसर्स स्केल-1 के लिए 18 से 30 साल, स्केल-2 के लिए 21 से 32 साल और स्केल-3 के लिए 21 से 40 साल तक के उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं. इसमें एससी-एसटी पद के लिए 5 साल, ओबीसी पद के लिए 3 साल और दिव्यांग उम्मीदवार के लिए उम्र सीमा में छूट दी जाएगी.

पे-स्‍केल :
ऑफिस असिस्टेंट पद के लिए 7200-19300 रुपये, ऑफिसर स्केल-1 पद के लिए 14500- 25700 रुपये, ऑफिसर स्केल-2 के लिए 19400- 28100 रुपये और ऑफिसर स्केल-3 के लिए 25700- 25700 रुपये पे-स्केल तय की गई है.

आवेदन शुल्‍क :
सेलेक्‍शन ने प्रोबेशनरी ऑफसर और मैनेजमेंट ट्रेनी पदों पर भर्ती करने के इच्‍छुक आवेदक को 600 रुपये ऑनलाइन माध्‍यम से जमा करना होगा. वहीं एससी/एसटी/पीडब्‍ल्‍यूडी वर्ग के आवेदकों को 100 रुपये शुल्‍क जमा करना होगा. यह फीस डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग आदि के माध्यम से जमा की जा सकती है.

चयन प्रक्रिया :
आईबीपीएस के इन पदों पर भर्ती के लिए उम्‍मीदवारों का चयन ऑनलाइन परीक्षा और इंटरव्‍यू के आधार पर किया जाएगा. ऑनलाइन परीक्षा दो प्रारंभिक और मुख्‍य चरणों (प्री और मेंस परीक्षा) में होगी.

ऐसे करें आवेदन :
आईबीपीएस के इन पदों पर भर्ती के लिए इच्‍छुक और योग्‍य उम्मीदवार 14 अगस्‍त, 2017 तक आईबीपीएस की ऑफिशियल वेबसाइट (http://www.ibps.in) पर जाकर दिए गए निर्देशों के अनुसार ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. आवेदन करने के लिए आईबीपीएस की ऑफिशियल वेबसाइट पर CLICK HERE TO APPLY ONLINE FOR CRP-RRBs-OFFICERS (Scale-I, II and III)” या “CLICK HERE TO APPLY ONLINE FOR CRP-RRBs-OFFICE ASSISTANT (Multipurpose) लिंक पर क्‍लिक कर आवेदन कर सकते हैं. ऑनलाइन आवेदन के बाद आवेदक आगे की चयन प्रक्रिया के लिए फॉर्म का प्रिंटआउट निकाल कर रख लें.

मायावती की राह रोकने के लिए केशव प्रसाद मौर्य मोदी सरकार में बन सकते हैं मंत्री!

नई दिल्‍ली: उत्‍तर प्रदेश के सियासी हलकों में इस बात की चर्चाएं तेज हो रही हैं कि उपमुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य केंद्र की सत्‍ता में जा सकते हैं. दरअसल सूत्रों के मुताबिक इसके पीछे मुख्‍य रूप से सियासी वजहों को जिम्‍मेदार माना जा रहा है. दरअसल मायावती के राज्‍यसभा इस्‍तीफे के बाद इन अटकलों का बाजार गर्म हो गया है. उपमुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को अपने पद पर बने रहने के लिए विधानसभा या विधान परिषद का सदस्‍य बनना जरूरी है. फिलहाल वह फूलपुर से सांसद हैं. यदि वह विधानभवन में पहुंचते हैं तो उनको अपनी संसदीय सीट छोड़नी पड़ सकती है.

सूत्रों के मुताबिक मायावती फूलपुर उपचुनाव में उतर सकती हैं. मायावती ने हालांकि इस तरह का कोई ऐलान तो नहीं किया है लेकिन यह सीट बीएसपी के लिए मुफीद मानी जा रही है क्‍योंकि 1996 में यहां से पार्टी के संस्‍थापक कांशीराम चुनाव लड़ चुके हैं. उस दौरान सपा के जंग बहादुर पटेल ने उनको हरा जरूर दिया था लेकिन इस सीट पर अन्‍य पिछड़े वर्ग, अल्‍सपसंख्‍यक और दलित तबके की बड़ी आबादी है. यह भी सुगबुगाहट है कि मायावती के चुनाव लड़ने की स्थिति में सपा और कांग्रेस जैसे विपक्षी दल एकजुटता दिखाते हुए उनकी उम्‍मीदवारी का समर्थन कर सकते हैं. इस सूरतेहाल में सपा, कांग्रेस और बसपा के गठजोड़ वाले संयुक्‍त वोट से बीजेपी के प्रत्‍याशी को मुकाबला करना होगा.

महागठबंधन का टेस्‍ट
2019 के लोकसभा चुनावों की पृष्‍ठभूमि में इस विपक्षी गठजोड़ को सियासी टेस्‍ट के रूप में भी देखा जा रहा है. इस लिहाज से बीजेपी सतर्क हो गई है और वह किसी भी सूरत में विपक्षी महागठबंधन को फिलहाल कोई मौका देने के मूड में नहीं है. इस‍ लिहाज से सूत्रों के मुताबिक बीजेपी के रणनीतिकार मान रहे हैं कि केशव प्रसाद मौर्य की सीट फिलहाल उनके पास ही बरकरार बनी रहनी चाहिए.

मंत्रिमंडल विस्‍तार की संभावना
सूत्रों के मुताबिक इस बात की भी संभावना है कि 15 अगस्‍त के बाद पीएम नरेंद्र मोदी अपने मंत्रिमंडल का विस्‍तार कर सकते हैं. लिहाजा केशव प्रसाद मौर्य को केंद्र में मंत्री बनाया जा सकता है. हालांकि इस दशा में यूपी में प्रचंड बहुमत से सत्‍ता में आई बीजेपी को सीएम योगी के मंत्रिमंडल में जातीय समीकरण साधने के लिए किसी अन्‍य ओबीसी चेहरे को केशव प्रसाद मौर्य की जगह लाना होगा.

बांग्लादेश में सड़क पर कत्ल के इस वीडियो को कश्मीर का बता कर रहे हैं वायरल

तस्वीर वायरल वीडियो का स्क्रीनशॉट है।

सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक वीडियो वायरल हो रहा है।  इससे पहले भी ये वीडियो दो बार वायरल हो चुका है। सबसे हैरान करने वाली बात ये है कि हर बार इस वीडियो के बारे में अलग-अलग बातें लिख कर शेयर की गईं। एक बार इस वीडियो पर लिखा गया कि बिहार के नवादा में मुसलमानों ने एक हिंदू को उतारा मौत के घाट। दूसरी बार इस वीडियो के बारे में लिखा गया कि पश्चिम बंगाल में मुसलमानों द्वारा एक हिंदू शख्स का कत्ल। तीसरी बार भी इसी वीडियो को वायरल किया गया और इसके बारे में लिखा गया कि कश्मीरी छात्रों द्वारा सीआरपीएफ जवान का कत्ल। आपको बता दें कि जिस वीडियो को भारत का बता कर बार-बार वायरल किया जा रहा है ये वीडियो भारत का है ही नहीं। दरअसल सोशल मीडिया पर इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा गया – ‘अभी अभी मरे एक मित्र ने वीडियो सेंड की है जो श्रीनगर में पड़ता है। ये आज की वीडियो है ।कृपया इसे किसी न्यूज़ चैनल तक पहुंचआ दे। कश्मीरी स्टूडेंट CRPF जवान को मार रहे है। दोस्तों ईनसानीयत के नाते आपसे हाथ जोड़कर विनती है की यह विड़ीयो ज्यादा से ज्यादा गृपो में भेजना है। कल शाम तक हर एक नयुज चैनल पे आना चाहीऐ।’

श‍िवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का नरेंद्र मोदी पर हमला- झूठे वादों से चुनाव जीते जा सकते हैं, जंग नहीं

ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र सामना को दिए इंटरव्यू में कहा, “पाकिस्तान और चीन की ओर से मिलने वाली धमकियों में हाल के दिनों में वृद्धि हुई है और हमारे पास उनसे लड़ने के लिए पर्याप्त गोला-बारूद नहीं है।”

एनडीए में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने केंद्र की मोदी सरकार पर एक बार फिर से निशाना साधा है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कहा कि चीन को उकसाने से पहले देश को अपनी रक्षा तैयारियों को ध्यान में रखना चाहिए। सहयोगी बीजेपी पर निशाना साधते हुए ठाकरे ने कहा कि चुनाव तो झूठे वादों की दम पर जीते जा सकते हैं, लेकिन जंग खुद की प्रशंसा करके नहीं जीती जा सकती। ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र सामना को दिए इंटरव्यू में कहा, “पाकिस्तान और चीन की ओर से मिलने वाली धमकियों में हाल के दिनों में वृद्धि हुई है और हमारे पास उनसे लड़ने के लिए पर्याप्त गोला-बारूद नहीं है।” उद्धव ने बीजेपी से सवाल पूछते हुए कहा कि तीन साल में इस ताकतवर सरकार ने क्या किया?

भारत की ओर से चीन को यह बताने पर कि अब वह 1962 वाला भारत नहीं है, पर निशाना साधते हुए ठाकरे ने कहा कि जब हम चीन को बताते हैं कि आज का भारत, 1962 के भारत से अलग है, तो हमें अपना मुंह खोलने से पहले अपने पास मौजूद गोला-बारूद को याद रखना चाहिए। केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी सरकार की सहयोगी शिवसेना ने कहा, “कोई भी झूठे वादों और आत्म-प्रशंसा पर चुनाव जीत सकता है लेकिन युद्ध नहीं।” साथ ही ठाकरे ने कहा कि सरकार लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के अपने वादे में असमर्थ साबित हुई है। उन्होंने कहा कि नोटबंद के बाद के 4 महीनों में 15 से 16 लाख लोगों ने अपनी नौकरी गंवाई और भविष्य में स्थितियां और खराब होने वाली है।

No end to VIP culture in UP: Yogi govt. wants special toll lane for MPs, MLAs

VIP culture in Uttar Pradesh doesn’t seem to end. Yogi government writes letter to DMs to create special lane for MPs, MLAs during traffic jams.New Delhi: Narendra Modi’s government had decided to do away with VIP culture across the country from May 1, a move that was widely appreciated and followed across all states in the country. But here comes a move by Yogi Government that indicates that the VIP culture hasn’t ended in totally in the state of Uttar Pradesh

A letter from the UP government has been sent to all DMs who have asked to ensure that toll plazas under their jurisdiction will provide a separate lane to MPs and MLAs in the event of traffic jams

It also states that no road toll would be charged from any MLA or MLC of the UP assembly, or MPs from the state directed by the Centre. (Read the letter below in Hindi)

12

Notoriety by MLAs and MLCs at toll plazas have often been witnessed and paying the brunt for it are toll collectors who are usually abused or beaten up for seeking toll.

As decided by the Centre, only vehicles on emergency and disaster management duties are exempt from the beacon ban and will be allowed to use multi-coloured (red, blue and white) flashers, while ambulances will be allowed to use purple beacons.

According to the Centre’s directive, fire fighters, police, paramilitary forces or defence forces on law and order duty, and those on duty related to management of natural disasters can use the multi-coloured flashers.

Vehicles plying within airports, ports, mines and project sites can use amber beacons for operational purposes on the condition they don’t leave the premises on to public roads.

17-yr-old junior kabaddi player raped by man posing as stadium official

A 17-year-old national level junior kabaddi player has alleged that she was raped by a man in his thirties in northwest Delhi’s Model Town area on Saturday.

The teenager told police in her statement that on July 9 she was outside a stadium when the man, who runs a wrestling training centre, befriended her posing as a stadium official. She alleged that the man took her to a flat in Rohini on the pretext of introducing her to a few of his friends and then raped her.

The girl alleged that he served her drinks laced with sedatives after which she fell unconscious and realised later that she was sexually abused.

The girl approached police on Monday morning and said that she was traumatised because of which she could not approach police earlier. She alleged the man dropped her on a road outside the stadium and threatened to kill her if she reported the matter.

Police took the girl to a hospital for medical examination, which confirmed rape. Police are yet to make any arrests. Following her complaint, police have registered a case of rape and other sections of POCSO (Protection of children from sexual offences act) and have also detained the man.

“He was identified and has been detained. He is being questioned and will soon be put under arrest,” a police officer said.

According to the Delhi Police crime statistics, a rape case is reported every four hours in the city. In 2016, 2,155 cases of rape were reported. This year the number has already touched 930. The Delhi Police have released a tender inviting experts to conduct a sociological and psychological study on the causes of rape in Delhi.

‘8 murders and notes promising revolution’: Delhi gang claims to be vigilantes

“Long live the revolution”

“We want to correct injustices. We are against crimes in society. We want peace against oppression. If war is the solution then so be it.”

This is the note left by a group whose members claim to be “the saviours of society” and promise to make it crime free. The note was found at a spot where a 32-year- old businessman, identified as Vikas, was gunned down on Monday night in Dwarka’s sector 22.

According to reports, the string of events that led to Vikas’ murder began on July 14 when a 23-year-old youth named Hemant Kumar was shot at by the gang. Hemant allegedly was in a relationship with the sister of one of the gang members and they did not approve of it. It is suspected that Vikas was targeted because he supported the couple.

In the note left after Vikas’ murder, the group claimed that Hemant had been taught a lesson for molesting a girl and said they will not spare rapists.

The group have been allegedly involved in seven to eight murder cases and the car they use for committing crimes is also said to be a stolen one.

The group struck again on Tuesday afternoon. They are suspected to have murdered a 21-year-old man, Pradeep, who had brushed his bike against their car in Kanjhawala, a day after the Dwarka incident.

Pradeep was on his bike with his brother Pawan when it accidentally brushed against a Verna car. After an argument the men in the car allegedly whipped out a pistol and shot Pradeep dead. Pawan, his brother later identified the accused, who is also a suspect in the Dwarka murder case.

The group claim to be fighting against corrupt doctors, molesters,rapists, gamblers, anti-nationals and those with black money. The note signs off with “Jai Hind, Jai Bharat”, however, the police suspect that this may be a way of misleading the investigators.

Dismissing the gang’s claims of wiping out ‘criminals’, the police said the two murders were a result of gang rivalry that took place in Gurgaon, Jhajjar and Chhawla in May. They claimed the killers may have been hired to eliminate rivals.

The one-page note also mentions the names of the group members. The group members claim that the idea behind the killings was to “bring peace to the nation” and that they would gun down all offenders across Delhi using “high tech weapons”.

दान में मिले हाथों से बेसबॉल खेलने वाला लड़का

एक अमरीकी लड़का दुनिया का पहला बच्चा बन गया है जिसके दोनों हाथ प्रत्यारोपित किए गए हैं.

प्रत्यारोपण करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि अब वह बच्चा बेसबॉल बैट आसानी से घूमा रहा है. 10 बरस के ज़ायन हार्वे को नए हाथ मिले हैं और उसके हौंसले को नई उड़ान.

हाथ प्रत्यारोपित करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि यह विस्मित करने वाला है.

ज़ायन अब लिख सकता है, खा सकता है, ख़ुद से कपड़े बदल सकता है और बैट भी पकड़ सकता है. ज़ायन को हाथ एक डोनर से मिला है.

मेडिकल जांच से साबित हुआ है कि ज़ायन के मस्तिष्क ने उस हाथ को अपने हाथ की तरह स्वीकार किया है.

‘जिनसे खून का रिश्ता, वही कर सकता है अंगदान’

चीन में बंद होगा क़ैदियों से अंगदान कराना

ज़ायनइमेज कॉपीरइटCHILDREN’S HOSPITAL OF PHILADELPHIA

अभूतपूर्व कामयाबी

फिलाडेल्फिया के चिल्ड्रन हॉस्पिटल में ज़ायन का इलाज चला था. डॉक्टर सांद्रा अमराल ज़ायन का इलाज करने वाले डॉक्टरों की टीम में शामिल थे.

उन्होंने बीबीसी से कहा कि ज़ायन की स्थिति में लगातार तेज़ी से सुधार हो रहा है.

उन्होंने कहा, “वह अब बैट घुमा सकता है और अपना नाम भी लिख पा रहा है. उसकी अनुभूति में लगातार सुधार हो रहा है और यह हमारे लिए विस्मित करने वाला है. अब वह अपने मां के गाल पर हाथ से थपकी दे सकता है.”

डॉक्टर अमराल ने कहा, “यह सबूत है कि उसके मस्तिष्क ने नए हाथों को स्वीकार कर लिया है.”

डॉक्टरों की टीम ने इस अभूतपूर्व कामयाब कहानी का ‘मेडिकल नोट्स द लैन्सेंट चाइल्ड एंड एडोलसेंट हेल्थ जर्नल’ में छापा है.

अंगदानः पादरी ने दे दिया अजनबी को अपना गुर्दा

दान में मिले दिल के सहारे पूरे किए 25 साल

ज़ायनइमेज कॉपीरइटCHILDREN’S HOSPITAL OF PHILADELPHIA

ज़ायन का नया हाथ

ज़ायन का जन्म दोनों हाथों के साथ हुआ था, लेकिन जब वह दो साल का था तो दोनों हाथ काटने पड़े थे.

ज़ायन के ही शब्दों में, “जब मैं दो साल का था तो दोनों हाथ काटने पड़े थे क्योंकि मैं बीमार था.”

ज़ायन को जानलेवा इन्फ़ेक्शन हो गया था. डॉक्टरों को ज़ायन के दोनों हाथ काटने पड़े थे. ज़ायन की किडनी ने भी काम करना बंद कर दिया था.

दो साल डायलिसिस पर रहने के बाद चार साल की उम्र में ज़ायन की किडनी का प्रत्यारोपण हुआ. किडनी ज़ायन की मां से ली गई थी. इसके चार साल बाद ज़ायन को नया हाथ मिला.

…तो फिर बेरोज़गार हो जाएंगे किडनी चोर

अब तो लैब में ही बन गई किडनी

ज़ायनइमेज कॉपीरइटCHILDREN’S HOSPITAL OF PHILADELPHIA

जोखिम

ज़ायन के हाथ की सर्जरी जून 2015 में की गई थी. यह अपने आप में एक बड़ा जोखिम था. हालांकि दोनों हाथों का प्रत्यारोपण की ये पहली घटना नहीं थी.

इससे पहले 1998 में भी हुआ था. यह सबसे कम उम्र में किया गया प्रत्यारोपण है. डॉक्टरों का कहना है ज़ायन उनके लिए मिसाल की तरह है.

जिनमें नए अंगों का प्रत्यारोपण किया जाता है उन्हें जीवन भर एंटी-रिजेक्शन दवाई खानी पड़ती है और इन दवाइयों का बुरा साइड इफेक्ट होता है.

इसका मतलब यह हुआ कि सर्जरी पर जोखिम का साया हमेशा बना रहता है. ज़ायन किडनी के लिए दवाई पहले से ही खा रहा है.

18 महीने बाद इसका मूल्यांकन किया जाएगा. हालांकि ज़ायन के मामले में मेडिकल टीम आश्वस्त है कि उसे इसका फ़ायदा होगा.

हमारी जेलें आपकी जेलों की तरह अच्‍छी हैं, विजय माल्‍या यहां ठीक रहेंगे : भारत ने ब्रिटेन से कहा

नई दिल्‍ली: भारत सरकार ने ब्रिटेन सरकार को यह यक़ीन दिला दिया है कि अगर शराब व्यापारी विजय माल्या को वो वापस भारत भेज देते हैं तो उसे भारत की जेल में ठीक से रखा जाएगा और भारत की जेलों में सुविधा यूरोप की जेलों से कम नहीं हैं.

भारत ने ये पक्ष केन्द्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि के द्वारा ब्रिटेन में उनकी काउंटर पार्ट पैटसी विल्किनसन, जोकि ब्रिटेन के होम डिपार्टमेंट की परमानेंट सचिव हैं, को बताया. गृह सचिव पिछले हफ़्ते लंदन के दौरे में थे.

भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने ब्रिटेन को ये साफ़ तौर पर कहा कि अगर विजय माल्या का प्रत्‍यर्पण किया जाता है तो न सिर्फ़ उसे उचित जेल में रखा जाएगा, बल्कि मेडिकल सुविधाएं भी दी जाएंगी.

एक सीनियर अफ़सर ने एनडीटीवी इंडिया से कहा, “ब्रिटेन को बताया गया कि भारत की जेलों के सेल यूरोप की जेलों के सेल से बड़े हैं”.

यह भी पढ़ें… 
विजय माल्‍या मामला : पीएम मोदी ने भगोड़े आर्थिक अपराधियों के मामले में ब्रिटेन से मांगी मदद
विजय माल्या, अन्य के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने दायर की चार्जशीट, बढ़ेंगी मुश्किलें
विजय माल्या ने भारतीय अधिकारियों पर कसा तंज, कहा- ‘आप अरबों पाउंड के सपने देखते रहें’

हालांकि ये भी साफ़ कर दिया गया कि माल्या को कोई ख़ास ट्रीटमेंट नहीं दिया जाएगा. प्रतिनिधिमंडल ने ब्रिटिश अधिकारियों से भारत के इस रुख से लंदन स्थित अदालत को भी अवगत करा देने को कहा है।

अधिकारी का कहना है कि “हर जेल में अस्पताल भी है, इसीलिए उन्हें ये भी बताया गया कि जैसा फ़िल्मों में जेल की हालत के बारे में दिखाया जाता है, भारत में वैसा नहीं है”.

ये इसीलिए अहम है, क्‍योंकि विजय माल्या ने भारत की खस्ता जेलों का हवाला देकर ब्रिटेन की कोर्ट से प्रत्यर्पण नहीं करने की गुहार लगाई है.

इस संबंध में केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने 23 जून को महाराष्ट्र के गृह सचिव सुमित मुलिक को एक पत्र लिखकर राज्य में जेलों की स्थिति का जायजा लिया था.  सूत्रों की मानें तो विजय माल्या को भारत लाए जाने के बाद मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में रखा जा सकता है.

गौरतलब है कि माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस को लोने देने वाले देश के 17 बैंकों ने जब उन्हें देश से बाहर जाने से रोकने की अपील के साथ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया तो माल्या मार्च 2016 में इंग्लैंड भाग गए थे. इन बैंकों का माल्या पर 9,000 करोड़ रुपये बकाया है. भारत में बैंकों से 9,000 करोड़ रुपये के कर्ज की अदायगी नहीं करने के आरोप में माल्या को भारतीय अदालत से भगोड़ा घोषित किया जा चुका है. वह भारत से मार्च 2016 में चोरी छुपे भागकर ब्रिटेन में जा छुपा है.

तो क्या शिक्षा पर ख़र्च ही सबसे बड़ी फ़िज़ूलख़र्ची?

उत्तर प्रदेश सरकार ने मौजूदा बजट में किसानों की कर्ज़माफ़ी के लिए 36 हज़ार करोड़ रुपये का प्रावधान किया और बताया कि इस धनराशि का इंतज़ाम सरकारी ख़र्चों में कटौती और अपव्यय को कम करके किया जाएगा.

वहीं शिक्षा के मद में पिछले बजट की तुलना में नब्बे फ़ीसद तक कटौती करके ये सवाल भी खड़ा कर दिया है कि क्या शिक्षा पर ख़र्च करना ही सबसे बड़ी फ़िज़ूलख़र्ची है?

योगी सरकार ने 2017-18 के बजट में माध्यमिक शिक्षा के लिए 576 करोड़ रुपये और उच्च शिक्षा के लिए 272 करोड़ रुपये निर्धारित किए हैं जबकि प्राथमिक शिक्षा के लिए क़रीब 22 हज़ार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

नज़रिया: योगी को ताजमहल से नफ़रत क्यों?

पिछले साल यानी वित्त वर्ष 2016-17 के बजट को देखा जाए तो उसमें माध्यमिक शिक्षा के लिए साढ़े नौ हज़ार करोड़ रुपये और उच्च शिक्षा के लिए 2742 करोड़ रुपये निर्धारित किए गए थे.

यानी दोनों ही क्षेत्रों के लिए बजट में नब्बे फ़ीसद तक की कमी कर दी गई है. ये अलग बात है कि प्राथमिक शिक्षा के लिए पिछले साल की तुलना में बजट में 5,867 करोड़ रुपये की बढ़ोत्तरी की गई है.

नहीं मानते कि बजट में कटौती हुई

उत्तर प्रदेश विधानसभाइमेज कॉपीरइटSAMEERATMAJ MISHRA

हालांकि यदि कुल बजट की बात की जाए तो ये पिछले साल के मुक़ाबले दस फ़ीसद ज़्यादा है लेकिन शिक्षा के मद में इतनी बड़ी कटौती क्यों है, ये समझ से परे है.

राज्य के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा शिक्षा मंत्री भी हैं और उनके पास उच्च, माध्यमिक और प्राथमिक तीनों ही विभाग हैं. डॉक्टर दिनेश शर्मा ये नहीं मानते कि बजट में कटौती की गई है.

बीबीसी से ख़ास बातचीत में वो कहते हैं, “कोई कटौती नहीं की गई है, सिर्फ़ अपव्यय को रोका गया है. अभी तक बजट का एक बड़ा हिस्सा इंफ्रास्ट्रक्चर और दूसरी ऐसी जगहों पर ख़र्च होता था जिनकी ज़रूरत नहीं थी, लेकिन अब शिक्षा की गुणवत्ता और शिक्षकों पर ख़र्च होगा. बड़ी बड़ी इमारतें बना देने से क्या होगा यदि वहां शिक्षक ही नहीं होंगे?”

शिक्षा को निजी हाथों में देने की मंशा

जानकारों का कहना है कि शिक्षा के लिए जितने रुपये इस बजट में निर्धारित किए गए हैं, उतने से तो शायद अध्यापकों के वेतन भी पूरे नहीं होंगे.

लखनऊ विश्वविद्यालय की पूर्व कुलपति और शिक्षाविद प्रोफ़ेसर रूपरेखा वर्मा सीधे तौर पर कहती हैं कि इसके ज़रिए सरकार माध्यमिक और उच्च शिक्षा को निजी हाथों में पूरी तरह सौंप देना चाहती है.

प्राथमिक विद्यालयइमेज कॉपीरइटJITENDRA TRIPATHI

प्रोफ़ेसर रूपरेखा वर्मा कहती हैं, “पांच सौ करोड़ और दो सौ-तीन सौ करोड़ रुपये शिक्षा पर ख़र्च करना तो किसी भी तरह से समझ में ही नहीं आता. इससे कई गुना ज़्यादा तो तीर्थ स्थलों के विकास के लिए आवंटित कर दिया गया है. साफ़ है कि प्राथमिक स्कूलों के निजीकरण के बाद अब सरकार माध्यमिक और उच्च शिक्षा का भी पूर्णतया निजीकरण कर देना चाहती है. जिनके पास पैसा होगा वो पढ़ेंगे, जिनके पास नहीं होगा, नहीं पढ़ेंगे.”

जानकारों का कहना है कि इतनी कम धनराशि में तो इन विभागों का सामान्य ख़र्च चल जाए, वही बड़ी बात है, शोध और सेमिनारों की बात तो दूर की कौड़ी है.

अपव्यय रोकने की बात

हालांकि डॉक्टर दिनेश शर्मा कहते हैं कि शोध के लिए, गुणवत्ता के लिए कोई कटौती नहीं की गई है, सिर्फ़ अपव्यय रोका गया है. लेकिन 272 करोड़ और 576 करोड़ रुपये में कितना शोध हो सकेगा और कितनी गुणवत्ता बनी रहेगी, समझ से परे है.

योगी की प्रेस वार्ताइमेज कॉपीरइटSAMEERATMAJ MISHRA

लेकिन सवाल उठता है कि इतनी बड़ी कटौती कैसे की गई है, वो भी तब जबकि माध्यमिक और उच्च शिक्षा में कर्मचारियों की ही एक बड़ी संख्या है. क्या सरकार सच में शिक्षा पर व्यय को फ़िज़ूलख़र्ची मानती है?

पैसा कहां से आए

वरिष्ठ पत्रकार योगेश मिश्र कहते हैं, “बीजेपी सरकार के एजेंडे में वैसे तो शिक्षा का मुद्दा सबसे ऊपर रहता है लेकिन किसानों की कर्ज़माफ़ी का इतना बड़ा ‘हाथी पालने’ जैसा उसने जो वादा कर लिया और दबाव में घोषणा भी करनी पड़ी, उसके लिए पैसा कहां से आए, ये बड़ी समस्या है. उन्हें लगता है कि सबसे ज़्यादा फ़िज़ूलख़र्ची शिक्षा पर ही हो रही है, सो सारी कटौती यहीं कर दी. उन्हें पता नहीं है कि इसकी प्रतिक्रिया कितनी बड़ी होगी और ये क़दम कितना आत्मघाती होगा?”

बहरहाल, सरकार आश्वस्त है कि बजट में जितनी धनराशि का निर्धारण किया गया है, वो शिक्षा विभाग के लिए पर्याप्त है और वो फ़िज़ूलख़र्ची रोककर सब ठीक कर लेगी. लेकिन सवाल उठता है कि क्या अब तक इतनी बड़ी धनराशि सिर्फ़ अपव्यय के लिए निर्धारित की जाती थी या फिर नई सरकार शिक्षा पर ख़र्च को अपव्यय समझती है?

नज़रिया: क्या मोदी के लिए चुनौती हैं योगी?

योगी आदित्यनाथ का उत्तर प्रदेश में सत्ता की शीर्ष कुर्सी तक पहुंचना हर किसी को चौंका गया था. उनका नाम मुख्यमंत्री पद के लिए आख़िरी वक़्त पर सामने आया था.

इससे पहले केंद्रीय राज्य रेल मंत्री मनोज सिन्हा का नाम लगभग तय माना जा रहा था और वो नरेंद्र मोदी की पसंद बताए जा रहे थे.

योगी को ताजमहल से नफ़रत क्यों?

मुसलमानों पर आदित्यनाथ के बयान पर विवाद

शपथ ग्रहण समारोह में मोदी शांत नज़र आए और इससे बहुतों को यह अटकल लगाने का मौका लग गया कि क्या आख़िरी वक़्त में यह फ़ैसला थोपा गया है.

लेकिन कोई इसकी कल्पना कैसे कर सकता है कि कोई मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जैसे ताकतवर प्रधानमंत्री से आगे निकल जाए?

मोदी के नक्शे कदम पर

मोदी और योगी

करीब चार महीने गुज़रने के बाद योगी एक ऐसे सिस्टम में ख़ुद को फिट करने की कोशिश करने में लगे हुए हैं, जो उनके लिए बिल्कुल अजनबी है.

गोरखपुर में एक मंदिर के महंत की भूमिका से लेकर देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य के मुख्यमंत्री बनने का उनका सफ़र अद्भुत था और इसीलिए कुछ लोगों को यह आसानी से हजम नहीं हुआ.

शायद योगी ने वही रास्ता अख्तियार किया जो मोदी ने सत्ता में आने के लिए अपनाया था. जैसे मोदी लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी जैसे कद्दावर पार्टी नेताओं को दरकिनार कर आगे निकल गए, वैसे ही योगी ने भी उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री की दौड़ में शामिल दूसरे प्रतिस्पर्धियों को पीछे छोड़ सत्ता हासिल करने में कामयाबी हासिल की.

जिस तरह से उन्होंने कट्टरपंथी हिंदू होने की अपनी छवि का इस्तेमाल किया है वो तरीका काफी हद तक नरेंद्र मोदी से मिलता-जुलता है.

नरेंद्र मोदी ने भी गोधरा के बाद बनी अपनी छवि का इस्तेमाल आख़िरकार राजनीतिक फ़ायदे के लिए किया.

संभावनाएँ

कार्टून

इसमें कोई राज़ की बात नहीं है कि गेरुआ वस्त्र पहनने वाले योगी आदित्यनाथ लखनऊ की कुर्सी पाने के लिए महत्वकांक्षी थे.

उनके कट्टर समर्थकों ने इस बात को सार्वजनिक तौर पर ज़ाहिर करने में कभी कोई कसर नहीं छोड़ी. उनके समर्थकों ने नारा दिया, “देश का नेता कैसा हो, योगी आदित्यनाथ जैसा हो.”

अभी ज़्यादा वक़्त नहीं गुजरा जब योगी के समर्थक यह कहते सुने गए कि, “उत्तर प्रदेश में रहना है तो योगी-योगी कहना होगा.”

योगी आदित्यनाथ ने जिस दिन शपथ ली, उसी दिन से उनके हिंदू युवा वाहिनी के समर्थक यह कहने लगे कि, “योगी भविष्य के प्रधानमंत्री हैं.”

दिल्ली और लखनऊ दोनों ही जगहों के राजनीतिक हलकों में 2024 में उनके प्रधानमंत्री बनने की संभावनाओं पर चर्चा शुरू हो गई थी.

उनके समर्थक यह भी कहने लगे कि 44 साल के योगी आदित्यनाथ बीजेपी के सबसे युवा चेहरे होंगे 2024 में जबकि मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उस वक्त तक 70 से ऊपर के हो जाएंगे.

यह अलग बात है कि इतनी सारी बातें होने के बावजूद योगी आदित्यनाथ ख़ुद को लखनऊ की गद्दी पर स्थापित करने के लिए अभी भी संघर्ष करते दिख रहे हैं.

दिखावटी चेतावनी?

मोदी और योगी

उनकी साफ-सुथरी छवि और प्रतिष्ठा के बावजूद योगी अब तक राज्य की लचर कानून व्यवस्था पर लगाम नहीं कस पाए हैं.

बलात्कार, हत्या, डकैती और लूट-खसोट जैसे जघन्य अपराध पूरे राज्य में चरम पर है. इसी बीच गोरक्षकों और नैतिकता के स्वंयभू ठेकेदारों की वजह से बढ़ रहा सांप्रदायिक तनाव इसमें घी का काम कर रहा है.

मोदी और योगी दोनों ही इन कथित गोरक्षकों को मौखिक रूप से चेतावनी दे रहे हैं जबकि ये उन्हीं की पार्टी से जुड़े लोग हैं.

लेकिन सच्चाई तो यह है कि इन चेतावनियों का कोई ख़ास असर होता नहीं दिख रहा.

कोई यकीन करेगा कि पार्टी के अंदर के ये उपद्रवी तत्व इतने निडर हो गए हैं कि उन्हें मोदी और योगी की कोई परवाह नहीं है?

ऐसे हालात में यह मानना क्या सही नहीं होगा कि ये चेतावनियां सिर्फ दिखावटी हैं ताकि लोगों के बीच छवि सुधार का फायदा उठाया जा सके?

उम्मीदवारी को धक्का

योगी समर्थक

जो कुछ भी हो लेकिन आख़िरकार ये योगी आदित्यनाथ के लिए ज़रूर नुकसानदायक हो सकता हैं.

सरकारी स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं होने से योगी की छवि एक ऐसे मुख्यमंत्री की बनेगी जो प्रभावी नहीं हैं.

इससे 2024 में प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी की उनकी संभावनाओं को धक्का पहुंचेगा.

इसके उलट अगर मोदी अगले 12 महीनों में अपने आप को एक ‘सफल’ मुख्यमंत्री के तौर पर पेश करने में कामयाब होते हैं तो वो 2019 में भी आश्चर्यचकित कर सकते हैं.

आखिरकार 2019 में उत्तर प्रदेश में पार्टी का प्रदर्शन कैसा होता है इसकी ज़िम्मेदारी भी योगी के ऊपर ही है.

क़तर की न्यूज़ एजेंसी को किसने हैक किया?

संयुक्त अरब अमीरात ने मई में क़तर की सरकारी न्यूज़ एजेंसी को हैक किए जाने के आरोपों को ख़ारिज़ किया है.

वाशिंगटन पोस्ट ने अमरीकी ख़ुफिया अधिकारियों के हवाले से कहा कि यूएई ने गुप्त रूप से क़तर के शासकों के ख़िलाफ अपशब्द पोस्ट किए. हालांकि यूएई ने इसे मनगढ़ंत बताया.

इस घटना की वजह से क़तर और उसके पड़ोसी मुल्क़ों के बीच तक़रार शुरू हो गई.

यूएई के विदेश मामलों के मंत्री अनवर गार्गश ने सोमवार को बीबीसी को बताया कि पोस्ट को लेकर आई रिपोर्ट सही नहीं थी.

आरोप

उन्होंने यह भी कहा कि यूएई और पांच अन्य अरब देशों ने फीफा को ऐसा कोई पत्र नहीं लिखा जिसमें क़तर को 2022 वर्ल्ड कप की मेज़बानी से बाहर करने की बात हो.

स्विस न्यूज़ नेटवर्क ‘द लोकल’ के मुताबिक़, शनिवार को एक वेबसाइट पर फीफा के प्रेसिडेंट गियान्नी इन्फैंटिनो के हवाले से एक फ़र्जी ख़बर लिखी गई थी.

क़तर संकट: सरकारी न्यूज़ एजेंसी हैक करने से UAE का इनकारइमेज कॉपीरइटQNA/INSTAGRAM
Image captionइंस्टाग्राम पर शेयर की गई फ़ेक न्यूज़

रूस के हैकर?

वॉशिंगटन पोस्ट ने अमरीकी खुफिया अधिकारी के नाम का ज़िक्र किए बगैर कहा कि हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट से पता चला कि 23 मई को यूएई सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों की एक मीटिंग में क़तर की सरकारी मीडिया वेबसाइट को हैक करने की योजना पर चर्चा हुई थी.

इस मामले में क़तर के एक अधिकारी ने कहा कि एजेंसी को किसी अज्ञात ने हैक किया था.

यूएई, सऊदी अरब, बहराइन और मिस्र ने क़तर की मीडिया पर रोक लगा दी थी. दो सप्ताह बाद चारों देशों ने क़तर पर आतंकवाद का समर्थन करने और ईरान से संबंध रखने के आरोप में अपने संबंध तोड़ लिए.

अमरीकी खुफिया अधिकारियों ने वॉशिंगटन पोस्ट को बताया कि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यूएई ने क़तर की न्य़ूज एजेंसी खुद हैक की है या किसी अन्य को पैसे देकर ये काम करवाया है.

बीते महीने द गार्डियन की एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि अमरीकी केंद्रीय जांच एजेंसी (एफ़बीआई) ने पता लगाया है कि इस हैकिंग के पीछे रूस के फ्रीलांस हैकर्स का हाथ है.

लंदन: ट्रेन का इंतजार कर रही मुस्लिम महिला का हिजाब उतारने की कोशिश

ब्रितानी पुलिस ने बेकर स्ट्रीट रेलवे स्टेशन पर मुस्लिम महिला का हिजाब उतारने की कोशिश को नफ़रत से जुड़ी घटना बताया है.

एक शख़्स ने लंदन के बेकर स्ट्रीट स्टेशन पर अपनी दोस्तों के साथ ट्रेन का इंतज़ार कर रही अनिसो अब्दुलकदीर का हिजाब उतारने की कोशिश की थी.

बाद में पीड़िता ने कथित हमलावर की तस्वीर ट्वीट की और लोगों से अपील की कि तस्वीर को ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करें.

ब्रिटिश ट्रांसपोर्ट पुलिस ने पुष्टि की है कि घटना की जांच की जा रही है.

अनिसो अब्दुलकदीर ने ट्वीट किया, “बेकर स्ट्रीट स्टेशन पर इस आदमी ने जबरन मेरा हिजाब खींचने की कोशिश की तो मैंने हिजाब कसकर पकड़ लिया. उसने मुझे चोट पहुंचाई.”

‘हिजाब वाली बेचारी मुसलमान महिला’

कैटवॉक में हिजाब से नाराज़ मुस्लिम महिलाएं

लंदन: ट्रेन का इंतजार कर रही मुस्लिम महिला का हिजाब उतारने की कोशिश

उन्होंने आगे लिखा, “उसने मुझे और मेरी दोस्तों को अपशब्द कहे. उसने मेरी एक दोस्त का सिर दीवार से भिड़ाया और उसके चेहरे पर थूक दिया.”

उनके पोस्ट को 24,000 से भी ज्यादा लोगों ने रीट्वीट किया है.

हिजाब पहनने वालों को बैन कर सकेंगी कंपनी

ट्रंप के अमरीका में हिजाब पहन दिखाई ताकत

ब्रिटिश ट्रांसपोर्ट पुलिस के प्रवक्ता ने कहा कि मामले की जांच नफ़रत फैलाने वाले अपराध के तौर पर की जा रही है.

उन्होंने कहा, ”ऐसा व्यवहार बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. हमें घटना की शिकायत मिली है. जांच की जा रही है.”

क़ब्रिस्तान पर कब्ज़े की अफ़वाह से वाराणसी में सांप्रदायिक संघर्ष

क़ब्रिस्तान पर क़ब्ज़े की कथित अफ़वाह के चलते वाराणसी में रविवार रात दो समुदायों में जमकर संघर्ष हुआ. हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा और आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा.

वाराणसी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरके भारद्वाज ने बीबीसी को बताया कि अफ़वाह फैलाने के आरोप में मुस्लिम समुदाय के कई अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया गया है और गिरफ़्तारी की कार्रवाई की जा रही है.

पुलिस के मुताबिक हिंसा की शुरुआत इस अफ़वाह के चलते हुए कि सिगरा थाना क्षेत्र में पड़ने वाले क़ब्रिस्तान के बाहर की ज़मीन पर कोई अवैध कब्ज़ा कर रहा है.

इस अफ़वाह के चलते मुस्लिम समुदाय के कई लोग इकट्ठा हो गए और नारेबाज़ी करने लगे. कुछ ही देर में हिन्दू समुदाय के लोग भी बड़ी संख्या में इकट्ठा हो गए और फिर दोनों पक्षों में टकराव शुरू हो गया.

इस दौरान न सिर्फ़ पत्थरबाज़ी और आगज़नी हुई बल्कि कई वाहनों में भी तोड़-फोड़ की गई.

क़ब्रिस्तान के कब्ज़े की अफ़वाह से वाराणसी में सांप्रदायिक संघर्ष

गाय बांधने के बाद अफ़वाह

वाराणसी के ज़िलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने बीबीसी को बताया कि फ़िलहाल स्थिति नियंत्रण में है और लोगों से अफ़वाहों पर ध्यान न देने की अपील की जा रही है.

बताया जा रहा है कि विवादित ज़मीन पर पास में ही रहने वाले एक वकील महेंद्र सिंह बारिश के चलते टूट गए घर के एक हिस्से की मरम्मत करा रहे थे और इसीलिए उन्होंने क़ब्रिस्तान के पास अपनी गायें बांध दी.

पुलिस के मुताबिक इसी घटना को क़ब्रिस्तान पर कब्ज़े की अफ़वाह के तौर पर प्रचारित किया गया और देखते-देखते इतना बड़ा विवाद हो गया.

इलाक़े में तनाव को देखते हुए कई थानों की पुलिस और पीएसी तैनात की गई है.