हसीन जहां ने FB पर साधा निशाना, कहा- बिना मंजूरी ब्लॉक हुआ अकाउंट

Monday, March 19th, 2018, 6:11 pm

कोलकाता। पत्नी हसीन जहां की शिकायत के बाद मोहम्मद शमी के खिलाफ गंभीर धाराओं में मामला दर्ज हुआ है। ऐसे में उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इस बीच पत्नी हसीन ने कहा है कि उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर मोहम्मद शमी से जुड़ी जो तस्वीरें डाली हैं। वो डिलीट हो गई हैं।

मोहम्मद शमी के खिलाफ पत्नी ने पुलिस में शिकायत करने से पहले अपने फेसबुक अकाउंट पर शमी से जुड़ी तस्वीरें पोस्ट की थीं। ताकि वो बतौर सबूत इसका इस्तेमाल कर सकें। जब से पत्नी ने सोशल मीडिया पर शमी के खिलाफ आरोप लगाना शुरू किए हैं। तब से ही ये खबर मीडिया की सुर्खियां बनी हुई हैं। इस घटना से बतौर क्रिकेटर उनकी छवि को काफी नुकसान पहुंचा है।

हसीन जहां ने कुछ दिन पहले अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पति शमी की कुछ तस्वीरें पोस्ट करते हुए उन पर विवाहेत्तर संबंधों के आरोप लगाए। हसीन जहां ने कई लड़कियों के साथ शमी की तस्वीरें और व्हाट्सऐप चैट फेसबुक पर पोस्ट की थी। जिसके बाद बवाल मच गया। इसके बाद हसीन जहां ने मीडिया में खुलकर पति शमी पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि मैंने कई लोगों से मदद मांगी, मगर मदद नहीं मिलने की वजह से मुझे मजबूरी में सोशल मीडिया का सहारा लेना पड़ा। मगर अचानक फेसबुक ने मेरा अकाउंट ब्लॉक कर दिया और बिना मुझसे पूछे उन तस्वीरें को भी डिलीट कर दिया गया।

ये खबर सामने आने के बाद शमी की केवल छवि को नुकसान नहीं पहुंचा है, बल्कि बीसीसीआई ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से शमी को बाहर कर दिया।

गैर जमानती धाराओं में दर्ज हुआ मामला-

हसीन जहां की शिकायत के आधार पर शमी व उनके परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ जादवपुर थाने में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 498ए (दहेज से संबंधित घरेलू हिंसा), 323 (मारपीट), 307 (हत्या की कोशिश), 376 (दुष्कर्म), 506 (जान से मारने की धमकी), 328 (जहर देना) और 34 (आपराधिक साजिश के तहत सामूहिक अत्याचार) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

शमी के अलावा उनके परिवार के चार अन्य लोग कौन हैं, इस बारे में पुलिस की ओर से अभी साफ नहीं किया गया है। कानूनी जानकारों के मुताबिक इनमें से धारा 307, 328 और 376 गैरजमानती हैं। ऐसे में शमी व उनके परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी लगभग तय है, बशर्ते उन्हें हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट से अग्रिम जमानत न मिले।